Skip to main content

अखिल भारतीय सर्वहारा कवि संगठन

- ईश्वर दयाल जायसवाल
हमारे मुल्क महान्‌ में अदना चपरासी से लेकर नौकर शाह तक, मजदूर से लेकर उद्योगपति तक, छात्र से लेकर शिक्षाविद् तक, जाति-बिरादरी से लेकर राजनीतिक पार्टियों तक के अपने-अपने संगठन हैं। जरा-जरा-सी बात पर ''...यूनियन जिन्दाबाद!'' के नारे लगने लगते हैं, हड़तालें होने लगतीं हैं। लेकिन अफसोस! हमारे मुल्क महान्‌ में कवियों-लेखकों का कोई भी, किसी भी प्रकार का संगठन सदियों से आज तक नहीं बना है। इस निरीह विवेकशील प्राणी का कोई भी चाहे जितना शोषण करें, उफ्‌ तक करने वाले नहीं है। यहाँ तक कि इनके अपने ही बिरादरीगण इनका शोषण करते हैं।
नगर के किसी भी मुहल्ले में यदि कोई टुट पुजिया राजनेता टपकता है तो नगर के मुहाने पर ही उसके समर्थक कार्यकर्ताओं का जमावड़ा हो जाता है, जिन्दाबाद के नारे लगने लगते हैं और उसको फूल-मालाओं से इतना लादनें लगते हैं कि सभा स्थल तक आते-आते फूल मालाओं का वजन उसके मूल वजन से दो गुना हो जाता है। उसके रूखसती पर एक मोटी रकम चन्दे के रूप में दे दी जाती है।
लेकिन कवि सम्मेलनों के आयोजकों के बुलावे पर कोई कवि जब कवि-सम्मेलन स्थल पर थका-माँदा पहुँचता है तब उसके स्वागत की बात तो दूर, दो-चार श्रोताओं को छोड़कर आयोजकों का कहीं कोई अता-पता नहीं रहता। कवि-सम्मेलन की समाप्ति पर कवियों को अपने पारिश्रमिक के लिए आयोजकों को खोजना पड़ता हैं।
इस निरीह विवेकशील प्राणी के लिए मेरा मन हमेशा से आहत रहा है। इस आहत मन को तब और ठेस पहुँचती है जब कवि सम्मेलनों में कवियों का स्वागत फटे-पुराने जूतों, चप्पलों, सैंडिलों, सड़े-गले फलों-सब्जियों से होता है।
एक टू-इन-वन कवि सम्मेलन एवं मुशायरे में घटना कुछ ऐसी घटी कि मैं उसी क्षण कवियों-शायरों को संगठित करने हेतु एक मंच बनाने को उतावला हो गया। घटना कुछ इस प्रकार घटी थी -
एक परिस्थितिजन्य क्षीणकाय शरीरधारी कवि ने जैसे ही धीमी गति वाले समाचार उद्घोषक के अंदाज में वीर रस की कविता पढ़ना शुरू किया, बेचारे के भाग्य ने कुछ ऐसा खिलवाड़ किया कि ध्वनि-विस्तारक यंत्रा से आवाज आना बंद हो गयी। जैसे-तैसे माइक वाले ने ध्वनि विस्तारक यंत्रा का वाल्यूम बढ़ाकर आवाज का संचार कर दिया। कवि महाशय के वीर रस के शब्दों ने जब श्रोताओं के कानों को उद्वेलित किया तो श्रोताओं में ओज का ऐसा जोश जगा कि उस जोश के वशीभूत श्रोताओं की ओर से शोर रूपी ध्वनि का धमाका होने लगा जैसे जंगल में जानवरों के विशेष समूह एक स्वर में हुंकार भरते हैं, और उसी जोश में श्रोताओं ने ऐसा आपा खोया कि क्षण भर में ही कवि सम्मेलन मंच रण थम्भौर बन गया। मंच जूतों-चप्पलों, सैंडिलों, सड़ी-गली सब्जियों से पट गया।
बस इसी दृश्य का मेरे मानस पटल पर ऐसा प्रभाव पड़ा कि वहाँ से लौटने के बाद इन निरीह विवेकशील प्राणियों का संगठन बनाने को उतावला हो गया। अगले दिन संगठन का प्रारूप तैयार कर डाला और नामकरण भी कर डाला-अखिल भारतीय सर्वहारा कवि संगठन
संगठन की नियमावली में जो प्रस्ताव प्रस्तुत किए गये हैं वह इस प्रकार हैं -
देश के सभी कवि-सम्मेलनों, मुशायरों के आयोजक, कवियों-शायरों को पारिश्रमिक धनराशि एक समान दें, साथ ही कवियों के सम्पूर्ण पारिश्रमिक धनराशि मय यात्रा भत्ता के बतौर अग्रिम भेजना होगा। इससे कवियों को यह फायदा होगा कि कवि-सम्मेलन की समाप्ति पर कवियों को अपने पारिश्रमिक के लिए आयोजकों को खोजना नहीं पड़ेगा।
कवियों-शायरों-लेखकों को कवि सम्मेलनों, सेमिनारों में जाने के लिए केन्द्र सरकार की ओर से निःशुल्क यात्रा करने की व्यवस्था करनी होगी। इसके लिए वायुयानों, रेलगाड़ियों, रोडवेज की बसों में यात्रा करने के लिए स्थाई रूप से निःशुल्क यात्रा पास जारी करना होगा।
देश में जितने भी समाचार पत्र छपते हैं, उसमें पूरे एक पृष्ठ में नियमित रूप से ऐसे सर्वहारा कवियों-शायरों की रचनाएँ छापी जाएं, जो कवि सम्मेलनों एवं मुशायरों को उखाड़ने में महारत हासिल किए हैं।
देश के सभी सर्वहारा कवियों-शायरों-लेखकों को सरकार की ओर से एक निश्चित राशि गुजारा भत्ता के रूप में देना अनिवार्य होगा ताकि उनके परिवार का भरण-पोषण होता रहे और कवि, लेखक महाशय अपने घरेलू खर्चों के झंझटों से निश्चिंत होकर दिन-रात अपनी रचना में ही डूबे रहें।
जो सर्वहारा कवि-शायर दूसरों की रचना चुराकर कवि सम्मेलनों-मुशायरों में पढ़ते हैं, उनकी सुरक्षा व्यवस्था में सरकारी अंगरक्षकों की नियुक्ति की जाए।
कवि सम्मेलनों-मुशायरों में जो भी श्रोता आएं वे या तो नंगे पैर आएं या नए जूते-चप्पल, सैंडिल पहन कर आएं। फलों में केवल संतरे, अंगूर, केले, रसभरी ही लाएं।
प्रायः सभी कवियों, शायरों, लेखकों की प्रसिद्धि में नारी की विशेष भूमिका रही है, (अतीत के कालीदास, तुलसीदास साक्षी हैं)। उनके लेखन में निरन्तर निखार लाने का श्रेय उनकी पत्नियों को है। इस बात को दृष्टिकोण में रखते हुए जब भी किसी कवि, शायर या लेखक को सम्मानित किया जाए तो अंग-वस्त्र के नाम पर शाल, कुर्ता-पायजामा आदि न देकर उनको साड़ी से सम्मानित किया जाए। इसका दूरगामी प्रभाव यह होगा कि कविगण जब अपने हाथ में साड़ी को लेकर घर पहुँचेंगे तो उनकी पत्नियां रात्रि भर खर्राटे मारकर सोने के बजाए रात्रि भर जागती रहेंगी और अपने प्रियतम कवि, शायर, लेखक का बेसब्री से इंतजार करती रहेंगी। साथ ही हर पल हर दिन उन्हें लेखन के प्रति पे्ररित करती रहेंगी।
अखिल भारतीय सर्वहारा कवि संगठन की प्रबन्ध कार्यकारिणी समिति में समर्पित कवियों, शायरों एवं लेखकों को हार्दिक अभिलाषा है कि अखिल भारतीय सर्वहारा कवि संगठन के अध्यक्ष पद पर हिन्दी साहित्य जगत के अंतर्राष्ट्रीय कवि भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी, महासचिव पद पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री विश्वनाथ प्रताप सिंह एवं संरक्षक हमारे मुल्क महान्‌ के राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को बगैर उनकी अनुमति एवं सहमति के आजीवन आरक्षित कर दिया जाए।
संयोजक - अदबी विचार मंचमोहल्ला - हयातगंज,टाण्डा, अम्बेडकर नगर, (उ०प्र०)
**********************************

Comments

हिंदी व्यंग्य की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार हैं इस तरह की रचनाएँ. इनमें न तो अपने समय की पकड़ है और न ही विचारों की जकड है.

- विनोद साव
हिंदी व्यंग्य की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार हैं इस तरह की रचनाएँ. इनमें न तो अपने समय की पकड़ है और न ही विचारों की जकड है.

- विनोद साव

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …