Skip to main content

नगाड़े की तरह बजते शब्द

डा. शान्ती नायर



आज जिस समय में हम जी रहे हैं उसमें आहलादों और उल्लासों की तरंगों से बढ़कर अवसाद की अन्तर्धारा ही अधिक मुखर रही है। तमाम सरल परिपाश्र्वा के बावजूद एक जटिल और अपरिभाषेय परिवेश हमारा सच बनता जा रहा है। हम प्रगति की ओर बढ़ रहे हैं, इस ओर हमारी लालसा रही है कि अन्तर्राष्ट्रीय संबंधों का हमारा दृश्यपट हमेशा मनमोहक रहे, परन्तु हमारे जीवन का दृश्यपट उतना सुहाना और मनमोहक कभी नहीं रहा। अर्थात् एकाध धनात्मक बिन्दुओं के बीच असंख्य गलतियों की गिरफ़्त मेें हमारा जीवन लुढकता चला जा रहा है।

इन पस्थितियों में जब हम देखते हैं कि तमाम ऊष्माएँ धीरे-धीरे ठंडी होकर जम जाती है और मनुष्य, ‘समझौते के सिवा कोई रास्ता नहीं’ का एलान कर खोल में सिमटता नज़र आता है, वहीं भीतर की गरमी को बनाये रखकर एक समझौताहीन युद्ध के लिए तैयार खड़ी नज़र आती हैं निर्मला पुतुल। निर्मला पुतुल का काव्य संकलन है ‘नगाड़े की तरह बजते शब्द’। अड़तीस कविताओं के इस संकलन में समकालीन दौर का शायद ही कोई ऐसा प्रसक्त विषय हो जो छूट गया हो। स्त्राी, दलित, आदिवासी, विकास, पर्यावरण, भूमण्डलीकरण, राजनीतिक, हस्तक्षेप, व्यवस्था का खोखलापन सभी कुछ इस संकलन की कविताओं में आये है और खासियत इस बात में है कि देखने की दृष्टि कवयित्राी की निजी है और गहरी संवेदना से युक्त भी।

जीवन संघर्ष में दृढ़ विश्वास रखते हुए कविता को इस संघर्ष के एक अंग के रूप में स्वीकार करने वाली निर्मला पुतुल के स्वर को स्त्री स्वर करार दिया जाता है। इस नज़रिये से ही देखने का प्रयास पहले किया जाये तो हम पाते है कि इन कविताओं में जहाँ वैचारिक प्रतिबद्धता है तो वही समाज को बदलते की बेचैनी भी है ‘नगाडे़ की तरह बजते शब्द’ संकलन में संकलित लगभग एक तिहाई कविताओं ‘क्या तुम जानते हो’, ‘अपनी जमीन तलाशती बेचैन स्त्राी’, ‘आदिवासी स्त्रिायाँ’, ‘कुछ मत कहो सजोनी किस्कू’, ‘क्या हूँ मैं तुम्हारे लिए’, ‘अपने घर की तलाश में’, ‘ये वे लोग हैं जो, ‘मैं वो नहीं हूँ जो तुम समझते हो’, ‘एक बार फिर’, ‘पिछलू बूढ़ी’, ‘मेरा सब कुछ अप्रिय है उनकी नज़र में’, ‘सुगिया’- में स्त्री के शिल्प को लिया गया है पर इन कविताओं की चेतना लोकतान्त्रिाक है। उत्पीड़ित मनुष्यता के संघर्ष के रूप में इसे देखा जा सकता है यहाँ कविता पारम्परिक बिम्बों को भेदती हुई सामाजिक बन जाती है।

इक्कीसवीं सदी की चैखट को पार करते हुए जब हम उत्तर आधुनिक समय को लेकर बहस और गोष्ठियाँ चला रहे हैं, तब भी आदिम आकुलताएँ स्त्री के सामने ज्यों कि त्यों हैं। पहले यहाँ अपने अस्तित्व को बनाये रखने का संघर्ष है तो उसके बाद प्रगति और विकास की लड़ाई शुरू होती है। हर दर्जे की औरत में यह लड़ाई मौजूद है। लड़ाई के धनत्व का अन्तर भले ही हो।

आदिवासी स्त्री बाहर से तो शोषण की शिकार होती ही है साथ ही शोषण का यह दीमक कबीले में फैल कर उसके घर तक भी पहुँचकर उसे खा जाता है। ‘कुछ मत कहो

शेष भाग पत्रिका में..............



Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …