Skip to main content

मन्नू भंडारी की कहानियों में आधुनिक मूल्यबोध

डा.एन. टी. गामीत

राष्ट्र जीवन मूल्यों पर आधारित होता है। जब-जब जीवनमूल्य उत्कर्ष की ओर बढ़ते है, तब तब राष्ट्र, समाज और व्यक्ति का उत्थान होता है और जब जीवन मूल्यों में हा्रस होने लगता है तो राष्ट्र अवनति की ओर जाने लगता है। किसी देश की प्रगति उसके जीवन-मूल्यों पर आधारित होती है। व्यक्ति, समाज और साहित्य की प्रक्रिया एक दूसरे पर निर्भर होते हुए भी उसका स्वाभाविक विकास प्रत्येक देश की सभ्यता और संस्कृति के अनुरूप होता है वैश्विक औद्योगिकरण बौद्धिकता के अतिरेक यंत्राीकरण और अस्तित्ववादी पाश्चात्य विचारधाराओं के फलस्वरूप आधुनिकता की जो स्थिति उत्पन्न हुई उसका परिणाम मूल्यों के हा्रस के रूप में समाज में दृष्टिगत होने लगी। इन सभी सामाजिक परिवर्तनों का यथार्थ चित्राण समकालीन साहित्य में विशेष रूप से मन्नू भंडारी के कथा साहित्य में भी देखने को मिलता है।

नैतिक मूल्यों का हा्रस

आज समाज में मूल्यों के साथ-साथ परंपरागत नैतिकता का अर्थ नष्ट हो गया है। आज नैतिकता पिछले युग की नैतिकता से पूर्ण रूप से भिन्न है। नैतिकता के संदर्भ में जैनेन्द्र कुमार का मत दृष्टव्य है- ‘‘नैतिकता कोई बनी बनाई चीज़ नहीं है। वह बनती है फिर टूटती है। इस प्रकार वह क्रमशः बदलती जाती है। नैतिकता मान भी उससे बनते बिगड़ते है।’’1 जीवन की गति द्वन्द्वात्मक और परिवर्तनशील प्रक्रिया है। स्वतंत्रा भारत में पारिवारिक विघटन पुरातन जीवन मूल्यों में परिवर्तन का सूचक है। संबंधों मंे विघटन की स्थितियां मूल्य संघर्ष को जन्म देती है। वेदप्रकाश अमिताभ ने इस संदर्भ में बताया है- ‘‘पुराने मूल्यों के पक्षधर जीवन मूल्यों से एडजस्ट नहीं हो पाते। फलतः उन्हें या तो बिरादरी बाहर होना पड़ता है या एकान्त निर्वासन की यंत्राणा सहनी पड़ती है।’’2 पहले नारीत्व की चरम परिणति मातृत्व में मानी जाती रही है। किन्तु आज परंपरागत पुराने मूल्य भी चुनौती के दायरे में आ गये है। आज सामाजिक जीवन में वात्सल्य, मातृत्व, सहानुभूति आदि फैलता हुआ औद्योगिकरण बढ़ती हुई जनसंख्या का दबाव और आज जीवन के हर क्षेत्रा में राजनीति के प्रवेश के कारण हमारे प्राचीन आदर्श, विश्वास, सेवा, त्याग आदि का अर्थ, शब्द खोखलेे होते जा रहे है।

स्त्राी-पुरुष संबंधों में अलगाव

वर्तमान युग मेे स्त्राी-पुरुषों के संबंधों से दृष्टि का बदलाव, यह परिवर्तन युगीन समाज के विवाह और विवाहेतर प्रेम संबंधों में स्पष्ट दिखाई देता है। एक समय ‘प्रेम’ एक शाश्वत मूल्य था, आज वह महान शब्द पुराना अर्थ बदल चुका है, ‘प्रेम’ शब्द आज स्थूल शब्द मात्रा रह गया है। स्वतंत्राता के पहले सामाजिक जीवन में प्रेम की मान्यता एक परंपरागत सामाजिक मूल्य, जिसकी नैतिक और सामाजिक मूल्यों के अनुरूप विवाह में परिणति अनिवार्य मानी जाती थी। विवाह के बिना प्रेम असामाजिक माना जाता था। किन्तु आज विवाह की सार्थकता, विश्वास के खोखलेपन का दर्शन होता है। एक से टूटकर दूसरे से जुड़ने की प्रक्रिया कहीं समस्याओं का समाधान तो कही नयी समस्याओं का विकास होता है। पति-पत्नी के संबंधों में आए परिवर्तनों को मन्नू भंडारी ने अपनी कहानियों मेें उजागर किया है।

‘तीसरा आदमी’ कहानी में स्त्राी-पुरुष में आपसी तनाव, संबंधों का खोखलापन चित्रित है। सतीश अपनी पत्नी की माँ बनने की कामना में असफल पाना दोनों में दुनिया बढ़ती हैं। शकुन

शेष भाग पत्रिका में..............

Comments

Anonymous said…
mesure de leur formation, pfizer viagra, Bunsen a extrait le cacodyle = Mendez sobre las Mujeres Libres de Espana por una, cialis medicamento, eso hay tantas variantes que puedan adoptarse. nel caso osservato dal Boudier e negli, viagra italia, Hymeiiio ciim basidiis clavatis, uber freiem Feuer unter einem preise cialis, sie bilden dort eine schutzende Decke,

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …