Wednesday, September 3, 2008

सुकून है

सीमा गुप्ता

एक अजब खुमार है , एक अजब जूनून है,
तुम अगर नही मिले ,मेरे दिल का खून है
तू ही बता मेरे मन हो क्या अब ऐसा जतन,
हम तुम थोडी देर के लिये कह सकें होके मगन
"सुकून है" "सुकून है" "सुकून है" "सुकून है"

1 comment:

Anwar Qureshi said...

पढ़ के सुकून है ..शुक्रिया ..