Sunday, March 16, 2008

बँटवारा

- सुशान्त सुप्रिय
मेरा शरीर सड़क पर पड़ा था। माथे पर चोट का निशान था। कमीज पर खून के छींटे थे। मेरे चारों ओर भीड़ जमा थी। भीड़ उत्तेजित थी। देखते ही देखते भीड़ दो हिस्सों में बँट गई। एक हिस्सा मुझे हिन्दू बता रहा था। केसरिया झंडे लहरा रहा था। दूसरा हिस्सा मुझे मुसलमान बता रहा था। हरे झंडे लहरा रहा था। एक हिस्से ने कहा - इसे मुसलमानों ने मारा है। यह हिन्दू है। इसे जलाया जाएगा। इस पर हमारा हक है। दूसरा हिस्सा गरजा - इसे काफिरों ने मारा है। यह हमारा मुसलमान भाई है। इसे दफनाया जाएगा। इस पर हमारा हक है। फिर 'जय श्री राम' और'अल्लाहो अकबर' के नारे लगने लगे।
मैं पास ही खड़ा यह तमाशा देख रहा था। क्या मैं मर चुका था? भीड़ की प्रतिक्रिया से तो यही लगता था।
मैंने कहा - भाईयो, मैं मर गया हूँ तो भी पहले मुझे अस्पताल तो ले चलो। कम से कम मेरा'पोस्ट-मॉर्टम' ही हो जाए। पता तो चले कि मैं कैसे मरा।
भीड़ बोली - ना बाबा ना। हम तुम्हें अस्पताल नहीं ले जा सकते। यह 'पुलिस केस' है। बेकार में कोर्ट-कचहरी के चक्कर काटने पडेंगे।
एक बार फिर 'जय श्री राम' और 'अल्लाहो अकबर' के नारे गूँजने लगे। भीड़ एक दूसरे के खून की प्यासी होती जा रही थी। डर के मारे मैं पास के एक पेड़ पर चढ़ गया। इन जुनूनियों का क्या भरोसा। मरे हुए को कहीं दोबारा ना मार दें।
मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूँ। सड़क पर जो पड़ा था वह मेरा ही शरीर था। फिर मेरे शरीर को जलाया जाए या दफ़नाया जाए, इस बारे में इन्हें मुझसे तो सलाह-मशविरा करना चाहिए था। पर भीड़ थी कि मुझे सुनने को तैयार नहीं थी।
मैंने अनुरोध के स्वर में फिर कहा-भाइयो, मुझ जैसे अदना इंसान के लिए आप लोग साम्प्रदायिक सद्भाव क्यों तोड़ रहे हो? कृपा करके भाईचारा बनाए रखो। मिल-बैठकर तय कर लो कि मुझे जालाया जाना चाहिए या दफ़नाया जाना चाहिए। अगर बातचीत से मामला नहीं सुलझे तो मामला अदालत में ले जाओ।
भीड़ बोली - अदालत न्याय देने में बहुत देर लगाती है। पचास-पचास साल तक मुकद्मा चलता रहता है। निचली अदालत का फैसला आने पर फिर हाई-कोर्ट, सुप्रीम-कोर्ट हो जाती है। तब तक तुम्हारे शरीर का क्या होगा? मैंने कहा - भाइयो, खून-खराबे से बचने के लिए मैं अदालत का फैसला आने तक 'ममी' बने रहने के लिए भी तैयार हूँ।
पर भीड़ के सिर पर तो खून सवार था। कोई इतना समय रुकने के लिये तैयार नहीं था।
इस पर मैंने कहा - भाइयो, तो फिर आप लोग सिक्का उछाल फैसला कर लो। टॉस में जो पक्ष जीत जाए वह अपने मुताबिक मेरे शरीर को जला या दफ़ना दे।
भीड़ ने कहा - हमने 'शोले' देखी है। हम इस चाल में नहीं आएँगे।
अजीब मुसीबत थी। नीचे सड़क पर मेरा शरीर पड़ा था। चारों ओर उन्मादियों की भीड़ जमा थी। पास ही एक पेड़ पर मैं चढ़ा हुआ था। अपने शरीर को इस तरह देखने का मेरा पहला अवसर था। मुझे अपने शरीर पर दया आई। उससे भी ज्यादा दया मुझे भीड़ पर आई। मेरी लाश पर कब्जे को लेकर ये लोग मरने-मारने पर उतारू थे।
तभी एक पढा-लिखा सा दंगाई मेरे पेड़ की ओर इशारा करता हुआ अंग्रेजी में चिल्लाया-गिटपिट- गिटपिट...ब्लडी-फूल...गिटपिट-गिटपिट...किल हिम...। बहुत से दंगाई लाश को छोड़कर उस पेड़ के नीचे जमा हो गए जिस पर मैं चढ़ा बैठा था। डर के मारे मैं एक डाल और ऊपर चढ़ गया।
नीचे से दंगाई चिल्लाए-जल्दी से तू खुद ही बता तू कौन है, वर्ना हम तुझे फिर से मार डालेंगे।
अजीब लोग थे। मरे हुए को फिर से मारना चाहते थे। मैंने दिमाग पर बहुत जोर डाला। पर मुझे कुछ भी याद नहीं आया कि मैं हिन्दू था या मुसलमान। भुलक्कड़ मैं शुरू से ही था। पर मुझे नहीं मालूम था कि मेरे भूलने की बीमारी का एक दिन इतना संगीन नतीजा निकलेगा।
भीड़ अब बेकाबू होती जा रही थी। दोनों ओर से त्रिशूल और तलवारें लहराई जा रही थीं। 'जय श्री राम' और 'अल्लाहो अकबर' के नारों से आकाश गूँज रहा था।
कहीं दंगा-फसाद न शुरू हो जाए यह सोच कर मैंने एक बार फिर कोशिश की - भाइयो, शांत रहो। अगर कोई हल नहीं निकलता तो मेरा आधा शरीर हिन्दू ले लो। तुम उसे जला दो। बाकी का आधा शरीर मुसलमान ले लो। तुम उसे दफना दो।
मुझे न्यायप्रिय सम्राट विक्रमादित्य का फैसला याद आया। मैंने सोचा, अब कोई एक पक्ष पीछे हट जाएगा ताकि मेरी लाश की दुर्गति न हो।
पर भीड़ गँड़ासे, तलवार और छुरे लेकर मेरे शरीर के दो टुकड़े करने के लिये वाकई आगे बढ़ी। मैं पेड़ की ऊँची डाल पर चढ़ा होते हुए भी थर-थर काँपने लगा। जो शरीर दो हिस्सों में काटा जाना था, वह आखिर था तो मेरा ही।
ये कैसे लोग थे जो लाश का भी बँटवारा करने पर तुले हुए थे? मैंने उन्हें ध्यान से देखा। भीड़ में दोनों ओर वही चेहरे थे। जो चेहरे केसरिया झंडा पकडे थे, वही चेहरे हरा झंडा पकड़े भी नजर आए। ठीक वही वहशी आँखें, ठीक वही विकृत मुस्कान भीड़ में दोनों ओर थी।गोधरा-कांड में ये ही लोग शामिल थे। बेस्ट बेकरी कांड में भी ये ही लोग लिप्त थे।
भीड़ गँड़ासों, तलवारों और छुरों की धार परख रही थी। काश, हमारे 'स्टैचू' कहने पर सभी हत्यारे, सभी दंगाई बुत बन जाते। और फिर हम उन्हें समुद्र में डुबा आते।
भीड़ ने हथियार उठाकर मेरी लाश पर चलाने की तैयारी कर ली थी। तभी उनमें से कोई समझदार चिल्लाया-अबे, इसकी पतलून उतार कर देख। अभी पता चल जाएगा कि स्साला हिन्दू है या मुसलमान।
अभी इस बेइज्जती भी बाकी थी। कई जोड़ी हाथ मेरी लाश पर से पतलून उतारने लगे। अब मुझसे रहा नहीं गया। मैं पेड़ से कूदा और 'बचाओ, बचाओ' चिल्लाया।
पर मेरी वहाँ कौन सुनता। देखते-ही-देखते दंगाइयों ने मेरी लाश को नंगा कर डाला। शर्म से मैंने अपनी आँखें बन्द कर लीं।
लाहौलविलाकूलवत! छिः छिः! शिव-शिव!
एक मिला-जुला सा शोर उठा। आँखें खोलते ही मैं सारा माजरा समझ गया। और मुझे याद आ गया कि मैं कौन था। कुछ दंगाई अश्लील मजाक पर उतर आये थे। कुछ दोनों हाथों से ताली बजा-बजाकर 'हाय-हाय' करने लगे थे । और हँस रहे थे ।
माहौल में तनाव एकाएक कम हो गया। मैंने राहत की साँस ली।
धीरे-धीरे दंगाईयों की भीड़ छँटने लगे। हरे झंडे वाले एक ओर को चल दिए। केसरिया झंडे वाले दूसरी ओर को चल दिए। आज त्रिशूलों और तलवारों का दिन नहीं था। अब मैं अपनी नंगी लाश के पास अकेला रह गया था। अगर इस तरह के दंगे - फसाद रूक सकें तो काश ऊपर वाला सब को 'वो' बना दे - मैंने सोचा।


No comments: