Skip to main content

चालान का गणित


ईशान महेश

मैंने देखा मुख्य चोराहे पर लाल बत्ती थी लेकिन फिर भी सभी वाहन ऐसे भागे जा रहे थे जैसे मंदिर के बाहर कोई धनी भक्त डबल रोटी बाँट रहा हो और उसे प्राप्त करने के लिए याचक उमड़-घुमड़ कर पड़ रहे हों। मैंने सोचा हो सकता है रात को पुलिस विभाग के किसी अति बुद्धिमान परामर्शदाता ने यह सुझाया हो कि लोगों को लाल बत्ती का उल्लंघन करने में मजा आता है इसलिए उन्हें मजे लेने दो और नया कानून बना दो कि हरी बत्ती पर रुकना है और लाल बत्ती को कूदना है। लेकिन मेरी बुद्धि ने टोका, नहीं यह संभव नहीं है। हो सकता है कि जब बत्ती लाल हो तो संकेतों ने काम करना बंद कर दिया हो। ऐसे में वहाँ तैनात सिपाही ने वाहनों के संचालन का दायित्व ले लिया होगा और उसने ही इन सब वाहनों को लाल बत्ती को पार करने की अनुमति दी होगी। खैर कुछ भी रहा हो। मैं भी अन्य वाहनों की रेलम-पेल में लाल बत्ती कूद गया।

जैसे ही चौराहा पार किया तो देखा कि दो- तीन यातायात पुलिस के सिपाही लाल बत्ती पार करने वाले वाहनों को रुकने का संकेत कर रहे थे लेकिन सभी वाहन अपनी लाइन में, उनकी उपेक्षा कर आगे बहते चले गए। सिपाही हाथ मलते रह गए और अपने मलते हाथों से उन्होंने मुझे भी रुकने का इशारा किया। मैंने अपना स्कूटर रोक दिया।
‘‘गाड्डी सैड में लगा।’’ सिपाही ने मुझे आदेश दिया।
‘‘लाइसेंस निकालो।’’ अकस्मात प्रकट हुए इस्पैक्टर ने चालान बुक में मेरे स्कूटर का नंबर लिखते हुए मुझसे पूछा, ‘सौ रुपए हैं ?’’

‘‘हाँ, हैं।’’ मैं अपना लाइसेंस इंस्पैक्टर की ओर बढ़ा दिया।
‘‘फिर ठीक है।’’ उसने आश्वस्त होकर चालान में मेरा-नाम पता इत्यादि दर्ज किया और पन्ना फाड़ कर मेरी ओर बढ़ाते हुए बोला, ‘‘सौ रुपए निकालो।’’
मैंने सौ रुपए निकाल कर इंस्पैक्टर को दे दिए और पूछा। ‘‘अब मेरा अपराध तो बता दीजिए।’’
‘‘तुमने रेड लाइट क्रोस की है।’’ इंस्पैक्टर बोला।
‘‘हाँ, लाल बत्ती तो मैंने पार की है।’’ मैं बोला, ‘‘लेकिन भ्रम मैं पार हो गई। बाकि सभी वाहन जा रहे थे। मैंने सोचा हो सकता है बत्ती खराब हो।’’
‘‘बत्ती बिल्कुल ठीक है। इंस्पैक्टर चौराहे की लाल बत्ती का उल्लंघन करते वाहनों की अगली खेप को देखने लगा। ‘‘धत् तेरे की। एक भी साला नहीं रुका।’’

घात लगाकर बैठे सिपाही प्रकट हुए और लिफ्ट माँगने की शैली में उल्लंघनकर्ताओं को रुकने का इशारा करते रहे और वाहन उन्हें मुँह चिढ़ाकर सरपट दौड़ गए।
‘‘आपने मेरे आगे जा रहे किसी भी वाहन का चालन क्यों नहीं किया ?’’ मैंने पूछा।
‘‘उनका चालान तो तब होता, जब रुकते।’’ इंस्पैक्टर बोला, ‘‘तुम भले आदमी लगते हो। इसलिए तुम रुक गए और हमने तुम्हारा चालान कर दिया।

‘‘वह देखिए।’’ तभी मैंने इंस्पैक्टर का ध्यान लालबत्ती का उल्लंघन करते दस-बारह रेबड़े-रिक्शे और साइकिल वालों की ओर आकृष्ट किया, इन्हें तो आप पकड़ सकते हैं। इनका चालान कीजिए। ये रेहड़ी- रिक्शा-साइकिल वाले लालबत्ती की परवाह ही नहीं करते। जिसके कारण, दूसरी ओर जिसकी ही बत्ती है, उसे रुके रहना पड़ता है और जब तक रिक्शाओं का काफिला गुजरता है तब तक उसकी लाल बत्ती हो जाती है और आक्रोश में वह उसे टाप जाता है। इसलिए आप इनका भी चालान कीजिए। इन्हें आप पकड़ भी सकते हैं।’’
‘‘पर हम इनका चालान नहीं कर सकते।’’ इंस्पैक्टर ने कहा।
‘‘क्यों ?’’
‘‘क्योंकि ये बेचारे गरीब आदमी है।’’ इंस्पैक्टर उदारतापूर्वक बोला।
‘‘क्या गरीब होने से नियम तोड़ने की अनुमति मिल जाती है ?’’ मैंने आश्चर्यपूर्वक पूछा।
‘‘हाँ गरीब होने से नियम तोड़ने की अनुमति मिल जाती है।’’ इंस्पैक्टर निर्द्वंद्व स्वर में बोला, ‘‘तुम रिक्शा रेहड़ा लेकर आओ। लाल बत्ती पार कर जाओ। मैं क्या, कोई भी तुम्हारा चालान नहीं करेगा।’’
‘‘पर ऐसा क्यों हैं ? ’’ मैंने जिज्ञासा की।
‘‘सरकार की नीति है।’’ वह कंधे उचकाकर बोला।
‘‘वह कैसे हैं’’ मेरी आँखें जिज्ञासा में फैल गई।

‘‘वह ऐसे।’’ इंस्पैक्टर विश्राम की मुद्रा में मोटर साइकिल पर बैठ गया। उसने पश्चिम दिशा की ओर इशारा किया और बोला, ‘‘वह देखो। झुग्गी झोपड़ी वालों ने बीच सड़क में अपनी झुग्गियाँ डाल दीं। फलतः हमें वह सड़क यातायात के लिए बंद करनी पड़ी। तुम अपने घर के नक्शे से अलग एक कमरा भी डालकर दिखा सकते हो ? हम यानी हमारा मित्र वर्ग उसे अगले दिन ढा देगा; लेकिन इन्हें हम छू भी नहीं सकते। इन्होंने बिजली के तारों पर अवैध कनेक्शन उछाले हुए हैं-तुम बिना मीटर के बिजली ले कर तो देखो। ये कहीं भी पाइप लाइन तोड़ सकते हैं-क्योंकि ये गरीब और पिछड़े वर्ग से हैं। जैसे शास्त्रों में ब्राह्मण और दूत अवध्य है; वैसे ही सरकारी कानून की दृष्टि में चालान मुक्त हैं।’’

मैंने अपना सिर इंस्पैक्टर के चरणों में झुका दिया और प्रभावित स्वर में बोला, गुरुदेव आप सत्य कहते हैं-गरीब का चालान कैसा ? मुझ मूर्ख को तो यह तथ्य आज ही समझ में आया कि हमारी सरकार ! ‘गरीबों की सरकार’ कैसे कहलाती है। मैंने अपना सिर उठाया और कहा, ‘‘अब मैं भविष्य में कभी लाल बत्ती पार नहीं करूँगा। लेकिन अगर फिर यही सीन बने तो क्या करूँ।’’
‘‘तो।’’ इंस्पेक्टर हँसा, ‘‘तो किसी रिक्शा में अपना स्कूटर रख कर लाल बत्ती टाप जाना। तुम्हारा चालान नहीं होगा। यह मेरा वचन है।

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …