Skip to main content

दर्दे दिल की पुकार

Vidhya Devdas Nair
दिल की गहराईयों में झाँकतें समय
मुझे दर्द ही दर्द नजर आता है,
जिन्दगी की राह में चलते समय
मुझे सिर्फ तन्हाईयाँ नजर आती है,
कभी-कभी लगता है मिटा दूँ
नामो निशां इस जिन्दगी का,
मगर जिन्दगी जीना है मुझे हर लम्हा,
पर क्यों हो जीती हूँ मैं हर बार तन्हा,
दिल रोता है, पर आँखों में आँसू नहीं,
बहुत कुछ कहना है मुझे,
पर होंठों पर अलफाज नहीं,
कहूँ तो किससे कहूँ, कोई हमदर्द भी तो नहीं ,
अगर कुछ है तो वो है बस मीलों की खामोशी,
यूँही चलती रहेगी लहर ये जिन्दगी की।
कभी जगा देती है मुझे एक किरण ममता की,
पर थोड़ी ही देर में इसे मिटा देती है तूफान मायूसी की,
किसी अनदेखा, अनजान एक चेहरा पैगाम देती है
सलाह जीने की,
मगर तन्हाई का आलम तो याद कराती है
मुझे मौत के सूने दहलीज की,
एक पल जब मुझे छू लेती है खुशी की लहर,
दूसरे ही पल में जिन्दगी बन जाती है जहर,
आदत पड़ गई है मुझे अब इस तन्हाई की,
यूँही चलती रहेगी लहर ये जिन्दगी की।
कहते है जिन्दगी तो एक खुली किताब है,
इसे पढ़ना और समझना मुशिकल ही तो है,
क्या इसमें होते है पन्ने केवल टूटे ख्वाबों के,
और अधूरी मनोकामना के दर्द भरे चीत्कारों से,
कितनी अजीब है मेरी ये जिन्दगानी,
डर है मुझे कहीं, ये न बन जाए एक दर्द की कहानी,
क्या जाने ऐ किस्मत मुझे कहाँ ले जाएगी,
ठस तन्हाई ने तो मुझे अभी से मौत देदी ,
दुनिया ने मुझे अकेलेपन की सजा देदी,
क्या पता चोट खाते-खाते मेरा अस्तित्व ही मिट जाए,
पर क्या फायदा मैं तो अभी से एक जिन्दा लाश बन गई हूँ,
मेरे आँसू देगें शायद मेरे दर्दे दिल की गवाही,
यूँही चलती रहेगी लहर ये जिन्दगी की।
ये सच है कि मैं हूँ वकाई तन्हा,
पर चाहती तो मैं भी हूँ कि तन्हाई का ये आलम मिट जाए,
औरों की तरह मेरी जिन्दगी में भी बहार आए,
मुझे भी जीना है इस दुनिया में,
आखिर मेरा क्यों जन्म हुआ है, इस जहाँ में,
काश ऐसा भी कोई दिन आए,
जब जिन्दगी, फूल बन, मुझे देख मुस्काएँ,
और दिल में काली घटा हट कर, सुकून की वर्षा आए,
तब आँखों से सच्चे प्यार की आँसू झलकेगी,
तन्हाई और मायूसी की सारी दीवार टूटेगी,
यूँही चलती रहेगी लहर ये जिन्दगी की।
दोस्तों मत नकरो इसे,
है नहीं ये किसी की दर्द भरी कहानी,
शायद हो सकती ये तुम्हारे ही किसी अजीज दोस्त की दास्तानी,
आँखों में जिसके है छिपी, दर्द के आँसू,
आँधी बनकर जो बेजुबान है खड़ी,
पर आपके खुशी की निगाहें उसे कभी भी समझ नहीं पाएँगें,
अगर कभी हो जाओगे एक पल के लिए अकेला,
तभी महसूस कर पाओगे मेरे दर्द का अंधेरा,
इंतजार है मुझे किसी ऐसे दोस्त का
जो दूर कर दे मेरी तन्हाई,
यूँही चलती रहेगी लहर ये जिन्दगी की।

*********************************************
Dr.G.R,Damodarna college of science
Coimbatore-14

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …