Skip to main content

पुस्तक पर चर्चा

पुस्तक पर चर्चा
हिन्दी साक्षात्कार उद्भव और विकास नामक पुस्तक के सम्पादक डा. एम. फीरोज अहमद . विवेकानंद पी.जी. कालेज के हिन्दी प्रवक्ता इकरार अहमद ने विस्तार से इसका वर्णन किया. उनका कहना था कि इस तरह की पहली पुस्तक है जिसमें सैद्धान्तिक एवं व्यवहारिक पक्ष को लेकर लिखा गया है जिसमें सैद्धान्तिकी पर बहुत सारे पठनीय आलेख ही नहीं बहुत सारे साक्षात्कार भी एक साथ है. शिवकुमार मिश्र, काशीनाथ, जाबिर हुसेन,नासिरा शर्मा और मधुरेश के साक्षात्कार बहुत अच्छे है.धर्म ज्योति कालेज के प्राचार्य डा. सर्वोत्तम दीक्षित ने कहा कि यह पुस्तक बहुमूल्य है ही साहित्य के अध्येताओं एवं शोधकर्ताओं के लिये यह एतिहासिक दस्तावेज का काम करेगी.इसी कालेज के सचिव डा. धर्मेन्द्र सिहं ने अपने वक्तव्य में कहा हिन्दी के साक्षात्कार विधा के सिद्धान्तों मान्यताओं एवं उद्भव और विकास की विस्तृत जानकारी देकर इस पुस्तक ने ध्यान आकृष्ट किया है . मथुरा से आये युवा कहानीकार एम.हनीफ. मदार ने इस पुस्तक पर चर्चा करते हुए कहा कि इसमें साक्षात्कारों की विविधता है. इसमें लोक साहित्य ,कहानी,शायरी आदि लेखकों के तो साहित्यिक साक्षात्कार है ही स्त्री विमर्श, दलित विमर्श एवं उत्तर आधुनिकता जैसे ज्वलंत मुद्दों पर भी साक्षात्कार प्रस्तुत किये गये है.इस पुस्तक के सम्पादक को मैं धन्यवाद देता हूं कि साहित्यकारों के साक्षात्कार इकट्ठा करके साहित्य की अनेक उलझी हुई गुत्थियों को सुलझे का प्रयास किया है जो काफी उपयोगी है .इस गोष्ठी में इन विद्वानों के अलावा डा. प्रवीन शर्मा , डा. पुष्पेन्द्र, डा.रामवीर शर्मा, एम.एस. उपाध्याय, रविकान्त महेश्वरी. दिलीप कुमार ,प्रदीप सारस्वत आदि लोग उपस्थित थे .
आलेख
डॉ० मेराज अहमद साक्षात्कार की भूमिका
प्रो० रमेश जैन साक्षात्कार
डॉ० विष्णु पंकज हिन्दी इन्टरव्यू : उद्भव और विकास
डॉ० हरेराम पाठक हिन्दी साक्षात्कार विधा : स्वरूप एवं सम्भावनाएं
अशफ़ाक़ कादरी साहित्य एवं मीडिया में साक्षात्कार - एक दृष्टि
विज्ञान भूषण प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से संबंधित
साक्षात्कार की सैद्धान्तिकी में अन्तर
दिनेश-श्रीनेत हमारे समय में नचिकेता का साहस
साक्षात्कार
डॉ० शिवकुमार मिश्र डॉ० सूर्यदीन यादव
प्रो० मैनेजर पाण्डेय देवेन्द्र चौबे, अभिषेक रोशन, रेखा पाण्डेय
एवं उदय कुमार
जाबिर हुसैन रामधारी सिंह दिवाकर
नासिरा शर्मा डॉ० फीरोज अहमद
काशीनाथ सिंह रामकली सराफ
मधुरेश साधना अग्रवाल
ओमप्रकाश वाल्मीकि डॉ० शगुफ्ता नियाज
कंवल भारती अंशुमाली रस्तोगी
डॉ० अर्जुनदास केसरी डॉ० हरेराम पाठक
चित्रा मुद्गल श्याम सुशील
मलखान सिंह सिसौदिया डॉ० राजेश कुमार
शहरयार डॉ० जुल्फिकार
प्रो० जमाल सिद्दीकी डॉ० मेराज अहमद एवं डॉ० फीरोज अहमद
एक साधारण होटल वाला डॉ० मेराज अहमद

ब्राँच कार्यालय : ई-३, अब्दुल्लाह क्वाटर्स,
लालबहादुर शास्त्री मार्ग,
अमीर निशां, अलीगढ़-२०२००२
प्रथम संस्करण : २००8
मूल्य : २००/- रुपए
मुद्रक : नमवान प्रिंटर्स, अलीगढ़

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …