Friday, May 16, 2008

पलकों पलकों हर चेहरे पर ठहरा रहता जाने कौन

देवमणि पाण्डेय

पलकों पलकों हर चेहरे पर ठहरा रहता जाने कौन
दिल में प्यार का दरिया बनकर बहता रहता जाने कौन

दुनिया है इक भूल भुलैया लोग यहां खो जाते हैं
हर पल मेरा हाथ पकड़कर चलता रहता जाने कौन

कोई अब तक देख न पाया न कोई ये जान सका
हर पत्थर में हर ज़र्रे में उभरा रहता जाने कौन

कभी किसी मासूम के दिल में ख़ूनी ख़ंज़र उतरा है
बीच सड़क पर गर्म लहू सा बिखरा रहता जाने कौन

अक्सर जब तनहा होता हूं रात के गहरे साए में
उम्मीदों का दीपक बनकर जलता रहता जाने कौन

द्वारा - चाँद शुक्ला हदियाबादीwww.radiosabrang.com
******************************************

No comments: