Tuesday, April 22, 2008

शांति नहीं है सन्नाटा है

वीरेन्द्र जैन
सैनिक चुप्पी साधे बैठे
सीमा पर बन्दूकें ताने
अपने पर तौले बैठे हैं
अनगिन बाज लगाए निशाने
जिसके हाथ आ गया अवसर
वही झपट्ठा दे जाता है
शांति नहीं है सन्नाटा है

सुलग रहा है एक पलीता
धीरे-धीरे धीरे-धीरे
जाने कब वह क्षण आये
जो चट्ठानों की छाती चीरे
विष्फोटों के पहले क्षण तक
कोई नहीं समझ पाता है
शांति नहीं है सन्नाटा है

No comments: