Skip to main content

उसके हिस्से का सुख

जयश्री राय



रतनी बाल विधवा थी। चार-पांच घरों में काम करके अपना पेट पालती थी। जोशी जी के गोदाम घर के एक कोने में उसे रहने दिया गया था। बदले में वह उनके मंूगफली के खेत पटाया करती थी। खलिहान की साफ़-सफाई की जिम्मेदारी भी उसी पर थी।

उस जले तवे-सी काली-कलूटी औरत के चेहरे में ऐसा ज़रूर कुछ था जो बरबस अपनी ओर खींचता था। वह अपने झकमकाते दाँतों को निकालकर ऐसे उजली हंसी हंसती थी कि एक पल को उसका बसंत के दागों से भरा चेहरा भी जैसे सुंदर बन पड़ता था। अपनी अनगिन हड्डियाँ बजाती हुई वह दस भुजा की तरह रात-दिन काम में लगी रहती थी। लगता था, वह हाथों से नहीं, अपनी जीभ से चाटकर घर-आंगन साफ करती है। उसे काम करते हुए देखकर प्रतीत होता था, एक साड़ी ही हवा में बिजली की तरह लहराती, कौंधती फिर रहीं हैं। उसका अमावश्या-सा गहरा काला रंग उसे अंधेेरे में प्रायः अदृश्य ही कर देता था। पुकारो रतनी और तत्क्षणात सामने बत्तीस दाँत झमझमा उठे तो समझो वही मटमैली रोशनी में चुड़ैल की तरह नाचती फिर रही है।

वह जितना काम करती थी, खाती उससे दो गुना थी। उसे खाना खाते हुए देखना भी अपने आप में एक अनुभव होता था। स्तूपाकार भात को गोग्रास में खाती हुई पता नहीं वह साँस कब लेती थी। मैं अक्सर सोचती थी, कुत्ते जैसी उसकी क्षीण कटि में गंधर्वमादन पर्वत-जैसा वह भात का ढेर समाता कैसे था। पूछने पर उसी उजली हंसी की वन्या में कल-कल, छल-छलकर उठती थी-क्या दीदी, पेट में ईधन नहीं डालूंगी तो ये रात-दिन का हाड़ तोड़ काम कैसे करुंगी? इसी दावानल में तो अपना सबकुछ झोक चुकी, बेहया बनकर जी रही हूँ! कितना कोसा सबने-करमजली, कब तक जीयेगी...हंसते-हंसते वह अपनी आँखें पोछती-ये जठर अग्नि जो न कराये कम है...

सुबह मैं उसे ठाकुर साहब के यहाँ धपर-धपर धान कूटते देखती तो सांझ को ललायिन के कुएं को जगत में बैठी बर्तनों का अंबार चमकाते हुए...धूसर संध्या की डूबती रोशनी में हवा में टंगी किसी सफे़द साड़ी पर लाल जबा फूल दगदगाते देख कोई ठटरटा करता-लो, रतनी अभिसार पर निकली...पट् अंधेरा गरज उठता-मुँह संभालकर, रतनी कोई ऐसी वैसी न है...मुहल्ले वाले भी उसकी सत् चरित्रा का लोहा मानते थे। रतनी लाख दुःख झेले, भूख सहे, मगर मजाल है कि किसी को आज तक अपने कंधे पर भी हाथ धरने दिया हो। एकबार चैबे जी धूसर संध्या की यवनिका का लाभ उठाते हुए गर्म जलेबी का दोना हाथ में लिए दबे पांव गोदाम की सीढ़िया चढ़ गये थे और फिर थोड़ी ही देर बाद एक टांग पर फूदकते हुए वापस लौटे थे। पीपल के नीचे धूल में लोट-लोटकर फिर वह हाय-तौबा मचायी थी कि देखने सुनने वाले दहल कर रह गये थे। चैबे की घरवाली छाती पीट-पीटकर रतनी को कोसती रही थी और रतनी ताच्छिलय से तिर्यक मुसकराती हुई गरम जलेबियाँ उड़ाती रही थी। ‘‘मेरे घर का सत्यनाथ करके जलेबी भकोस रही है बेहया ब्राह्मण हत्या का पाप लगेगा तुझे कीड़े पडंे़गे मोटे-मोटे..।’’

न जाने कितने ब्राह्मणों, कुलीनों का धर्म भ्रष्ट कर रतनी

शेष भाग पत्रिका में..............

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …