Skip to main content

चक्कर से टक्कर

डा. शिवचन्द प्रसाद

‘चक्कर’ दलित-चेतना पर केन्द्रित जवाहरलाल कौल ‘व्यग्र’ का तेरह कहानियों का प्रकाशित (सन् 2009) संग्रह है जिसमें ब्राह्मणवादी आभिजात्य के मिथ्याभिमान और उसके द्वारा चलाये जाते विभिन्न दुष्चक्रों का बड़ी शालीनता के साथ सामना किया गया है। कौल की कहानियाँ अपने समय का साक्षात्कार करती हुई युग-बोध से उद्भूत दलित-संवदेना की विभिन्न चुनौतियों-असमानता, त्रास, अस्पृश्यता, अपमान, शोषण-दलन-उत्पीड़न से निर्भय होकर जूझती हैं तो दूसरी तरफ दलित सौंदर्यशास्त्रा को एक नया आयाम भी देती हैं। यहाँ पुरानी कहानी ‘नया पाठ’ (नया कफन, सद्गति-गाथा और ठाकुर के कुएं का पानीहै तो जाति-देश से उभरा अम्बेडकरवादी समतामूलक बौद्ध-दर्शन भी है, स्वानुभूति है तो सहानुभूति भी है। जहाँ चक्कर से टक्कर के लिए कबीर और रैदास की परम्परा है तो अंधविश्वासों को मौन निरन्तर कर देने वाला दलित-चिंतन भी है। मुंशी किशनचन्द (चक्कर कहानी) को बड़े-छोटे, जाति, धर्म-संप्रदाय, अलगाव, आतंक, विध्वंश आदि जैसे प्रश्न-चक्कर में डाले हुए हैं। उनके सामने एक ओर तो प्रवाचक शुक्ला जी का वसुधैव कुटुम्बकम् वाला शाश्वत सूक्त वाक्य है तो दूसरी ओर विभिन्न पंथ और खेमों में बंटे रक्त-पिपासु लोग फिर, मुंशी जी सोचते हैं- ‘‘यह कैसे हो सकता है? संसार के सारे लोग एक कैसे हो सकते हैं? मानववाद की कल्पना कोरी बकवास है। संसार के विभिन्न देशों में तरह-तरह की जातियां है। उनका इतिहास उनकी संस्कृति एक दूसरे से भिन्न है। एक जाति दूसरी जाति से अपने धर्म, अपनी सभ्यता के उत्थान में होड़ लगाती है। आपस में कलह मचता है, युद्ध होता है। उस समय शुक्ल जी का वसुधैव कुटुम्बकम् वाला नारा फेल हो जाता है।’’ (पृ. 3) यही सब देखकर ज्ञानचन्द्र (नास्तिक) का भगवान पर से यकीन उठ जाता है। वह कहता है- ‘‘मंदिर में शंकर के रूप में भगवान नहीं है। अगर होता तो अपने मानने वालों में भेद कैसे करता? कुछ को अपने पास बुलाकर पूजा स्वीकार करता और कुछ दूर से ही पूजा करने के लिए बाध्य होते? यह पूजा पाठ आस्था सब दिखावा है, झूठ है।’’ (पृ. 74) भला ऐसे दृश्य को देखकर तुलसी बाबा कैसे गा सकते हैं- सियाराम-मय सब जग जाती?

जाति-पाति के वैषम्य की यह खाई यदि कभी पटती हुई नज़र आती है तो यथास्थितिवादी जड़ ब्राह्मणवाद को लगता है कि उसकी अर्थी उठने वाली है, उसका बड़प्पन, कुलीनता और उच्चभिमान आदि धूं-धूंकर जलने लगते हैं। यही कारण है कि दंगल कहानी के पहलवान इन्द्रजीत पाण्डे को दलित सहानुभूति वाले पहलवान इन्द्रजीत पाण्डे को दलित सहानुभूति वाले पहलवान श्यामसुंदर तिवारी की हरकते रास नहीं आती है और एक दिन अपनी भड़ास तिवारी पर उतार ही देते हैं- अरे तिवारी जी। यह सब क्या कर रहे हो? अंखाड़े में जाति-पाति की लाश गाड़कर बिना भेद-भाव के सब को कुश्ती लड़ा रहे हो, छोटाई-बड़ाई खत्म हो नयी क्या? नीच जाति वाले देह रगड़कर जब ऊँची जाति वालों से लड़ेंगे तो कहां रह जायेगी

शेष भाग पत्रिका में..............



Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

शिवानी की कहानियाँ : नारी का आत्मबोध

- डॉ० जगतसिंह बिष्ट
साठोत्तरी हिन्दी कथा साहित्य में शिवानी अत्यन्त चर्चित एवं लोकप्रिय कथाकार रही हैं। नारी संवेदना को अत्यन्त आत्मीयता एवं कलात्मक ढंग से चित्रित करने वाली शिवानी की दो दर्जन से अधिक कथाकृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। इन रचनाओं में 'कालिन्दी','अपराधिनी', 'मायापुरी', 'चौदह फेरे', 'रतिविलाप','विषकन्या','कैजा', 'सुरंगमा', 'जालक', 'भैरवी', 'कृष्णवेली', 'यात्रिक', 'विवर्त्त', 'स्वयंसिद्धा', 'गैंडा', 'माणिक', 'पूतोंवाली', 'अतिथि', 'कस्तूरी', 'मृग', 'रथ्या', 'उपप्रेती', 'श्मशान', 'चम्पा', 'एक थी रामरती', 'मेरा भाई', 'चिर स्वयंवरा', 'करिए छिमा', 'मणि माला की हँसी' आदि प्रमुख हैं। इन्होंने उपन्यास, लघु उपन्यास और कहानियों के सृजन के द्वारा साठोत्तरी हिन्दी कथा को पर्याप्त समृद्धि प्रदान की है। इनकी अधिकांश कहानियाँ लघु उपन्यासों, संस्मरण रचनाओं और अन्…