Wednesday, September 24, 2008

वो बात...

राजीव रंजन प्रसाद
वो बात
जो एक नदी बन गयी
क्या तुमने कही थी?
घमंड से आकाश की फुनगी को
एक टक ताक कर
sतुम पत्थर की शिलाओं को परिभाषा कहती हो
हरी भरी उँची सी, बेढब पहाडी...
कितना विनम्र था वो सरिता का पानी
पैरों पर गिर कर और गिड़गिड़ा कर
निर्झर हो गया था..
तुम कब नदी की राह में
गोल-मोल हो कर बिछ गये
क्या याद है तुम्हें?
धीरे-धीरे रे मना
धीरे सब कुछ होय
चिड़िया चुग गयी खेत
अब काहे को रोय?
अहसास के इस खेल में
जब उसकी पारी हो गयी
सरिता आरी हो गयी..
दो फांक हो गये हो
बह-बह के रेत हो कर
उस राह में बिछे हो, कालिन्द की मानिन्द
जिस पर कदम रखे गुजरा किये है
वो याद जो एक सदी बन गयी
वो बात जो एक नदी बन गयी...

No comments: