Skip to main content

बादल और कल्लू जी

- डॉ० जी०सी० भट्टाचार्य
एक दिन शाम को कल्लू जी के सुपुत्र लल्लू स्कूल से घर लौटकर ही ज्यों चीखना चिल्लाना शुरू किया कि घर को सिर पर नहीं आसमान पर ही उठा लिया तो आखिरकार कल्लूजी का ध्यान भंग हो ही गया। वे नाराज तो हुए लेकिन बड़े शान्तभाव से पूछे - ''बेटा, बात क्या है?''
''मेरे जूते और क्या, पापा? मेरे जूते फट गए हैं। आज ही आपको मुझे नए जूते मँगवाकर देने होंगे, पापा, नहीं तो मैं स्कूल जाने से रहा। वहाँ मुझे सब लड़के कंगाल...दरिद्र कहकर चिढ़ाते हैं।''
कल्लू की पत्नी भी बेटे की तरफ हो ली और बैठे ठाले बेचारे कल्लू जी पर आफत ही आ पड़ी महीने की आखिरी के दिनों में। वे मौन हो गए। फिर बोले - ''घबड़ाओ मत बेटे, कल तुम्हें वैसे भी स्कूल नहीं जाना है और ... फिर परसों तक ... कोई न कोई इन्तजाम हो ही जाना है।''
''वह क्यों, पापा? कल मैं स्कूल क्यों नहीं जाऊगा?''
''क्योंकि कल इतवार है, बेटा।''
इससे पहले कि कोई उनसे यह पूछ लेता कि फिर वह छुट्टी के दिन जूते कहाँ से खरीद लाएँगे, कल्लू जी उठे और झट से एक चप्पल पहनकर घर से रफूचक्कर हो लिए।
लेकिन आश्चर्य की बात देखिए कि सोमवार को लल्लू नए चमचमाते जूते पहनकर ही स्कूल गया और माँ, बेटा दोनों खुश। हुई न बात कुछ अजीब सी। गृहस्थी चलानी हो तो ऐसी अनेक कलाकारी दिखानी होती है, लेकिन कल्लू जी के करामात को बिना जाने भला मुझे चैन कहाँ? अगले दिन उनसे पूछ ही लिया पर भला वे कब बताने वाले थे। इधर कई दिनों से वे कुछ नाराज भी चल रहे थे मुझ पर क्योंकि मैंने उनसे उधार के पड़े पैसे लौटाने को जो कह दिया था। मैंने सोचा - ''अब कल्लू जी न बताते हैं तो न सही। मुझे क्या? लेकिन वह क्या है कि एक कहावत है न? ''चिता दहति निर्जीव कँह, चिन्ता जीव समेट'', मेरी भी वही दशा हुई।
दो दिन बाद मेरा भतीजा चंचल अपने तेज तर्रार दोस्त बादल को लेकर घर पर आया तो वह मुझे देखकर भाँप लिया मेरी मनःस्थिति, बादल की जिद पर मुझे पूरी बात बतानी पड़ी। सुनकर वह मुस्कराकर कहा - ''इस पर क्यों आप चिन्तित होते हैं, चाचाजी? मैं परसों तक यह भेद आपको न बता दिया तो मेरा नाम बादल नहीं।'' कहकर वह चंचल के साथ बिना खेले ही चल पड़ा।
फिर तो करिश्मा ही हो गया।
एक दिन बाद सुबह ही चंचल आ पहुँचा और उसके आने के पाँच मिनट बाद कल्लू जी खुद आ धमके। ''अरे ओ पण्डितजी, घर पर हो कि नहीं? हो तो निकलो बाहर झट से अंडे से चूजे की तरह।''
''अरे, कल्लू जी। आप? सुबह सुबह, आइए, बैठिए। बात क्या है?''
''अरे, बात तो तुम्हें बतानी है रे पण्डितजी, सुबह का बुलावा तो भेजा तुम्हीं ने था।''
''मैं...मैंने आपको बुलाया था ...?''
''नहीं तो क्या तुम्हारे भूत ने? अब झट से कुछ 'टको' भी यार, मुझे जल्दी है।''
तभी चंचल ने सामने आकर कहा - ''भूत नहीं चाचाजी, भविष्य ने, यानि कि बेटे ने बुलवाया था आपको बाप ने नहीं।''
''तुमने ... भला क्यों? '' कल्लू जी पहली बार कुछ विस्मित हुए। कल्लू जी चंचल को ही बादल और मेरा बेटा जानते थे।
चंचल ने अपने सुन्दर चेहरे में एक और सुन्दर भाव लाकर कहा - ''माफ कीजिएगा, चाचाजी, कुछ तो घर गृहस्थी मुझे ही देखनी पड़ती है। क्या करूँ मेरी माँ होती तो ... कहते हुए वह रोने लगा।
कल्लू जी एकदम से पिघल गए। बोले -''अरे, दिल छोटा न करो, बेटा, मैं हूँ न तुम्हारे कल्लू चाचा, मैं कब काम आऊँगा भला? देखो ने, सुबह ज्यों ही लल्लू से बुलाने की बात सुनी, दौड़ा चला आया कि नहीं?''
''हाँ, चाचा जी। मेरे पापा तो हैं भी बड़े सीधे और भोले आदमी। लोग उसी का फायदा उठाते रहते हैं नाजायज। लेकर देते समय मुकर जाते हैं।''
''क्या मतलब है तुम्हारा, बेटा, मैं तो कुछ समझा नहीं...।'' कहते हुए कल्लू जी रुक गए। शायद कुछ खतरा भाँपकर।
चंचल कहाँ रुकने वाला था - वह झट से कहा - ''अब क्या आपकी कहूँ मैं चाचाजी? छोटा मुँह, बड़ी बात। अब आप ही देखिए न, कुछ शायद आपके पास भी बनता हो, पापा का पैसा, वह लल्लू के स्कूल में दाखिले के समय ... शायद आठ सौ लगा था, न?'' मुस्कराते हुए चंचल के सुन्दर मुखचन्द्र ने कल्लू जी को बेहद परेशान कर दिया।
''न...न...कौन? किसने कह दिया तुम्हें यह सब फिजूल की बातें? यह क्या हुआ काम तुम्हारा, पण्डितजी? सुबह घर बुलाकर बच्चे से मेरा अपमान करवाते हो इबलिश की तरह।'' कल्लूजी नाराज हो उठे।
राजकुमार जैसी सुन्दर चन्द्रमुख पर चंचल ने विनती का भाव लाकर कहा -''आप नाराज न हो, चाचाजी प्लीज। मुझे माफ कर दें। दरअसल मुझे एक कथा सुनानी थी आज, इसलिए आपको बुलवाना पड़ा था। सो मैं शुरू करता हूँ आपकी इजाजत से। उस दिन शनिवार था, सुनिए पापा आप भी, कल्लू चाचा के पास न एक पैसा था और न किसी से कुछ माँगने की स्थिति में ही थे। कारण आप समझ लीजिए। वे एक चप्पल पहनकर घर से निकल तो लिए लेकिन जाए तो जाए कहाँ? सोच विचारकर वे रामू मोची के घर पहुँचे। वह उनका पुराना मित्र था और घर पर जूते चप्पल नाप लेकर खुद ही बना कर बेचा करता था। कुछ लोग इसे ठीक भी मानते थे क्योंकि जूता बिल्कुल सही नाप का और आरामदायक बना देता था वह। पैसा भी कुछ कम ही लेता था। अब पैसे तो थे नहीं सो कल्लू चाचा ने उनसे एक समझौता करने लगे कि ...।''
''अरे, अरे, रुक जा मेरे बेटे, रुक जा छुक-छुक रेलगाड़ी, यह सब तुम क्या मनगढ़न्त कहानी सुनाए जा रहे हो, भला? आँय, मैं ठहरा व्यस्त आदमी, सुबह-सुबह बैठकर यह सब कहाँ सुन सकता? मैं तो अपने यार पण्डितजी से मिलने आया था, ज+रा काम था।'' कल्लू जी चंचल को टोककर एकदम से खड़े हो गए।
''हाँ भाई पण्डितजी, तुम्हें अपना उधार चुकाने ही तो आया था मैं आज, सो भूल रहा था। यह ...यह लो, गिन लो भाई, मैं चला ... फिर मिलता हूँ ...।'' कहते हुए कल्लूजी उड़न पटाखे की तरह गोल हो गए। मैं हाथ में आठ सौ के करारे नोटों को लेकर चंचल के दूधिया गुलाबी चेहरे को देखता जा रहा था कि दरवाजे पर बादल प्रगट हो गया। वह अन्दर आकर मुझसे लिपट गया खिलखिलाकर हँसते हुए। अब चंचल भी हँस पड़ा। मुझे तो बड़ी हैरानी हो रही थी। नाराज होकर कहा - ''आज इतनी हँसी क्यों छूट रही है तुम्हारी, बादल? किए क्या हो कल्लूजी के साथ दुष्टता, पहले बताओ। नहीं तो वह कसकर गुदगुदी लगाऊँगा तुम्हें कि ...।'' सुनते ही बादल हँसते हुए भाग खड़ा हुआ।
''अरे बाप रे, नहीं चाचाजी। इ पर फिर गुदगुदी। मैं तो मर ही जाऊँगा ... आप अपने इस सुन्दर सलोने भतीजे से ही पूरी बात सुन लीजिए, मैं चला हि..हि..हि।''
मैंने चंचल का हाथ पकड़ कर पास खींच लिया। ÷÷अब बोलो तुम ही कि माँजरा क्या है?''
चंचल ने कहा -÷÷चाचाजी, कल्लू चाचा ने पिछली बार मुझे उल्लू बनाकर रसगुल्ले के पैसे वसूल लिए थे न, इसलिए बादल मुझसे सब कुछ कहलवा रहा था, खुद सामने न आकर। असल में वह है एक नम्बर का जासूस। लल्लू के स्कूल में वह खुद जाकर उससे न जाने कैसे दोस्ती करके रामू मोची तक पहुँच कर सारा भेद मालूम कर लिया था, एक ही दिन में।''
''पर भेद क्या है, यह तो बताओ, चंचल।''
''आप अब भी नहीं समझे चाचाजी?'' रामू मोची से कल्लू चाचा यही समझौता किए थे कि वे उन्हें एक बढ़िया जूता लाकर देंगे। बदले में वह लल्लू के लिए एक जूता बना देगा सस्ता वाला। रामू को तो फायदा ही था। वह तैयार हो गया। फिर क्या था, चप्पल वहीं छोड़कर कल्लू चाचा संकट मोचन मन्दिर चले गए शाम के बाद दर्शन करने। शनिवार वहाँ बहुत भीड़ होती है। सो लौटते वक्त किसी का - नया चमचमाता जूता पहन लेना तो बच्चों का खेल है।
कम से कम पाँच छः सौ के तो थे ही जूते। उसे रामू को देकर चप्पल पहने वे घर आ गए और अगले दिन सुबह लल्लू को साथ ले जाकर उसके पैर का नाप दे आए। फिर क्या था? सोमवार सुबह नए जूते तैयार। अधिक से अधिक दो ढ़ाई सौ के पड़े होंगे। कल्लू चाचाजी की कल तनख्वाह मिली तो लल्लू से बादल ने उनको बुला भेजा और मुझे कथावाचन के लिए भेज दिया। हि..हि.. सुनते ही बेचारे कल्लू चाचा भीगी बिल्ली बनकर .... हि.. हि.. हि।''
*******************

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…