Friday, May 9, 2008

ग़ज़ल

द्विजेंद्र द्विज

हमारी आँखों के ख़्वाबों से दूर ही रक्खे
सवाल सारे जवाबों से दूर ही रक्खे

सुलगती रेत पे चलने से कैसे कतराते
जो पाँवों बूट—जुराबों से दूर ही रक्खे

हुनर तो था ही नहीं उनमें जी—हुज़ूरी का
इसीलिए तो ख़िताबों से दूर ही रक्खे

तमाम उम्र वो ख़ुशबू से ना—शनास रहे
जो बच्चे ताज़ा गुलाबों से दूर ही रक्खे

वो ज़िन्दगी के अँधेरों से लड़ते पढ़—लिख कर
इसीलिए तो किताबों से दूर ही रक्खे

हमारा सानी कोई मयकशी में हो न सका
अगरचे सारी शराबों से दूर ही रक्खे

ये बच्चे याद क्या रखेंगे ‘द्विज’, बड़े हो कर
अगर न खून—ख़राबों से दूर ही रक्खे.
***********************************

No comments: