Skip to main content

हिन्दी साहित्य में उच्च षिक्षा के क्षेत्र में बढ़ते तकनीकी प्रयोग

जया सिंह

उच्चा षिक्षा तकनीक के द्वारा आज का व्यक्ति जागरूक हो चुका है। दुसरी बात यह कि बी०ए० और एम०ए० के छात्रों को ÷प्रयोजनमूलक हिन्दी' जो पूरा पेपर ही तकनीक का है, का षिक्षण दिया जा रहा है। ऐसी उच्च षिक्षा प्रहण करने के बाद व्यक्ति हिन्दी को कम्प्यूटर से दूर नहीं रख सकता है। कम्प्यूटर, इन्टरनेट, ई-मेल के द्वारा सूचना तुरन्त पहुँचती है जिससे हमें पुस्तकें मंगवाने, जानकारी लेने में सुविधा होती है। इस तकनीक के माध्यम से पठन-पाठन का कार्य सरल और जल्दी हो गया है। अब हम घर बैठे-बैठे ही पुस्तकों, पत्रिकाओं का आर्डर कर सकते हैं, पत्र-व्यवहार कर सकते हैं, पुस्तकें और पत्रिकायें पढ़ सकते हैं, नयी पुस्तकों के विशय में जानकारी ले सकते हैं। इन्टरनेट की लोकप्रियता दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। इन्टरनेट कनेक्षन धारक व्यक्ति किसी भी समय, किसी भी विशय पर तत्काल इच्छित जानकारी प्राप्त कर सकता है। छात्र, षिक्षक, वैज्ञानिक, व्यापारी, खिलाड़ी मनोरंजन इच्छुक तथा सरकारी विभाग इन्टरनेट से अपनी आवष्यकता और रूचि के अनुसार सूचनाएँ पा रहे हैं। साथ ही हिन्दी के क्षेत्र में नए सॉटवेयर बन रहे हैं तथा इन्टरनेट पर भी हिन्दी वर्तमान समय में उपलब्ध है। इस समय लगभग ३०,००० पाठक हिन्दी के साथ इन्टरनेट पर उपलब्ध हैं तथा इस क्षेत्र में काफी विकास हो रहा है। जैसे-जैसे भारत विष्व बाज्+ाार का नया पड़ाव बनता गया, इन्टरनेट पर हिन्दी की आवष्यकता को महसूस किया जाने लगा। हिन्दी के प्रमुख समाचार पत्र दैनिक जागरण, नई दुनिया, वेब इुनिया, इंडिया इंफो, अमर उजाला, नवभारत टाइम्स, मिलाप और अनेक पत्रिकाऐं व इनके संस्करण नेट पर भी उपलब्ध होते हैं।

आज कम्प्यूटर उच्च षिक्षा और मानव-जीवन के हर क्षेत्र का अपरिहार्य अंग बनता जा रही हैं। षिक्षा के क्षेत्र में, अनुसंधान के क्षेत्र में, विषाल और जटिल यंत्रों के संचालन तथा उनके रख-रखाव के क्षेत्र में, मौसम सम्बन्धी जानकारी, भूगर्भ के रहस्य जानने, अस्त्र-षस्त्रों के निर्माण और परीक्षण तथा अन्तरिक्षयानों के संचालन तथा निर्देषन, यात्राओं के आरक्षण आदि के क्षेत्रों में कम्प्यूटर का अखण्ड स्थापित हो चुका है। अब तो कम्प्यूटर ने ज्योतिशी और पण्डित का भी कार्य संभाल लिया है। वह जन्म-कुण्डली निर्माण और विवाह-सम्बन्ध कराने का भी कार्य करने लगा है। साथ ही विदेषों में रह रहे भारतीय व विदेषी लोग इन्टरनेट के माध्यम से विभिन्न पूजा - पाठों, मंत्रों व यज्ञों को सम्पन्न करा रहे हैं, जो भारतीयों के निए एक नये बाजार के रूप में सामने आ रहा है इलेक्ट्रानिक यानी ÷ई' कॉमर्स के आ जाने और ÷ई' प्रषासन के होने से पुराने डाक - तार और कॉपीराइट कानूनों, दस्तावेज और प्रमाण कानूनों , बैंकिंग कानूनों आदि में बहुत परिवर्तन हो गया है। इलेक्ट्रानिक दुनिया ने भौगोलिक रूपाकार वाली है। तेज सूचना की वजह से समाज की दषा और दिषा बदल गई है। सूचना तकनीक की क्रान्ति से एक नयी ÷जीवन दषा' बन गई है। आज समाज को यह स्वीकार करना ही पड़ेगा। इसे स्वीकार किये बिना कोई देष-समाज आगे नहीं जा सकता। चिंतन एवं कुछ न कुछ नया कर गुजरने की तमन्ना ने आजादी के ५० वर्श के बाद भी हमारे देष को कम्प्यूटर के क्षेत्र में विष्व स्तर पर मान्यता प्राप्त देषों की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया है। वैष्विम जरूरतों, भूमण्डलीकरण एवं आर्थिक उदारीकरण के कारण आज कम्प्यूटर, इनटरनेट को आषा भरी नजरों से देखा जा सकता है। अब इनटरनेट पर हिन्दी का काफी विकास होता जा रहा है। दिन-प्रतिदिन के हम आंकड़े देखें तो हजारों की संख्या में इन्टरनेट का इस्तेमाल करने वाले ग्राहक बढ़ते जा रहे हैं। निष्चित तौर पर यह कहा जा सकता है, कि आने वाला समय भारत में ऐसा होगा, कि लोग इन्टरनेट पर हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा देंगे तथा इसी का इस्तेमाल करेंगें। इन्टरनेट पर हिन्दी का स्वरूप प्रसार पा रहा है। इन सबके बावजूद निरन्तर प्रयास की गति सुखद भविश्य का संकेत दे रही है। विष्व मानव की हिन्दी चेतना के प्रति जागरूकता व हिन्दी की अन्तर्राश्ट्रीय स्थिति को बेहतर बनाने के लिए हिन्दी का सुर, मानवीकृत रूप, लिपिगत, व्याकरणगत, उच्चारणगत, वर्तनीगत, और तकनीक स्तर पर केन्द्रित, एकीकृत करने की अति आवष्यकता है सॉटवेयर बनाने वाली कम्पनियाँ एक प्रतिमान भाशा कोड का उपयोग नहीं करती । अतः भारत जैसे देष में जहाँ १८ राजकीय भाशाएँ है, स्थानीय भाशा-कोडों का प्रतिमान तैयार करना होगाा। कम्प्यूटर से जुुड़ा कार्य ७० प्रतिषत कार्य अंग्रेजी में ही हो रहा है, जिसका नतीजा यह निकल रहा है कि धीरे-धीरे लोगों का रूझान अंग्रेजी की तरफ होता जा रहा है। लोग अंग्रेजी की तरफ खिंचते चले जा रहे हैं, जो कि इस क्षेत्र में एक बहुत बड़ी चुुनौती है। हिन्दी के लिए यह एक मुख्य समस्या है। इस समस्या को रोकना होगा, इसे रोकने व इसके समाधान हेतु इन्टरनेट चलाने वालों को हिन्दी के प्रति जागरूक करना होगा। तभी हम अपनी राश्ट्रभाशा हिन्दी के प्रति सम्मान को प्रकट कर सकते हैं। जो हम भारतीयों को एकता के सूत्र में बोंधने का कार्य कर रही है और करती रहेगी।



जय हिन्दी, जय भारत,

वन्दे मातरम्।



सन्दर्भ :-

१. सुधीष पचौरी - उत्तर आधुनिक समाज और संस्कृति - प्रथम संस्करण, २००६

२. सुधीष पचौरी - भूमण्डलीय समाज और मीडिया - प्रथम संस्करण, २००६

३. दीप्ति मिश्रा - ÷नव-निकश पत्रिका', अंक-६, दिसम्बर-२००७, पृ.सं.-३१-३३

४. डॉ० अचलानन्द जखभोला - ÷नव-निकश पत्रिका', अंक-६, दिसम्बर-२००७, पृ.सं ४०-४३





Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …