Skip to main content

सर्दी की एक रात

विकेश निझावन
एकाएक सर्दी बढ़ आई थी।शायद कहीं आसपास बर्फ पड़ने लगी है।ईश्वर ने खिड़की के ऊपर पड़ी तिरपाल को खिड़की के आगे पलट दिया।इमली हंस पड़ी।बोली- तेरी इस तिरपाल से सर्दी कम हो जाएगी क्या?
-कम क्यों न होगी! ईश्वर जरा गुस्से से बोला- सर्दी कम करने के लिए आदमी और क्या कर सकता है। ओढ़न ही तो ओढ़ सकता है।
-वही तो मैं कह रही हूं।जल्दी से लिहाफ में आ जा।इस वक्त बाहर निकलने का मौसम नहीं है।ओढ़न ओढ़नी है तो अपने ऊपर ओढ़।जरा ठंड ने पकड़ लिया तो यों ही अकड़ जाएगा।
–तुझे भी कुछ न कुछ बोलने की आदत हो गई है।बेमतलब बात करती हो।
-मेरी बातों के मतलब बाद में निकालना।पहले रजाई ओढ़ ले।
ईश्वर सच में कांप रहा था।झट से रजाई में घुस सिकुड़ सा गया।काफी देर तक इमली कुछ न बोली तो उसे ही बोलना पड़ा- अरी इस उम्र में आकर भी तू मेरी बातों पर गुस्सा होने लगती है।
-कैसी बात करते हो! गुस्सा मैं करती हूं या तुम? मैं तो तुम्हारा गुस्सा देखती हुई चुप हो गई।
-तू ठीक कहती है।मुझे सच में अब कभी-कभी बहुत गुस्सा आने लगता है।याद है पिछली बार जब डाक्टर को दिखाया था तो उसने कहा था ब्लड-प्रेशर ज्यादा होने के कारण गुस्सा आने लगता है।
-तुम्हारा डाक्टर तो पागल है जी। ब्लड-प्रेशर बढ़ने से गुस्सा नहीं आया करता।गुस्सा करने से ब्लड-प्रेशर बढ़ता है।इमली ने तर्क किया।
- तू कब से डाक्टरनी बन गई? ईश्वर ने भी सवाल रख दिया।
-जब से तुम मरीज बने हो।इमली खिसिया दी।ईश्वर सब समझता है।इमली आजकल जानबूझ कर उसे तंग करती है।वैसे कभी-कभी ईश्वर को अच्छा भी लगता है।अगर इस बुढ़ापे में इमली खिजियाने वाली स्वभाव की हो जाती तो जीना दूभर हो जाता।ईश्वर तनिक इमली की ओर खिसकता हुआ बोला- तू भी रजाई अच्छी तरह से ओढ़ ले।कहीं फिर सारी रात कल की तरह हाय-हाय करती रह जाए।
-कहां जी वो तो टांग की नस पे नस चढ़ आई थी इसीलिए कराहती रह गई।अब ठीक हूं मैं।
-ठंड से दौबारा नस चढ़ गई तो?
-नहीं अब नहीं चढ़ने की।सबेरे मंगो ने तेल से मालिश कर दी थी।
-शुक है तू ठीक हो गई।नहीं तो रोशन और लाडी को खबर करनी पड़ती।
-खबर काहे की! मैं भला मरने वाली थी क्या?
-अरी इस उम्र में किसी का कोई भरोसा नहीं।लोग तो हंसते-हंसते चल निकलते हैं।तू तो अब सत्तर से ऊपर की होने को आ रही।
-मैं सत्तर से ऊपर की हो रही तुम तो मेरे से सात बरस बड़े हो।
-तो तू सोचती है पहले मैं...
-राम-राम! कैसी बात करते हो जी। मैंने तो ऐसा न कहा न सोचा। जाऊंगी तो पहले मैं ही।पर अभी नहीं।
-जीवन से इतना मोह रखा हुआ है क्या?
-मोह तो रहता ही है।वो भी अपने लिए थोड़े न! बच्चों को कैसे छोड़ सकते हैं हम।और आगे बच्चों के बच्चे...!
इमली दबे से हंसी। उसकी हंसी में कोई खनक न थी।एकाएक ईश्वर बोला- जब बच्चों ने हमें छोड़ दिया तो हम उन्हें क्यों नहीं छोड़ पा रहे? ईश्वर की बात को इमली ने जैसे अनसुना कर दिया। बोली -याद है उस रोज़ छुटकी क्या कह रही थी?
-क्या कह रही थी?
-दोनों बेटियों के संग बड़ी खुश है।
-खुश तो होगी ही। बेटियां जो हैं उसकी।
-उसने एक बात और भी याद दिलाई थी।
-वो क्या?
-कहने लगी जब मैं छोटी थी न अम्मा तू जब भी मुझे बाजार से गुड़िया लेकर देती थी तो मैं अड़ जाती थी कि मुझे एक नहीं दो गुड़ियां चाहिएं।एक हंसने वाली और एक रोने वाली।बस भगवान ने मेरी वही बात सुन ली।अब देखो न अम्मा जब एक हंसती है तो दूसरी रोने लग जाती है।
– अभी बच्चियां जो हुईं।
– हां वही तो। उसकी सास भी बहुत खुश है।
-तो?
अब इमली फिर चुप! ईश्वर फिर परेशान हो आया।अब भला क्या हुआ इसे? उसने कुछ ऐसा-वैसा तो नहीं कहा।
-तू कुछ सोच रही है क्या? ईश्वर ने ही चुप्पी तोड़ी।
-हां!
-क्या भला?
-अपनी भी तो पहली दो बेटियां ही हुई थीं।
-सो तो!
-तुम्हारी मां ने कैसा विलाप किया था।
-वो जमाना और था।
-हो सकता है! पर शुक परमात्मा का तीसरा श्रवण हो गया।वरना मुझे तो घर निकाला मिल गया होता।और आज यहां पर तुम किसी दूसरी के साथ बैठे इस सर्दी को ताप रहे होते। इस बार इमली की हंसी में खनक थी।
ईश्वर हंस पड़ा।बोला- कितना अच्छा होता एक जन्म में दो मिल जातीं।
-अपने होते तो नहीं आने देनी थी मैंने।इमली जरा कड़क होती बोली।
-तुम्हारे बाद आ जाती।
-फिर मेरे लिए टेसु बहाते होना था तुमने।
ईश्वर समझ नहीं पा रहा था आज इमली कहां की ले बैठी।सहसा बोला- तू ठीक कहती है।पर एक बात तो बता?
-क्या भला?
-तू सोचती है श्रवण के आने से हम सुखी हो गए?
-सुख का तो पता नहीं।खुशी तो हुई थी।अम्मा भी श्वास छोड़ते समय ढेरों बलइयां दे गई थीं।
एकाएक इमली गम्भीर हो आई- कहीं तुमने श्रवण का दिल से तो नहीं लगाया हुआ?
-दिल से लगा कर क्या करूंगा।जब तक जान है तब तक आस है।कभी थोड़ा समय निकाल कर आ जाए तो आंखों को ठंडक मिल जाएगी।
-इमली जैसे पिघल सी गई। बोली- एक बार कह कर तो देखो उसे।
-तू क्या सोचती है मैंने कहा नहीं उसे।ईश्वर तनिक रूआंसा हो आया- पिछले महीने दो बार टैलीफोन पर कह चुका हूं।कहने लगा अब मैं बच्चा नहीं हूं बाऊजी।कितने झमेले हैं मेरे को आप क्या जानें।
ईश्वर खी-खी करके हंसने लगा फिर जैसे अपने आप से ही बोला- कम्बख़त कहता है मैं अब बच्चा नहीं हूं।इतना नहीं समझता बच्चे तो मां-बाप के लिए हमेशा ही बच्चे रहते हैं।
-इस बार देखना मैं कहूंगी तो दौड़ा चला आएगा।इमली ने रिरियाती सी आवाज़ में कहा।
-हांऽऽ! खाक़ दौड़ा चला आएगा।वह तो सिर्फ उसी दिन दौड़ा चला आएगा जिस दिन कोई उसे ख़बर करेगा कि हममें से कोई एक हमेशा के लिए विदा ले गया।
-कैसी बात करते हो जी।अगर मां-बाप बच्चों का सोचते हैं तो बच्चे भी मां-बाप का बराबर सोचते हैं।बस कुछ मजबूरियां होती हैं उनकी।
-मजबूरियां! ईश्वर की आवाज ज़रा दब सी गई थी- कैसी मजबूरियां? ईश्वर अंधेरे में ही अपनी बुझी-सी आंखों से इमली की ओर देखने लगा।
आजकल लड़कों को नौकरी से फुर्सत कहां मिलती है।और फिर लड़के तो बंट जाते हैं न।एक तरफ मां-बाप दुसरी तरफ उनकी अपनी गर-गृहस्थी।किसकी सुनें किसकी न सुनें।
-क्या हम इस दौर से नहीं गुज़रे? ईश्वर की आवाज पूरी तरह से टूटी हुई थी।
-तब जमाना ओर था। अब जमाना बदल गया है।
-जमाना बदला है इन्सान तो वही है।
-इन्सान बदलता है तो जमाना बदलता है न जी।आजकल औरत की भी झेलनी पड़ती है।अंग्रोजी पढ़ी-लिखी औरत होगी तो उसकी माननी तो पडेग़ी न! बस यही सब है अपने श्रवण के साथ। जैसे है चलने दो उन्हें।अपने में वे दोनों खुश हैं।
ईश्वर के पास इस वक्त न कोई सवाल था न कोई जवाब।बस इतना ही कहा- तू इतना अच्छा कैसे सोच लेती है सब?
इमली कुछ नहीं बोली।लेकिन ईश्वर की बात पर कहीं भीतर तक खिल आई थी।
ईश्वर ने जरा करवट बदली- तेरा नाम इमली किसने रखा था?
-अब मैं क्या जानूं! मां-बाप ने ही रखा होगा।
-लेकिन इमली क्यों रखा?
-वही बात आ गई न जी! लड़कियों का पैदा होना तो किसी के गले न उतरता था। बस मैं भी उन्हें गले की फांस ही लगी हूंगी ।
-वैसे तेरा नाम तो बर्फी होना चाहिए था।
-बर्फी! क्यों?
-इमली तो खट्टी होती है न।
-तो मैं क्या मीठी हूं?
-हां!
-छोड़ो न! इस उम्र में ऐसी बातें!
-सर्दी कितनी है बातों से थोड़ी गर्मी आ जाएगी।ईश्वर ने पुनथ इमली की ओर मुंह फेर लिया।रजाई में पूरी तरह से दुबकता सा बोला- लगता है आसपास कहीं बर्फ जोरों से गिरने लगी है। इमली कुछ नहीं बोली। उस पर भी सर्दी का बराबर असर हो रहा था।उसने भी लिहाफ पूरी तरह से ओढ़ लिया।
... ... ...



पुलिस ग्राउंड के सामने अम्बाला शहर-१३४००३ हरियाणा



Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…