Monday, January 19, 2009

संवेदना

डा. महेंद्रभटनागर


.
काश, आँसुओं से मुँह धोया होता,
बीज प्रेम का मन में बोया होता,
दुर्भाग्यग्रस्त मानवता के हित में
अपना सुख, अपना धन खोया होता!

No comments: