Thursday, March 20, 2008

गुर्खा फोर्ट की हाइक

अशोक गुप्ता़
गुर्खा फोर्ट की हाइक पर,
जून की भकभकाती गर्मी में,
विक्टर और मैं।

नदी सूखकर
छोटे छोटे टुकड़ों में
सिकुड़ गई थी।
पानी में गोल पत्थरों पर
धूप चमक रही थी।

छोटी छोटी गुलाबी मछलियां
अपने नन्हे मुंहों में पानी
निगलते हुए दौड़ रहीं थीं,
इधर उधर, लाचार और भूखी।

वे कांटे की ओर भागीं,
काला, नुकीला कांटा
उनके आतुर खुले मुंह
को साफ चीर गया।

यह आसान था, बहुत आसान,
हमने कितनी ही पकड़ीं
और उन्हे फेंक दिया,
स्कूल लौटने के रास्ते पर।

No comments: