Thursday, March 20, 2008

रेल्वे स्टेशन पर

अशोक गुप्ता़


मैं कर्म्पाटमॅन्ट के अन्दर हूं
एक कोहनी खिड़की पर टिकाए
तुम बाहर प्लॅटफॉर्म पर खड़ी हो
मेरी पसन्द की नीली साड़ी पहने

लगता है मैं फिर बारह साल का हूं
र्बोडिंग स्कूल की ट्रेन में
डरा हुआ़ गले में दुखती गांठ लिए
एक भयानक दुथ स्वप्न की जकड़ में

तुम ट्रेन चलने का इंतज़ार कर रही हो
अपनी घड़ी दो बार देख चुकी हो
मैं नज़र बचाकर आंसू पोंछता हूं
वह तुम्हारा इंतज़ार कर रहा होगा

स्टेशन के बाहर
कि तुम कार में बैठो
और चैन की सांस ले कर कहो
वह चला गया आखिरकार

No comments: