Friday, April 25, 2008

मेघों की श्याम पताकाएं

वीरेन्द्र जैन

सूरज को क्यों ना दिखलाएं
मेघों की श्याम पताकाएं
सारा जल सोख सोख लेता
संग्रहकर्ताओं का नेता
वितरण की व्यर्थ व्यवस्थाएं
सूरज को क्यों ना दिखलाएं
मेघों की श्याम पताकाएं

व्यर्थ हुआ अब विरोध धीमा
मनमानी तोड़ गयी सीमा
गरजें ओ बिजलियां गिरायें
सूरज को क्यों ना दिखलाएं
मेघों की श्याम पताकाएं

कोई होंठ प्यासा न तरसे
मन चाहे खूब नीर बरसे
वर्षा में भीग कर नहायें
सूरज को क्यों ना दिखलाएं
मेघों की श्याम पताकाएं
********************************

No comments: