Skip to main content

विश्व सुन्दरी का नगरागमन

- शास्त्री नित्यगोपाल कटारे
आज जब कि सारा नगर विश्व सुन्दरी के आगमन पर अपने पलक पाँवड़े बिछाकर स्वागत की तैयारी कर रहा है। चारों ओर उत्साह ही उत्साह है। मुख्य मार्गों पर बड़े-बड़े स्वागत द्वारा बनाये गए हैं। न जाने कितनी मारुतियाँ इधर से उधर दौड़ रही हैं। ऑटो रिक्शा में लाउडस्पीकर लगाकर कई बेरोजगार नवयुवक नई विश्व सुन्दरी के स्वागत की अपील चिल्ला-चिल्ला कर रहे हैं। सारा नगर मारे खुशी के फूला नहीं समा रहा है। ऐसा लग रहा है जैसे कोई महामानव नगर में पहली बार पदार्पण कर रहा हो। ऐसे उत्सवी माहौल में भी विपन्न बुद्धि मुँह लटकाये चिन्तायुक्त मुद्रा में इन मूर्खतापूर्ण गतिविधियों को न चाहते हुये भी देखने को विवश हैं। हमने उसकी दुःखती नस छेड़ते हुये पूछा -विपन्न बुद्धि! तुम नहीं चल रहे विश्व सुनदरी के दर्शन करने? कौन कर रहा है इतना फजूल खर्च? कौन है विश्व सुन्दरी? .... कल तक जो हमारे मुहल्ले में नाक पोंछते घूमती रहती थी .... कभी किसी ने उसे विश्व सुन्दरी तो क्या वार्ड सुन्दरी भी नहीं माना ..... वह अचानक रातोंरात विश्व सुन्दरी कैसे बन गई? उससे लाख गुनी सौन्दर्य की धनी बालायें किसी की नजर न लग जाये' इस डर से अपने प्राकृतिक सौन्दर्य पर एक काली टिपकी लगाकर उसे छुपाने की कोशिश करती हुई अध्ययनरत है। तुम किसका स्वागत कर रहे हो? जो सुन्दरी अपने नगर की मर्यादा को दुनिया के चुने हुये लफंगों के सामने निर्लज्जतापूर्वक तोड़ आयी है, जो ईश्वर प्रदत्त सौन्दर्य का पोस्टमार्टम कराकर लौटी है उसका स्वात कर रहे हों? जिस देश की नारियाँ अपने शारीरिक अवयवों को हवा तक लगने में संकोच का अनुभव करती है, उन अंगों का यह तथाकथित विश्व सुन्दरी इंचटेप से नापतौल करवा कर बेहूदा प्रदर्शन कर लौटी है, उसका स्वागत करने जा रहे हो ..... और यदि वह सचमुच सुन्दरी है भी तो इसमें हल्ला मचाने की क्या जरूरत है? सौन्दर्य तो हमारे यहाँ बिखरा पड़ा है ... मालवा के ग्रामों में, हिमाचल के पर्वतीय क्षेत्रों में, कश्मीर की वादियों में, उत्तरांचल की घाटियों में, राजस्थान के नगरों में जहाँ-तहाँ सौन्दर्य ही सौन्दर्य है। किन्तु इसमें प्रतियोगिता की क्या बात है? निर्लज्जता की अवश्य प्रतियोगिता हो सकती है। विश्व निर्लज्ज प्रतियोगिता इसमें जो सबसे अधिक निर्लज्जता का प्रदर्शन कर सके उसे विश्व-निर्लज्ज की उपाधि से अलंकृत किया जाना चाहिये।
लज्जा नारी का आभूषण है, जो उस आभूषण को हँसते-हँसते उतार कर फेंक दे उसका स्वागत कौन करेगा? स्वागत करना ही है तो मल्लेश्वरी का करो, जिसने अपने शौर्य से विश्व ओलम्पिक में भारत का सम्मान बचाया है। स्वागत करना है तो उन सुन्दरियों का करो जो विज्ञान और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में पूरे विश्व में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही है। स्वागत उन सुन्दरियों का करो जो खेतों में, फैक्टरियों में, चाय बागानों में अपने परिश्रम से राष्ट्रीय उत्पादन में वृद्धि कर रही है। अन्तर्राष्ट्रीय माफिया गिरोह के निर्देशन में बेहूदा कमर मटकाने वालों का क्या स्वागत? विपन्न बुद्धि गुस्से में था उसे समझाते हुए कहा - देखो विपन्न बुद्धि! यह इक्कीसवीं सदी है .... यह हल्ला की सदी है .... जो जितना हल्ला मचायेगा, उतना लाभ पायेगा। आप क्या हैं? यह इतना महत्त्वपूर्ण नहीं है, अपितु आप को लोग किस रूप में जानते हैं, यह ज्यादा महत्त्वपूर्ण है। हल्ला मचाइये और चुनाव जीतिये .... हल्ला मचाइये और अपना घटिया उत्पादन बेचिये। इसी प्रकार यह सौन्दर्य प्रतियोगिता भी एक हल्ला है। इसमें जुड़े हुए समस्त लोगों का अपना-अपना स्वार्थ होता है। बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ पहले यह आयोजन करवाती हैं फिर विश्व सुन्दरी का हल्ला मचाती हैं। सारे देश में ग्लैमर उत्पन्न करती हैं फिर धीरे से विश्व सुन्दरी अपने सौन्दर्य का राज खोलती है। किस साबुन से उसकी त्वचा निखरी है ..... कौन से शैम्पू से उसके बाल चमके हैं ..... किस कम्पनी के वस्त्र उसे पसन्द हैं ..... कौन सी लिपिस्टिक से विश्व सुन्दरी बना जा सकता है। .... आदि आदि। भारत के सीधे सादे युवा-युवतियों को बताती हैं।
बेचारे अक्ल के कच्चे, हमारे बच्चे वो सब सामान खरीद डालते हैं। इस तरह के कार्य के लिये भारत से अच्छा बाजार विश्व में और कहीं उपलब्ध नहीं है। इसलिये हर साल इस प्रतियोगिता में भारतीय युवती ही विश्व सुन्दरी बन रही है। अब हमें ही समझना होगा इस दुष्चक्र को।
*****************************************

Comments

sidheshwer said…
बढिया जी बढिया

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…