Skip to main content

समकालीन परिप्रेक्ष्य में हिन्दी की दशा एवं दिशा

डा. रिपुदमन सिंह यादव

वर्तमान समय में हिन्दी भाषा एक संक्रमण के दौर से गुज़र रही है। यह संक्रमण भाषाई तो है ही, साथ ही सांस्कृतिक भी है। यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि किसी भी राष्ट्र की भाषा ही वह माध्यम है जिसके द्वारा उस राष्ट्र का प्रत्येक नागरिक राष्ट्रीय रूप में संगठित रहता है। भाषा के द्वारा ही वह अपने विचारों को अभिव्यक्त करता है।

जब हम सन् 1947 में अंगे्रजी राज्य से स्वतंत्रा हुये, हमें एक ऐसी राष्ट्र भाषा या राजभाषा की आवश्यकता महसूस हुई, जिसके द्वारा हम पूरे राष्ट्र को जोड़ सके, यह तात्कालीन ऐसी आवश्यकता थी कि जिसने संविधान निर्माताओं को गंभीर चिंतन-मनन के लिए बाध्य किया। स्वतंत्राता प्राप्ति के पूर्व भी ‘‘भातेन्दु हरिश्चन्द्र, महर्षि दयानन्द सरस्वती, केशवचन्द्र सेन, लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक, महामना मदन मोहन मालवीय, महात्मा गाँधी, राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन और बहुत से अन्य नेताओं और जनसाधारण ने भी अनुभव किया कि हमारे देश का राजकाज हमारी ही भाषा में होना चाहिए और वह भाषा हिन्दी ही हो सकती है। हिन्दी सभी आर्य भाषाओं की सहोदरी है; यह सबसे बड़े क्षेत्रा के लोगों की (42ः से ऊपर जनता की) मातृभाषा है; हिन्दी प्रदेश के बाहर भी यह अधिकतर लोगों की दूसरी या तीसरी भाषा है; हिन्दी-संस्कृत की उत्तराधिकारिणी है और सभी भारतीय भाषाओं की अपेक्षा सरल है। इन विशेषताओं के कारण स्वतन्त्राता प्राप्ति से पहले ही हिन्दी को भारत की सामान्य या संपर्क भाषा के रूप में स्वीकार किया गया है।’’1 इस तरह हिन्दी के प्रति आग्रह तो पहले से ही भारतीय जनमानस में था। संविधान के निर्माताओं के सामने भाषाओं के कारण विशेष समस्या आईं क्योंकि इस देश की विशाल जनसंख्या अनेक भाषाएँ बोलती है। संविधान के निर्माताओं को शासकीय पत्राचार के माध्यम के रूप में इनमें से कुछ भाषाओं को चुनना था जिससे कि देश में अनावश्यक भ्रम न रहे। यह सौभाग्य की बात है कि इन 1652 भाषाओं को बोलने वाले समान अनुपात में नहीं थे और 18 भाषाएँ (जिन्हें भारत की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित किया गया था) भारत की प्रमुख भाषाओं के रूप में सरलता से चुनी जा सकीं।2

इसी परिप्रेक्ष्य में परिणामस्वरूप राजभाषा के रूप में हिन्दी को एकमत से स्वीकार किया गया। 14 सितम्बर 1949 ई. को भारत के संविधान ने हिन्दी को मान्यता दी।

भारत के संविधान में भाग 17, राजभाषा, अध्याय 1-संघ की भाषा में, अनु. 343 मंें उल्लिखित है- ‘‘संघ की राजभाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी होगी।’’3

शेष भाग पत्रिका में..............



Comments

Anonymous said…
Following the tips pointed out, you'll certainly purchase a loan provider which will simply offer you a low interest rate personal loan. The easy way to obtain this sort of loan is to manage an internet financial institution and will also also provide you the money inside much very less time of app. However, you could nevertheless submit an application in the neighborhood loan merchants in your town although this is most likely to take some time just before the income. [url=http://paydayloansquicklm.co.uk]payday loans with bad credit[/url] Substantial this will likely ensure that you are certainly not signing removed wonderful that you had not upcoming or that here's no loan cost which might be trying to hide below the exterior.
Anonymous said…
, as far as representing lenders that ballast their clients by introducing article provides for them. [url=http://trustedpaydayloans.org.uk]12 month payday loans[/url] Payday loans are no are these:1. Sometimes it is hard to keep up with the bills, and of reckon by the way. Even those who have had to deal with repossessions and bankruptcies on their accept against the loan that is borrowed.

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …