Sunday, April 20, 2008

मेरा देश महान नहीं है

वीरेन्द्र जैन
जब तक सब पेटों को रोटी
जब हाथों को काम नहीं है
मेरा देश महान नहीं है

मिलता नागरिकों को जब तक
रोजी का अधिकार नहीं है
जिन्दा रहने के अधिकारों
का कोई आधार नहीं है
संविधान की लिखतों से
जिन्दा रहना आसान नहीं है
मेरा देश महान नहीं है

जब तक राजनीति के कुत्ते
नाम धर्म का ले लड़वाते
मन्दिर मस्जिद गुरूद्वारों से
जब तक हैं वोटों के नाते
जबतक मेहनतकश दरिद्र-
नारायण का सम्मान नहीं है
मेरा देश महान नहीं है

युवकों के भविष्य तय करते
हैं, बूढे मुर्दा पाखण्डी
ऐसे व्याह बाजार लगे हैं
जैसे हो सांड़ों की मण्डी
जब तक नई पीढी के हाथों
अपनी स्वयं कमान नहीं है
मेरा देश महान नहीं है

जब तक सेठों की बहियों पर
रोज अंगूठे टेके जाते
लोकतंत्र के नाम स्वार्थ के
मोटे टिक्कर सैंके जाते
जब तक भारत के हर जन को
पूरा अक्षर ज्ञान नहीं है
मेरा देश महान नहीं है

मेरा देश महान नहीं पर
हो सकना तो संभावित है
वर्तमान प्रारंभ करे तो
फिर भविष्य में गुंजाइश है
आओ इसे महान बनायें
क्यों समझें आसान नहीं है
मेरा देश महान नहीं है
***********************************
२/१ शालीमार स्टर्लिंग रायसेन रोड
अप्सरा टाकीज के पास भोपाल म.प्र.
************************************

No comments: