Friday, October 31, 2008

सवाल उर्दू का -राही मासूम रज़ा


चित्र पर क्लिक करें और पढ़े ।

Thursday, October 30, 2008

सवालों के जंगल में अकेलेपन का अवसाद

नंद भारद्वाज
'असन्तोष के दिन' हिन्दी के विख्यात कथाकार राही मासूम रजा की बहुआयामी रचनाशीलता के आखिरी दौर का ऐसा उपन्यास है, जो इस देश के राजनीतिक- सामाजिक-आर्थिक ढांचे में व्याप्त विकृतियों पर करारी चोट करता है। यह उपन्यास मई 1984 के दौरान थाणे, कल्याण और मुंबई महानगर में घटित हुए साम्प्रदायिक दंगों का ऐसा मार्मिक दस्तावेज है, जिसे उपन्यास के रूप में पढ़ना एक पीड़ादायक अनुभव के बीच से गुजरने का-सा अहसास कराता है। इसके चरित्र किसी कथा-कृति के लिए गढ़े हुए चरित्र नहीं, बल्कि स्वयं रचनाकार की अपनी जिन्दगी, उनके घर-परिवार, परिवेश और कार्य-क्षेत्र में काम करनेवाले ऐसे जीवंत चरित्र हैं, जिन्होंने साम्प्रदायिकता के उस जहरीले दौर में अपने प्राण गंवाकर भी इनसानियत, मानवीय सद्भाव और भाईचारे को बचाए रखने के अनथक प्रयत्न किये।

यह राही मासूम रजा का ही कमाल है कि 80 पृष्ठों की इस छोटी-सी औपन्यासिक कथा में उन्होंने 1984 के देशव्यापी दंगों के दौरान मुंबई और दिल्ली जैसे महानगरों और देश के बाकी नगरों में मारे गये हजारों निर्दोष लोगों - जिनमें हिन्दू थे, मुसलमान थे और सिक्ख-ईसाई भी, ऐसे तमाम लोगों की त्रासदी का न केवल प्रामाणिक ब्यौरा पेश किया है, बल्कि उन दंगों के पीछे की सियासी सांठ-गांठ और निहित स्वार्थों की संकीर्ण मानसिकता को बेनकाब करने का जो बीड़ा उठाया है, वह पाठक के रूप में आपकी चेतना को झकझोर कर रख देता है। आप उस सच्चाई से आंख बचाकर भाग नहीं सकते, जो कभी आपके आस-पास या खुद आपके साथ कहीं घटित भी हो सकती है।

सन् 1984 की घटनाओं पर आधारित इस उपन्यास का पहला संस्करण यों तो 1986 में ही प्रकाशित हो गया था और लेखक की अन्य कृतियों की तरह उस समय भी इसने पाठकों के बीच अपनी अच्छी-खासी जगह बनाई, लेकिन उस प्रकाशन के अट्ठारह बरस बाद सन् 2004 में जब इसका दूसरा संस्करण छपकर आया है, तो इसकी मांग और प्रासंगिकता और बढ़ गई लगती है।

इस उपन्यास के चरित-नायक अब्बास मूसवी को जिन्दगी भर इस बात का गहरा मलाल रहा कि जिस साम्प्रदायिक सद्भाव और हिन्दू-मुस्लिम एकता के लिए वे सारे जहां से लड़ते रहे, अपने घर-परिवार और समाज से लड़ते रहे, परिवार के अजीज लोगों को उसमें झौंके रखा, खुद कभी हिन्दू या मुसलमान होने का फर्क नहीं महसूस किया - उनका परिवार, जो एक खुले दिमागवाला परिवार माना जाता था, जो मजहब और मुल्क के बंधनों को गैर-वाजिब मानता था - मसलन्, अब्बास की बहन सलमा ने जब एक हिन्दू युवक रेवती से प्यार किया और उससे शादी करनी चाही तो परिवार-समाज के बड़े-बूढ़ों और मजहबी लोगों के विरोध के बावजूद अब्बास और उनकी बीबी सैयदा ने उस वक्त अपनी बहन का पूरा साथ दिया। सन् '66 में सलमा और रेवती की शादी हो गई और वे लंदन जाकर बस गये, लेकिन अट्ठारह बरस बाद उसी सलमा की बेटी तसनीम जब एक नीग्रो लड़के से प्यार करने लगी, तो सलमा को वह केवल इसलिए पसंद नहीं आया कि वह 'काला' है! यह जानकर अब्बास को बेहद अफसोस हुआ कि उसकी बहन उन्हीं दकियानूसी खयालों के बीच पहुंच गई है, जिन्हें वे बरसों पहले पीछे छोड़ आये थे। इसी विडंबना की ओर इषारा करते हुए अब्बास कहते हैं - ''सन् '66 की क्रान्तिकारी सलमा '84 तक आते जब 17 बरस की तसनीम की मां बनी तो अतीत के दलदल में जा गिरी और बड़ी बाजी बन गई। हैदरी फूफी बन गई।'' (पृष्ठ 13) खुद उनके बेटे माजिद ने जब एक हिन्दू लड़की संगीता को अपनाने का मन बना लिया तो उसे तहेदिल से कुबूल किया, लेकिन वही अब्बास मूसवी जब अपनी बेटी फातमा द्वारा एक हिन्दू लड़के रवि से प्यार करने के मसले पर अपनी बीबी सैयदा बेगम को रजामंद नहीं कर पाये और नौबत यहां तक आ पहुंची कि सैयदा बीबी अपने शौहर और बच्चों से रूठकर अपने मायके जा बैठी तो वे अपने परिवार से ही नहीं, खुद अपने-आप से जैसे हार गये - अपने उसूलों और आदर्शों को अपनी आंखों के सामने इस तरह बिखरते हुए देखना ऐसा हिला देनेवाला अनुभव था, जिसने उन्हें भीतर से तोड़कर रख दिया। माजिद और फातमा ने अपने अब्बू और अम्मी को जब इस तरह मायूस और बेबस देखा तो यही फैसला किया कि वे उनके लिए अपने प्यार को कुरबान कर देंगे और उन्होंने (माजिद और रवि ने) खुद को ही कुरबान कर दिया, लेकिन अब्बास मूसवी की तकलीफ और गहरी थी और इसका हल यह तो कतई नहीं था, जो उनकी औलाद सुझाया और दिया। अब्बास की यह पीड़ा बेटी फातमा के साथ हुए इस संवाद में बखूबी महसूस की जा सकती है - ''यह इतनी सादा बात नहीं है बेटी ! ... तुम्हारी अम्मा और मुझमें लड़ाई नहीं हुई है। तुम्हारे शादी करने या न करने से इसका कोई ताल्लुक नहीं है। मुझमें और तुम्हारी अम्मा में डिफरेंस ऑफ उपीनियन हो गया है।'' (पृष्ठ 86) और यह 'डिफरेंस ऑफ उपीनियन' अब्बास और सैयदा जैसे सेक्यूलर और जागरूक इनसानों के मन में पैदा हो जाना कोई मामूली बात नहीं थी।

इन अट्ठारह बरसों में अब्बास जैसे इल्मकारों की सोच बेषक आगे बढ़ी हो, उनकी बहन सलमा और बीबी सैयदा की सोच में ज्यादा इजाफा नहीं हुआ। अब्बास की तकलीफ यही है कि यह सोच आगे क्यों नहीं बढ़ पा रही है। मुसलमान अपनी गरीबी, पिछड़ेपन और उस रूढ़िवादी जहनियत से तो लड़ ही रहे होते हैं, ऐसे हालात में साम्प्रदायिकता का उन्माद उन्हें भीतर से खोखला कर देता है, उन्हें इस तकलीफ से निकलने का कोई रास्ता नहीं दिखाई देता। लेखक की इस पीड़ा को अब्बास और सैयदा के इस संवाद में बखूबी महसूस किया जा सकता है -''मेरे पास किसी सवाल का जवाब नहीं है सैयदा ! हम तमाम लोग सवालों के जंगल में अकेले हो गये हैं और रास्ता भूल गये हैं....!'' (पृष्ठ 65)

कथानायक अब्बास एक साहित्यिक पत्रिका 'अदब' के संपादक हैं, जो एक दैनिक अखबार 'नई आवाज' का ही प्रकाशन है। वे अखबार और पत्रिका दोनों के संपादक हैं और इसी नाते हर तरह के लोगों के बीच उठते-बैठते हैं, सभी तरह के लोगों से उनके अच्छे ताल्लुकात हैं। उनकी दोस्ती, परिचय और संवाद के दायरे में सभी मजहब और सभी सियासी सोच वाले लोग आते हैं। वे किसी से परहेज नहीं करते। अपने से भिन्न राय रखने वाले को भी वे पूरा मान-सम्मान देते हैं, लेकिन निजी या सार्वजनिक जीवन में उसके खराब आचरण की कतई अनदेखी नहीं करते, बल्कि उसका खुलकर विरोध करते हैं, लेकिन साम्प्रदायिक उन्माद के आगे वे भी बेबस हो जाते हैं। देश में जहां कहीं भी दंगे होते हैं, तो उनकी रूह कांप उठती है - उनके अपने साथी-सहकर्मी, जो हिन्दू भी हैं और मुसलमान भी, ऐसे सैकड़ों निर्दोष लोग इन दंगों में मारे जाते हैं, यहां तक कि पुलिस और प्रशासन भी इन दंगों में इधर या उधर में बंट जाता है और इस लड़ाई में वे लगातार अकेले होते जाते हैं। उन्हें अपने अखबार का संपादकीय लिखना तक निरर्थक लगने लगता है। ऐसे ही माहौल में जब देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या और उसके बाद का दुखद घटनाक्रम सामने आता है, तो सवालों के उस घने जंगल में उनके अकेलेपन का यह अवसाद और भी गहरा हो जाता है।

उल्लेखनीय बात यह है कि डॉ। राही मासूम रजा की इस कृति में उनकी साम्प्रदायिकता-विरोधी सोच का एक नया आयाम भी उद्धाटित होता है। वे 'नेशनल इंटीग्रेशन का अर्थ हिन्दू-मुस्लिम एकता' में सीमित करके नहीं देखते, बल्कि उसे व्यापक परिप्रेक्ष्य और समग्रता में समझने पर बल देते हैं। वे इस बात पर गंभीर सवाल उठाते हैं कि 'नेशनल डिसइंटीग्रेशन की जड़ें कोई देश की आर्थिक बदहाली में क्यों नहीं ढूंढ़ता ? या इस राजनीतिक स्थिति में क्यों नहीं ढूंढ़ता कि हमारे लोकतंत्र में आज तक ऐसी सरकार नहीं बनी है, जिसे मतदाताओं के बहुमत का सहयोग प्राप्त हो और जो धर्म, जातिवाद और क्षेत्रवाद के नाम पर न बनी हो।' दरअसल यही वे सवाल हैं, जिनमें इस समस्या का वह सही हल भी अन्तर्निहित है और वे चुनौतियां भी, जिनसे हमें आनेवाले सालों में मिलकर जूझना है।
चर्चित उपन्यास :
असन्तोष के दिन: राही मासूम रजा
पुस्तक समीक्षा

Tuesday, October 28, 2008

हे राम


सुरेंद्र तिवारी










चित्र पर क्लिक करें और पढे।

सब डरते हैं, आज हवस के इस सहरा में बोले कौन

राही मासूम रजा

सब डरते हैं, आज हवस के इस सहरा में बोले कौन
इश्क तराजू तोहै, लेकिन, इस पे दिलों को तौले कौन

सारा नगर तो ख्वाबों की मैयत लेकर श्मशान गया
दिल की दुकानें बंद पडी है, पर ये दुकानें खोले कौन

काली रात के मुंह से टपके जाने वाली सुबह का जूनून
सच तो यही है, लेकिन यारों, यह कड़वा सच बोले कौन

हमने दिल का सागर मथ कर कथा तो कुछ अमृत
लेकिन आयी, जहर के प्यालों में यह अमृत घोले कौन

लोग अपनों के खूं में नहा कर गीता और कुरान पढ़ें
प्यार की बोली याद है किसको, प्यार की बोली बोले कौन

Monday, October 27, 2008

HAPPY DIWALI





























गंगा और महादेव

राही मासूम रजा


मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
मेरे उस कमरे को लूटो जिसमें मेरी बयाने जाग रही हैं
और मैं जिसमें तुलसी की रामायण से सरगोशी करके
कालीदास के मेघदूत से यह कहता हूँ
मेरा भी एक संदेश है।
मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
लेकिन मेरी रग-रग में गंगा का पानी दौड़ रहा है
मेरे लहू से चुल्लू भर महादेव के मुँह पर फेंको
और उस योगी से कह दो-महादेव
अब इस गंगा को वापस ले लो
यह जलील तुर्कों के बदन में गढा गया
लहू बनकर दौड़ रही है।

Sunday, October 26, 2008

जिनसे हम छूट गये

राही मासूम रज़ा


जिनसे हम छूट गये अब वो जहां कैसे हैं
शाखे गुल कैसे हैं खुश्‍बू के मकां कैसे हैं ।।

ऐ सबा तू तो उधर से ही गुज़रती होगी
उस गली में मेरे पैरों के निशां कैसे हैं ।।

कहीं शबनम के शगूफ़े कहीं अंगारों के फूल
आके देखो मेरी यादों के जहां कैसे हैं ।।

मैं तो पत्‍थर था मुझे फेंक दिया ठीक किया
आज उस शहर में शीशे के मकां कैसे हैं ।।

जिनसे हम छूट गये अब वो जहां कैसे हैं ।।
http://rahimasoomraza.blogspot.com/

Saturday, October 25, 2008

क्या वो दिन भी दिन हैं

राही मासूम रज़ा

क्‍या वो दिन भी दिन हैं जिनमें दिन भर जी घबराए
क्‍या वो रातें भी रातें हैं जिनमें नींद ना आए ।

हम भी कैसे दीवाने हैं किन लोगों में बैठे हैं
जान पे खेलके जब सच बोलें तब झूठे कहलाए ।

इतने शोर में दिल से बातें करना है नामुमकिन
जाने क्‍या बातें करते हैं आपस में हमसाए ।

हम भी हैं बनवास में लेकिन राम नहीं हैं राही
आए अब समझाकर हमको कोई घर ले जाए ।

क्‍या वो दिन भी दिन हैं जिनमें दिन भर जी घबराए ।।

Friday, October 24, 2008

हम तो हैं परदेस में

डा.राही मासूम रज़ा


हम तो हैं परदेस में, देस में निकला होगा चांद
अपनी रात की छत पर कितना तनहा होगा चांद

जिन आँखों में काजल बनकर तैरी काली रात
उन आँखों में आँसू का इक, कतरा होगा चांद

रात ने ऐसा पेंच लगाया, टूटी हाथ से डोर
आँगन वाले नीम में जाकर अटका होगा चांद

चांद बिना हर दिन यूँ बीता, जैसे युग बीते
मेरे बिना किस हाल में होगा, कैसा होगा चांद

Thursday, October 23, 2008

लेकिन मेरा लावारिस दिल

राही मासूम रज़ा

http://rahimasoomraza।blogspot।com/
मस्जिद तो अल्लाह की ठहरी
मंदिर राम का निकला
लेकिन मेरा लावारिस दिल
अब जिस की जंबील में कोई ख़्वाब
कोई ताबीर नहीं है
मुस्तकबिल की रोशन रोशन
एक भी तस्वीर नहीं है
बोल ए इंसान, ये दिल, ये मेरा दिल
ये लावारिस, ये शर्मिन्दा शर्मिन्दा दिल
आख़िर किसके नाम का निकला
मस्जिद तो अल्लाह की ठहरी
मंदिर राम का निकला
बन्दा किसके काम का निकला
ये मेरा दिल है
या मेरे ख़्वाबों का मकतल
चारों तरफ बस ख़ून और आँसू, चीख़ें, शोले
घायल गुड़िया
खुली हुई मुर्दा आँखों से कुछ दरवाज़े
ख़ून में लिथड़े कमसिन कुरते
एक पाँव की ज़ख़्मी चप्पल
जगह-जगह से मसकी साड़ी
शर्मिन्दा नंगी शलवारें
दीवारों से चिपकी बिंदी
सहमी चूड़ी
दरवाज़ों की ओट में आवेजों की कबरें
ए अल्लाह, ए रहीम, करीम, ये मेरी अमानत
ए श्रीराम, रघुपति राघव, ए मेरे मर्यादा पुरुषोत्तम
ये आपकी दौलत आप सम्हालें
मैं बेबस हूँ
आग और ख़ून के इस दलदल में
मेरी तो आवाज़ के पाँव धँसे जाते हैं।

मकान

कैफ़ी आज़मी

आज की रात बहुत गर्म हवा चलती है
आज की रात न फ़ुटपाथ पे नींद आएगी
सब उठो, मैं भी उठूँ, तुम भी उठो, तुम भी उठो
कोई खिड़की इसी दीवार में खुल जाएगी
ये ज़मीन तब भी निगल लेने पे आमादा थी
पाँव जब टूटी शाख़ों से उतारे हम ने
इन मकानों को ख़बर है न मकीनों को ख़बर
उन दिनों की जो गुफ़ाओं में गुज़ारे हम ने
हाथ ढलते गये साँचे में तो थकते कैसे
नक़्श के बाद नये नक़्श निखारे हम ने
की ये दीवार बुलन्द, और बुलन्द, और बुलन्द
बाम-ओ-दर और ज़रा, और सँवारे हम ने
आँधियाँ तोड़ लिया करती थीं शमों की लौएं
जड़ दिये इस लिये बिजली के सितारे हम ने
बन गया क़स्र तो पहरे पे कोई बैठ गया
सो रहे ख़ाक पे हम शोरिश-ए-तामीर लिये
अपनी नस-नस में लिये मेहनत-ए-पैहम की थकन
बंद आँखों में इसी क़स्र की तस्वीर लिये
दिन पिघलता है इसी तरह सरों पर अब तक
रात आँखों में ख़टकती है स्याह तीर लिये
आज की रात बहुत गर्म हवा चलती है
आज की रात न फ़ुट-पाथ पे नींद आयेगी
सब उठो, मैं भी उठूँ, तुम भी उठो, तुम भी उठो
कोई खिड़की इसी दीवार में खुल जायेगी

Wednesday, October 22, 2008

अलीगढ़ में वाड़्‌मय पत्रिका का राही मासूम रजा विशेषांक का लोकापर्ण-विमोचन एवं चर्चा [साहित्य समाचार]

धर्म ज्योति महाविद्यालय-ताहरपुर-अलीगढ़ में वाड़्‌मय पत्रिका का राही मासूम रजा विशेषांक का लोकापर्ण-विमोचन एवं चर्चा हुई। धर्म ज्योति महाविद्यालय के प्रबंधक डॉ० धर्मेन्द्र सिंह ने इस पत्रिका का विमोचन किया। डॉ० सिंह ने पत्रिका पर चर्चा करते हुए कहा कि मैंने राही मासूम रजा का काफ़ी साहित्य पढ़ा है और जहाँ तक मैंने-सुना और पढ़ा था कि आधा गाँव फ़ारसी लिपि में लिखा गया था बाद में उसका लिप्यांतरण किया गया। लेकिन इस पत्रिका को पढ़कर भ्रम दूर हुआ क्योंकि राही मासूम रजा ने अपने साक्षात्कार में यह जिक्र किया था कि आधा गाँव आधा देवनागरी और आधा उर्दू में लिखा गया था। यही बात उनकी पत्नी ने भी अपने साक्षात्कार में भी कहा है। डॉ० सर्वोत्तम दीक्षित प्राचार्य धर्म ज्योति महाविश्वद्यालय ने कहा-राही मासूम रजा अंक काफी महत्त्वपूर्ण है। राही पर शोध करने वाले शोर्धाथियों और विद्वानों का काफी मदद मिलेगी इसके साथ ही साथ सम्पादकीय पढ़ने से पता चला कि राही रजा पर काफी लोगों ने शोध किया, उसमें से कुछ लोगों ने भ्रम भी फैलाया था जिसका उल्लेख इस पत्रिका में दिया गया है।

इस पत्रिका के सम्पादक-डॉ०एम०फ़ीरोज अहमद ने कहा कि इस पत्रिका में अभी तक राही मासूम रजा के कुछ अनछुए पहलू को छुआ गया है जैसे राही मासूम रजा की कहानियों के बारे में बहुत ही कम पाठक जानते थे और वह आम पाठक तक नहीं पहुँच पायी है और न ही इसका कोई शोध हुआ है। कहानी के अतिरिक्त राही जी ने फ़िल्मों पर काफ़ी आलेख लिखे है और उनके समकालीनों का साक्षात्कार भी इस पत्रिका में है। इस पत्रिका को पढ़ने पर काफ़ी भ्रम की चीजे जो लोगों के द्वारा फैलायी गयी थी पढ़ने से दूर हो जायेगी।

जनवादी लेखक संघ के सदस्य हनीफ़ मदार ने चर्चा करते हुए कहा कि राही मासूम रजा विशेषांक महत्त्वपूर्ण एवं संग्रहणीय है। इस तरह का अंग अभी तक नहीं निकला है। यह एक दस्तावेज का काम करेगी। विवेकानन्द पी०जी० कॉलेज, दिबियापुर-औरैया के हिन्दी प्रवक्ता डॉ० इकरार ने कहा कि राही पर जितना काम अभी तक हुआ है। उस परम्परा को आगे बढ़ाते हुए इस पत्रिका ने राही की कहानी, आलेख , साक्षात्कार, फ़िल्म के बारे में विस्तार से लेखकों ने लिखे है। डॉ० फ़ीरोज ने फ़िल्मों का ब्यौरा दिया है जो काफ़ी महत्त्वपूर्ण दिये है। कहानी और फ़िल्मों का उल्लेख करके इस पत्रिका ने महत्त्वपूर्ण एवं संग्रहणीय अंक बना दिया है।

इन विद्वानों के अलावा डॉ० पी०के०शर्मा, प्रवीन तिवारी एम०एस० उपाध्याय, पूजा अग्रवाल, प्रदीप सारस्वत, के०के० शर्मा, डॉ०डी०के० सिंह, आर०के० महेच्च्वरी, प्रदीप तिवारी डी०पी० पालीवाल, डॉ०रामवीर शर्मा एवं अनेक छात्र-छात्राएं इस अवसर पर मौजूद थे।

Tuesday, October 21, 2008

'सौगात'

सीमा गुप्ता

थका थका हर दिन का लम्हा ,
काली अंधियारी रात मिली ,
तार तार कुछ टुकडों मे दामन,
बिखर गया जो भी सौगात मिली
हसने रोने मे फरक करें क्या
दोनों संग आंसू की बरसात मिली
कोई सखी ना संगी साथी
किस्मत से तन्हाई की बारात मिली
जीवन का मकसद तो समझ ना आया ,
और मौत से भी हमको मत मिली

Monday, October 20, 2008

मौत की रफ़्तार

SEEMA GUPTA

आज कुछ गिर के टूट के चटक गया शायद ..

एहसास की खामोशी ऐसे क्यूँ कम्पकपाने लगी ..

ऑंखें बोजिल , रूह तन्हा , बेजान सा जिस्म ..

वीरानो की दरारों से कैसी आवाजें लगी...

दीवारों दर के जरोखे मे कोई दबिश हुई ...

यूँ लगा मौत की रफ़्तार दबे पावँ आने लगी...

डॉ. राही मासूम रजा - जीवनवृत्त एवं कृतित्व

डॉ० फीरोज अहमद

डॉ. राही मासूम रजा का जन्म १ अगस्त १९२७ को एक सम्पन्न एवं सुशिक्षित शिआ परिवार में हुआ। उनके पिता गाजीपुर की जिला कचहरी में वकालत करते थे। राही की प्रारम्भिक शिक्षा गाजीपुर में हुई और उच्च शिक्षा के लिये वे अलीगढ़ भेज दिये गए जहाँ उन्होंने १९६० में एम०ए० की उपाधि विशेष सम्मान के साथ प्राप्त की। १९६४ में उन्होंने अपने शोधप्रबन्ध “तिलिस्म-ए-होशरुबा” में चित्रित भारतीय जीवन का अध्ययन पर पी०एच०डी० की उपाधि प्राप्त की। तत्पश्चात्‌ उन्होंने चार वर्षों तक अलीगढ़ विश्वविद्यालय में अध्यापन का कार्य भी किया।

अलीगढ़ में रहते हुए ही राही ने अपने भीतर साम्यवादी दृष्टिकोण का विकास कर लिया था और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के वे सदस्य भी हो गए थे। अपने व्यक्तित्व के इस निर्माण-काल में वे बड़े ही उत्साह से साम्यवादी सिद्धान्तों के द्वारा समाज के पिछड़ेपन को दूर करना चाहते थे और इसके लिए वे सक्रिय प्रयत्न भी करते रहे थे।

१९६८ से राही बम्बई में रहने लगे थे। वे अपनी साहित्यिक गतिविधियों के साथ-साथ फिल्मों के लिए भी लिखते थे जो उनकी जीविका का प्रश्न बन गया था। राही स्पष्टतावादी व्यक्ति थे और अपने धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रीय दृष्टिकोण के कारण अत्यन्त लोकप्रिय हो गए थे। कलम के इस सिपाही का निधन १५ मार्च १९९२ को हुआ।

राही का कृतित्त्व विविधताओं भरा रहा है। राही ने १९४६ में लिखना आरंभ किया तथा उनका प्रथम उपन्यास मुहब्बत के सिवा १९५० में उर्दू में प्रकाशित हुआ। वे कवि भी थे और उनकी कविताएं ‘नया साल मौजे गुल में मौजे सबा', उर्दू में सर्वप्रथम १९५४ में प्रकाशित हुईं। उनकी कविताओं का प्रथम संग्रह ‘रक्स ए मैं उर्दू’ में प्रकाशित हुआ। परन्तु वे इसके पूर्व ही वे एक महाकाव्य अठारह सौ सत्तावन लिख चुके थे उसके बाद में “छोटे आदमी की बड़ी कहानी” नाम से वीर अब्दुल हमीद की जीवनी लिखी । उसी के बाद उनका बहुचर्चित उपन्यास “आधा गांव” १९६६ में प्रकाशित हुआ जिससे राही का नाम उच्चकोटि के उपन्यासकारों में लिया जाने लगा। यह उपन्यास उत्तर प्रदेश के एक नगर गाजीपुर से लगभग ग्यारह मील दूर बसे गांव गंगोली के शिक्षा समाज की कहानी कहता है। राही नें स्वयं अपने इस उपन्यास का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा है कि “वह उपन्यास वास्तव में मेरा एक सफर था। मैं गाजीपुर की तलाश में निकला हूं लेकिन पहले मैं अपनी गंगोली में ठहरूंगा। अगर गंगोली की हकीकत पकड़ में आ गयी तो मैं गाजीपुर का एपिक लिखने का साहस करूंगा”।

राही मासूम रजा का दूसरा उपन्यास “हिम्मत जौनपुरी” मार्च १९६९ में प्रकाशित हुआ। आधा गांव की तुलना में यह जीवन चरितात्मक उपन्यास बहुत ही छोटा है। हिम्मत जौनपुरी लेखक का बचपन का साथी था और लेखक का विचार है कि दोनों का जन्म एक ही दिन पहली अगस्त सन्‌ सत्तईस को हुआ था।

उसी वर्ष राही का तीसरा उपन्यास “टोपी शुक्ला” प्रकाशित हुआ। इस राजनैतिक समस्या पर आधारित चरित प्रधान उपन्यास में भी उसी गांव के निवासी की जीवन गाथा पाई जाती है। राही इस उपन्यास के द्वारा यह बतलाते हैं कि सन्‌ १९४७ में भारत-पाकिस्तान के विभाजन का ऐसा कुप्रभाव पड़ा कि अब हिन्दुओं और मुसलमानों को मिलकर रहना अत्यन्त कठिन हो गया।

सन्‌ १९७० में प्रकाशित राही के चौथे उपन्यास “ओस की बूंद” का आधार भी वही हिन्दू-मुस्लिम समस्या है। इस उपन्यास में पाकिस्तान के बनने के बाद जो सांप्रदायिक दंगे हुए उन्हीं का जीता-जागता चित्रण एक मुसलमान परिवार की कथा द्वारा प्रस्तुत किया गया है।

सन्‌ १९७३ में राही का पांचवा उपन्यास “दिल एक सादा कागज” प्रकाशित हुआ। इस उपन्यास के रचना-काल तक सांप्रदायिक दंगे कम हो चुके थे। पाकिस्तान के अस्तित्व को स्वीकार कर लिया गया था और भारत के हिन्दू तथा मुसलमान शान्तिपूर्वक जीवन बिताने लगे थे। इसलिए राही ने अपने उपन्यास का आधार बदल दिया। अब वे राजनैतिक समस्या प्रधान उपन्यासों को छोड़कर मूलतः सामाजिक विषयों की ओर उन्मुख हुए। इस उपन्यास में राही ने फिल्मी कहानीकारों के जीवन की गतिविधियों आशा-निराशाओं एवं सफलता-असफलता का वास्तविक एवं मार्मिक चित्रण प्रस्तुत किया है।

सन्‌ १९७७ में प्रकाशित उपन्यास “सीन ७५” का विषय भी फिल्मी संसार से लिया गया है। इस सामाजिक उपन्यास में बम्बई महानगर के उस बहुरंगी जीवन को
विविध कोणों से देखने और उभारने का प्रयत्न किया गया है जिसका एक प्रमुख अंग फिल्मी जीवन भी है। विशेषकर इस उपन्यास में फिल्मी जगत से सम्बद्ध व्यक्तियों के जीवन की असफलताओं एवं उनके दुखमय अन्त का सजीव चित्रण किया गया है।

सन्‌ १९७८ में प्रकाशित राही मासूम रजा के सातवें उपन्यास “कटरा बी आर्जू” का आधार फिर से राजनैतिक समस्या हो गया है। इस उपन्यास के द्वारा लेखक यह बतलाना चाहते हैं कि इमरजेंसी के समय सरकारी अधिकारियों ने जनता को बहुत कष्ट पहुंचाया।

राही मासूम रजा की अन्य कृतियाँ है - मैं एक फेरी वाला, शीशे का मकां वाले, गरीबे शहर, क्रांति कथा (काव्य संग्रह), हिन्दी में सिनेमा और संस्कृति, लगता है बेकार गये हम, खुदा हाफिज कहने का मोड़ (निबन्ध संग्रह) साथ ही उनके उर्दू में सात कविता संग्रह भी प्रकाशित हैं। इन सबके अलावा राही ने फिल्मों के लिए लगभग तीन सौ पटकथा भी लिखा था। इन सबके अतिरिक्त राही ने दस-बारह कहानियां भी लिखी हैं। जब वो इलाहाबाद में थे तो अन्य नामों से रूमानी दुनिया के लिए पन्द्रह-बीस उपन्यास उर्दू में उन्होंने दूसरों के नाम से भी लिखा है। उनकी कविता की एक बानगी देखिये जिसे “मैं एक फेरी बाला” से साभार उद्धरित किया गया है:
मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो।
मेरे उस कमरे को लूटो
जिस में मेरी बयाज़ें जाग रही हैं
और मैं जिस में तुलसी की रामायण से सरगोशी कर के
कालिदास के मेघदूत से ये कहता हूँ
मेरा भी एक सन्देशा है
मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को कत्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो।
लेकिन मेरी रग रग में गंगा का पानी दौड़ रहा है,
मेरे लहु से चुल्लु भर कर
महादेव के मूँह पर फ़ैंको,
और उस जोगी से ये कह दो
महादेव! अपनी इस गंगा को वापस ले लो,
ये हम ज़लील तुर्कों के बदन में
गाढा, गर्म लहु बन बन के दौड़ रही है।
राही जैसे लेखक कभी भुलाये नहीं जा सकते। उनकी रचनायें हमारी उस गंगा-जमनी संस्कृति की प्रतीक हैं जो वास्तविक हिन्दुस्तान की परिचायक है।

Saturday, October 18, 2008

विरह का रंग

सीमा गुप्ता
आँखों मे तपीश और रूह की जलन,

बोजिल आहें , खामोशी की चुभन ,

सिमटी ख्वाईश , सांसों से घुटन ,

जिन्दा लाशों पे वक्त का कफ़न,

कितना सुंदर ये विरह का रंग

(विरह का क्या रंग होता है यह मैं नही जानती . लेकिन इतना ज़रूर है की यह रंग -हीन भी नही होता और यह रंग आँखें नही दिल देखता है)

Thursday, October 16, 2008

Wednesday, October 15, 2008

हुई मुद्दत कि गालिब मर गया - 2 राही मासूम रजा


चित्र पर किलिक करें और पढे

प्यास की आग 1 - राही मासूम रजा


प्यास की आग 1 - राही मासूम रजा
चित्र पर किलिक करे और पढे

प्यास की आग 2 - राही मासूम रजा


प्यास की आग 2 - राही मासूम रजा
चित्र पर किलिक करे और पढे

Tuesday, October 14, 2008

राही मासूम रजा विशेषांक प्रकाशित


वाडमय पत्रिका

सम्पादक-फीरोज अहमद


मूल्य 75 रूपये india ,विदेशों में 600 रूपए( भारत में मनीआडर पहले भेजे,)
बी-4 लिबर्टी होम्स
अब्दुल्लाह कालेज रोड
अलीगढ 202002
09412277331
सम्पादकीय
कहानी
प्रताप दीक्षित : राही मासूम रजा की कहानियाँ: मनुष्य के ख्वाबों की तावीर
राही मासूम रजा : एक जंग हुई थी कर्बला में
राही मासूम रजा : सिकहर पर दही निकाह भया सही
राही मासूम रजा : खुशकी का टुकड़ा
राही मासूम रजा : एम०एल०ए० साहब
राही मासूम रजा : चम्मच भर चीनी
राही मासूम रजा : खलीक अहमद बुआ
राही मासूम रजा : सपनों की रोटी
आलेख/लेख

राही मासूम रजा : फूलों की महक पर लाशों की गंध
राही मासूम रजा : रामायण हिन्दुस्तान के हिन्दुओं की धरोहर है?
राही मासूम रजा : नेहरू एक प्रतिमा
राही मासूम रजा : शाम से पहले डूब न जाये सूरज
शिव कुमार मिश्र : राही मासूम रजा
कुरबान अली : हिन्दोस्तानियत का सिपाही
हसन जमाल : राही कभी मेरी राह में न थे
सग़ीर अशरफ़ : राष्ट्रीय एकता के सम्वाहकः राही
बाकर जैदी : राही और १८५७
मेराज अहमद : राही का रचनात्मक व्यक्तित्व
मूलचन्द सोनकर : रही मासूम रजा की अश्लीलता?
जोहरा अफ़जल : राही मासूम रजा और आधा गाँव
आदित्य प्रचण्डिया : मैं एक फेरी वाला
सन्दीप कुमार : आधा गाँव एवं टोपी शुक्ला में साम्प्रदायिकता
कनुप्रिया प्रचण्डिया : राही और आधा गाँव
साक्षात्कार/यादें

राही मासूम रजा से सुदीप की अंतरंग बातचीत
राही मासूम रजा के साथ विश्वनाथ की लम्बी बातचीत
नीरज, क़ाजी अब्दुस्सत्तार और शहरयार की यादों के राहीः प्रेम कुमार
मासूम से राही मासूम रजा तक : एम० हनीफ़ मदार
नैयर रजा से प्रेमकुमार की बातचीत
यादों के दायरे
सिनेमा

राही मासूम रजा : यथार्थ लेकिन सेंसर?
राही मासूम रजा : दिलीप कुमारः एक वह हैं जिन्हें तस्वीर बना आती है
राही मासूम रजा : फ़िल्मकार में सामाजिक चेतना नहीं है
राही मासूम रजा : फ़िल्म की भाषा
यूनुस ख्नान : जिन्दगी को संवारना होगाः राही का फ़िल्मी सफर
सिदेश्वर सिंह : आधा गाँव के लेखक का फ़िल्मी सफर
फ़ीरोज ख़ान : राही की कुछ महत्त्वपूर्ण फ़िल्में

आग का दरिया 2 - राही मासूम रजा


आग का दरिया 2 - राही मासूम रजा

आग का दरिया 1 - राही मासूम रजा


चित्र पर किलिक करे और पढे

Sunday, October 12, 2008

धर्म का हव्वा और यूनिवर्सिटिया - राही मासूम रजा


चित्र पर किलिक करें और पढे.

नासिरा शर्मा


बहुचर्चित रचनाकार राही मासूम रजा विशेषांक निकालने के बाद अब वाडमय पत्रिका का अगला विशेषांक चर्चित रचनाकार नासिरा शर्मा पर केन्द्रित अंक होगा.अब तक जिन विद्वानों से बात हो चुकी है उनके नाम प्रो रामकली सराफ,प्रो.जोहरा अफजल,प्रो.रमेश शर्मा, प्रो.ई.एम.जुबेरी मधुरेश,प्रेमकुमार,मूलचन्द सोनकर, इकरार अहमद, अनुरूद्ध सिंह, भरत सिंह, मेराज अहमद, प्रताप दीक्षित, अमरीक सिंह दीप ,जयप्रकाश धूमकेतू, संजय सिंह, सिद्धेश्वर सिंह,सुरेश पंडित,हनीफ मदार, आदित्य प्रचंडिया,महेश दर्पण आदि विद्वान नासिरा जी पर लिख रहे है .
अगर आप भी लिखना चाहे तो अवगत कराने का कष्ट करे.
15 दिसम्बर2008 तक अपना आलेख भेज सकते है.
जानकारी के लिए संपर्क करे .
वाडमय पत्रिका ,
बी-4,लिबर्टी होम्स ,
अब्दुल्लाह कालेज रोड, अलीगढ.
9412277331

Saturday, October 11, 2008

कृत्या 2008

अन्तर्राष्ट्रीय कवितोत्सव कृत्या2008
कृत्या की शुरुआत एक वेब पत्रिका के रूप में 2005 जून से हुई, इसके पश्चातल में कई विचार थे, एक तो उत्तर और दक्षिण के बीच की साहित्यिक खाई को पाटना, दूसरा भारतीय कविता को विश्व पटल में लाना। इस बीच मुझे अपने कुछ विदेशी कवि मित्रों से यह जानकारी मिल रही थी कि भारतीय प्रादेशिक भाषाओं की कविता उन तक तारतम्य या सहज भाव में नहीं पहुँच रहीं हैं। हमारी समृद्ध काव्य परम्परा का प्रचीनतम रूप भी उन तक नहीं पहुँच पा रहा है। कृत्या एक छोटी सी कोशीश थी।यह कोशिश काफी कुछ ऐसी थी जैसी कि मिथक के अनुसार राम पुल निर्माण में गिलहरी की कोशिश। जब कृत्या पहली बार नेट पर आई उन दिनों नेट पत्रिकाओं का भारत में प्रचलन नहीं के बराबर था। कृत्या को नेट पर देखते ही अय्यप्पा पणिक्कर ने कवितोत्सव मनाने का सुझाव रखा था, जिसमें कविता को अन्य कलाओं के साथ जोड़ा जाए। उनका कहना था कि कविता को अन्य कलाओं से जोड़ने पर ही हम आज के समाज से जोड़ सकते हैं। साथ ही उनका सुझाव था कि कृत्या को हर भाषा के करीब पहुँचना चाहिए, और विदेशी भाषाओं में भी अंग्रेजी के अतिरिक्त अन्य देशों की भाषाओं के साहित्य के करीब कहुँचने की कोशिश करनी चाहिए। अतः कृत्या पत्रिका के जन्म के तुरन्त बाद जून 2005 में पहला कवितोत्सव मनाया गया, जिसमें कावालम पणिक्कर, दत्तन जैसे नामी गिरामी कलाकारों ने भूमिका निभाई। दूसरा कवितोत्सव जम्मू में किया गया, जिसमें अग्निशेखर की अहम भूमिका रही। जनवरी 2007 में कृत्या एक संस्था के रूप पंजीकृत की गई जिसका उद्देश्य और अधिक व्यापक हो गया। पहले दो उत्सवों की सफलता और विश्व पटल पर कृत्या की लोकप्रियता ने हमें विश्व कवितोत्सव के लिए प्रेरित किया।
बिना किसी साधन संसाधन के हमने 21,22 और 23 जुलाई 2007के तीसरे कवितोत्सव की तैयारी की। उत्सव का स्थान था वैलोप्पिल्ली भवन जो कि केरल के प्रसिद्ध कवि के नाम पर परम्परागत मन्दिर शैली में निर्मित है। यह स्थान केरलीय कलाओं की शरणस्थली रहा है। 21 जुलाई को प्रातः 10 बजे उद्घाटन सत्र का शुभारंभ हुआ। उद्घाटन केरल के माननीय राष्ट्रपति श्री आर एल भाटिया ने किया और अध्यक्षता की श्रीमती कवयित्री राजकुमारी गौरी लक्ष्मी बाई ने। इस उत्सव में करी 16 विदेशी भाषाओं के कवियों और 30 भारतीय कवियों ने भाग लिया। देखिए ----http://www.kritya.in/Kritya2007/Kritya-2007.htmlहमने अय्यप्पा पणिक्कर के विचार के प्रेरणा लेते हुए इस बार देश की सबसे पुरानी सांस्कृतिक धरा पंजाब की ओर जाने का विचार बनाया। यह जमीन है,प्रेम,युद्ध, हिंसा, स्नेह,भाईचारा और अध्यात्म की, यहाँ ही देश की प्राचीनतम सभ्यता की कर्म भूमि है। यहाँ वीरता का पाठ घुट्टी में पिलाया जाता है। ऐसी धरा पर कृत्या उत्सव की परिकल्पना हमारे लिए आनन्ददायक है। प्रसिद्ध कवि श्री सुरजीत पातर जी प्रदेशिक स्तर पर उत्सव की बागडोर अपने हाथ संभालने का जिम्मा लिया तो कृत्या का उत्साह चौगुना हो गया। पंजाब आर्ट काउंसलर ने आतिथ्य का भार संभालने की पहल की। साहित्य अकादमी ने देश की भाषाओं के कुछ प्रमुख कवियों की यात्रा का भार वहन करने का वचन दिया, और भारतीय भाषा संस्थान भी इसी तरह कवि की यात्रा में मदद का वचन दे रही है।अल्प संसाधन होते हुए भी हमारे हौसले बुलन्द हैं। हमने विभिन्न विदेशी भाषाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए श्रेष्ठ कवियों को आमन्त्रित किया है। इसके लिए हमे उन देशों की कला अकादमियों ने मदद करने का आश्वासन दिया है। हमारे विदेशी प्रतिनिधियों में प्रमुख हैं- नोर्वे की Odveig Klyve , Kari Klyve Gulbrandsen , और Bjorn Gulbrandsen. इटली की - Elisa Biagini, मैक्सिकों से Araceli Mancilla Zayas और ROCIO GONZALEZ , इस्टोनिया से -Margus Lattik और Triin Soomets, इसराइल से Naim Araidi, अमेरिका से -Deirdre O'Connor, इंगलैण्ड से Peter Waugh Joan और Anim-Addo आइरलैण्ड से John Siddique, आस्ट्रिया से Evelyn Holloway , लेबनान से - Hanane Aad और उजबेकिस्तान से Uktamkhon Kholdorova. इस तरह हमें विदेश से भी विविध भाषा की कविता का स्वाद मिलने की पूरी संभावना है। इन कवियों की कविताओं को पंजाबी में अनुदित करने की भी पूरी कोशिश की जाएगी।भारतीय भाषाओं से भी नामी गिरामी कवि हमारे कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगे। प्रमुख नाम हैं- रमाकान्त रथ (उड़ीसा), नन्द किशोर आचार्य (हिन्दी), सचिदानन्दन (मलयालम), कृष्ण मूर्ति (कन्नड़), केकि दारुवाला( अंग्रेजी) , उदय नारायण सिंह (मैथिली), कुंवर नारायण जी (हिन्दी). अजमेर रोडे, सुरजीत पातर(पंजाबी), चन्द्र प्रकाश देवल (राजस्थानी), चन्द्रकान्त देवताले (हिन्दी), अरुण कमल (हिन्दी), मंगलेश डबराल (हिन्दी), रुक्मिणी भाया( अंग्रेजी), दिलीप झावेरी, (गुजराती), अग्निशेखर (कश्मीरी), ममंग दई (अरुणाचल प्रदेश), जीबन नाराह( असम), रोनिन एस Ngangom( मणिपुरी ) विश्वनाथ प्रसाद सिंह (हिन्दी), शम्भु बादल (हिन्दी), अजमेर रोडे (पंजाबी- कनाडा), एस एस नूर (पंजाबी), श्री किक्केरि नारायण, पूर्णिमा वर्मन (हिन्दी- दुबई), विजय शंकर (हिन्दी), श्यामला नायर( अंग्रेजी) पंजाबी और हरियाणवी कविता के विशेष पाठ होंगे। इसके अतिरिक्त युवा कवियों को भी मंच दिया जाएगा। कविता पर चर्चा गोष्ठी का भी आयोजन किया गया है।
कवि सम्मेलन के सामानन्तर में चित्रकला प्रदर्शनी का आयोजन होगा जिसके संचालक है, " क" पत्रिका के संपादक , कला आलोचक विजय शंकर।अन्य कार्यक्रमों मे सूफी संगीत और पंजाबी लोक संगीत का आनन्द लिया जाएगा। इसके अतिरिक्त नोर्वा की फिल्म सोसाइटी के तत्वाधान में भारतीय कविता और शान्ति फिल्म के लिए भारतीय कविता का फिल्मांकन भी किया जाएगा।इस तरह हम अगामी काव्योत्सव में कविता का अन्य कलाओं से समावेश और समकाली प्रासंगिकता और आवश्यकता के विचार को केन्द्र बिन्दु बना रहे हैं। इसके अतिरिक्त नोर्वा की फिल्म सोसाइटी के तत्वाधान में भारतीय कविता और शान्ति फिल्म के लिए भारतीय कविता का फिल्मांकन भी किया जाएगा। देखिए - http://www.kritya.in/Kritya2008/kritya2008.html
रति सक्सेन निदेशन- कवितोत्सव के पी 9/624, वैजयन्तचेट्टिकुन्नु, मेडिकल कालेज पो आतिरुवनन्तपुरम 69501109895218372 (M)0471-2446243

तुलसी का रामचरित मानस


राही मासूम रज़ा

आलोचना कोई तीर मारने का काम नहीं है, बल्कि साहित्य को समझने की कला है । और चुँकि हम मनुष्य की आत्मा को साहित्य की मदद के बिना नहीं समझ सकते, इसलिए आलोचना का महत्व बढ़ जाता है । आलोचना टिप्पणी या ‘फूटनोट’ नहीं है । आलोचक शब्दों की आत्मा में झाँकता है, क्योंकि साहित्य में शब्दों का प्रयोग नहीं होता, बल्कि शब्द प्रतीक बन जाते हैं । इसलिए साहित्य को समझने के लिए उसकी प्रतीक-भाषा से परिचित होना ज़रूरी है ।

इस भूमिका की ज़रूरत इसलिए पड़ी कि मैं इस समय जिस रास्ते पर चलने का प्रयत्न कर रहा हूँ, वह तलवार से ज़्यादा तेज़ और बाल से ज़्यादा बारीक़ है । बात यह है कि मैं अगर किसी ‘मीर’ या ‘ग़ालिब’, किसी ‘जायसी’ या ‘टैगोर’ की बात करनेवाला होता, तो डर न लगता परंतु मैं बात करने जा रहा हूँ मीर, अनीस और तुलसीदास की । और इनके बारे में भी यह कह रहा हूँ कि इनके काव्य का सामाजिक आधार है । मैं यह कहने जा रहा हूँ कि अनीस के मरसियों और तुलसीदास के ‘रामचरित मानस’ का राजनीतिक आधार भी है । और यदि ये रचनाएँ सामाजिक व राजनीतिक आधारविहीन होतीं तो इतनी बड़ी न होतीं । डर इसलिए लग रहा है कि ये दोनों ही कवि धार्मिक समझ लिए गए हैं । परंतु कविता धार्मिक या अधार्मिक नहीं होती । केवल मज़हब कभी कला का आधार नहीं हो सकता ।

अनीस के हुसैन लखनऊ या भारत के प्रतीक हैं । तुलसी के राम और लक्ष्मण भी प्रतीक ही हैं, क्योंकि साहित्य प्रतीक भाषा का प्रयोग करता है । तो तुलसी के राम काहे का प्रतीक हैं ? यानी मैं यह देखने का प्रयत्न कर रहा हूँ कि क्या ‘रामचरित मानस’ का कोई सामाजिक आधार है परंतु ‘रामचरित मानस’ की बातें करने से पहले कुछ बातों को साफ़ कर लिया जाए, तो अच्छा है ।

‘रामचिरत मानस’ भक्तिकाल की एक रचना है । क्या आप मेरी इस बात से सहमत हैं कि भक्तिकाल का काव्य-साहित्य बुनियादी तौर पर विरह का साहित्य है ? ‘राम की बहुरिया’ से रसखान तक विरह का एक बियावान फैला हुआ है । कहीं सूर की गोपियाँ बिलख रही हैं और कहीं मीरा । कहीं जायसी की नागमती व्याकुल है और कहीं तुलसी की सीता । ‘पद्मावत’ का सबसे ख़ूबसूरत हिस्सा उसकी नायिका या उसके नायक के हाल में ही नहीं है, बल्कि नागमती के हाल में है । क्या यह केवल इत्तिफ़ाक है ? और क्या यह भी केवल इत्तिफ़ाक है कि अकबरी की जीवन-रेखा को पार करते ही भक्तिकाल ऋंगार की सीमा में प्रवेश करने लगता है ? और क्या यह भी इत्तिफ़ाक हैकि महाभारत का ‘हीरो’ कृष्ण भक्तिकाल के कवियों को नहीं भाया ? उन्हें तो कृष्ण का बालरूप पसंद आया, जब वे मक्खन चुरा रहे थे और माँ की डाँटें सुन रहे थे । इन बातों पर विचार करने की ज़रूरत है, क्योंकि साहित्य में कोई बात इत्तिफ़ाक से नहीं हो जाती ।

यह भक्तिकाल की शायरी किस की तलाश में है ? कौन खो गया है, जिसके लिए यह काल बिलख रहा है ? बात शायरों की नहीं, बल्कि युगबोध की है । और फिर कौन मिल गया कि विरह की आग बुझ गई और काव्य में ऋंगार का रस आ गया ? यह खो जानेवाली चीज़ ऐसी है, जिसके लिए हिंदू सूरदास और मुसलमान कुतुबन दोनों ही रो रहे हैं । और फिर वह क्या चीज़ है कि जिसके मिलते ही सबके सब ऋंगार का रस पीकर झूमने लगे ? भक्तिकाल को समझने के लिए यह देखना पड़ेगा कि हिंदुस्तानी जीवन या हिंदुस्तानी समाज में कौन-सी नयी चीज़ शामिल हुई, या कौन-सी चीज़ निकल गई ।

हम देखते यह हैं कि जब हिंदूस्तान पर ताबड़तोड़ हमले हो रहे थे और लड़ाई के मैदान में हमारी हार हो रही थी, तो हमारे कवियों ने वीरगाथाएँ सुनाईं । यह लड़ाइयों का युग है । हार-जीत का फैसला नहीं हुआ है । परंतु जब रणभूमि की कहानी समाप्त हुई, तो एकदम वीरगाथाएँ लड़खड़ाने लगीं और भक्ति का संगीत उभरा । इस्लाम और मुसलमान बादशाह – हमारे जीवन में ये दो नयी चीज़े शामिल हो गईं । मुसलमान हमलावर, मुसलमान बादशाह दो चीज़ें हैं और इन्हें गड्डमड्ड नहीं करना चाहिए । और इस्लाम एक बिलकुल तीसरी चीज़ है और इन हमलावरों और बादशाहों से बिलकुल अलग है । इन मुसलमान बादशाहों ने हिंदू बादशाहों की तरह पगड़ी के ताज पहने ! और उन्हीं दिनों यह आवाज़ सुनी गई कि राम कहो कि रहीम कहो........ यानी भक्तिकाल हिंदूस्तानी नयी आत्मा की तलाश का युग है । अकबर तक आते-आते भक्तिकाव्य अपने उत्कर्ष पर आ जाता है । उधर दीने-इलाही शुरू होनेवाला है, इधर सूर, तुलसी और जायसी की आवाज़ आ रही है । कौन यह कह सकता है कि ताज़ मीरा से घटिया कृष्ण भक्त है ? कौन यह कह सकता है कि रसखान की आवाज़ में भक्ति का जो रस है, वह हल्का है ? – यानी वह आत्मा मिल गई, जो ग्यारहवीं-बारहवीं सदी से ढूंढ़ी जा रही थी । बाहर से आनेवाली आत्मा देश की आत्मा में घुल गई । जैसे गंगा से जमुना घुल गई है । इस बात को जाहिर करने के लिए महाभारत के कृष्ण की ज़रूरत नहीं थी । यह बात तो नटखट माखनचोर के जरिये ही कही जा सकती थी । क्योंकि महाभारत के कृष्ण के साथ तो भीम आते अपनी गदा सँभाले हुए । और अर्जुन आते अपनी कमान लिये हुए और फिर रम होता परंतु देश की आत्मा तो शांति की तलाश में थी, इसलिए गोकुल में बालकृष्ण आया- बंसी बजाता हुआ, गाएँ चराता हुआ, बड़े भाई की शिकायत करता हुआ, मक्खन चुराता हुआ, गोपियों को परेशान करता हुआ- इस वातावरण से शांति की सुगंध आती है । इन गीतों में गाँव बसे हुए हैं । बच्चे खेल रहे हैं । माताएँ मक्खन बिलो रही हैं । लड़ाई-वड़ाई तो ख़त्म हो चुकी है । लड़ाई ख़त्म न हो चुकी होती तो कृष्ण ताज़ के घर में मक्खन चुराने कैसे चले जाते ? ये बाल कृष्ण प्रतीक हैं इस अभिलाषा के कि जिन बदनों पर लड़ाई के निशान हैं, वे तो शायद लड़ाई को भूल न पाएँ लेकिन जब आज के बच्चे जवान होंगे, तो उन्हें ये लड़ाइयाँ क्यों याद आएँगी ?

परंतु तुलसीदास की आवाज़ भक्तिकाल के तमाम कवियों की आवाज़ से अलग है । इसलिए मैं तुलसीदास की बात भी अलग से ही करना चाहता हूं । तुलसीदास को इस नयी आत्मा की तलाश नहीं है, जिसे सारा भक्तिकाल तलाश रहा था, बल्कि उन्हें उसी पुरानी आत्मा की तलाश थी, जो मुसलमान हमलावरों से जूझ गई थी । और शायद यही वजह है कि सूरदास और जायसी से कमतर रसमय होते हुए भी, वे दोनों से ज़्यादा लोकप्रिय हुए ! तुलसीदास के लिए लड़ाई ख़त्म नहीं हुई थी । इसीलिए उन्होंने किसी आशिक़ को अपना कथानायक नहीं बनाया, बल्कि उन्होंने एक योद्धा को चुना । राम और रावण की लड़ाई सीता के परिचय से पहले ही उस तपोवन में शुरू हो गई थी, जहाँ अयोध्या के दो राजकुमार कंधे से कमाने लटकाए उसकी पवित्र शांति की हिफ़ाजत कर रहे थे । यानी यह बात हमें पहले ही बता दी जाती है कि इस कहानी का नायय एक वीर सिपाही है । यह बात भी महत्वपूर्म है कि तुलसीदास का नायक भी सूरदास के नायक की तरह बच्चा है । यानी तुलसीदास भी सूरदास की ही तरह नयी पीढ़ी से आशा बाँध रहे हैं । परंतु इन दोनों की आशाओं में बड़ा फ़र्क़ है । सूर शांति का ख़्वाब देख रहे हैं और तुलसी लड़ाई का । यानी ‘रामचरित मानस’वास्तव में भक्तिकाव्य के सिलसिले की कड़ी नहीं है, बल्कि वीरगाथा काल का एक अँग है ।
महाकाव्य की परंपरा के अनुसार तुलसीदास ने राजा का कसीदा नहीं लिखा है । ऐसा क्यों है ? ऐसा इसलिए है कि तुलसीदास किसी मुसलमान को राजा मान ही नहीं सकते थे । मुझे दरअसल इसी कसीदे की कमी ने चौंकाया था । इस कसीदे का न होना एक बुनियादी इशारा है और इसी के सहारे हम तुलसीदास की प्रतीक-भाषा को समझने की कोशिश कर सकते हैं ।

मेरे ख़्याल में रावण मुसलमान बादशाह है । सीता हमारी आज़ादी, हमारी सभ्यता और हमारी आत्मा है, जिसे रावण हर ले गया है । परशुराम की कमान राम के हाथ में है । यानी ब्राह्मणों से धर्म की रक्षा नहीं हो सकती है । क्षत्रिय ? मगर सारे राजा-महाराजा तो मुगल दरबार में हैं । तुलसीदास ऊँची जाति के हिंदुओं से मायूस हैं, क्योंकि ऊँची जाति के हिंदू तो मुगल से मिले बैठं हैं । मगर वे किसी अछूत की नायक नहीं बना सकते थे । इसीलिए उन्होंने एक देवता नायक बनाया । (यह बात बहुत महत्वपूर्ण है कि आर्यपुत्र राम ने भीलनी के जूठे बेर खाये ।) राम की सेना में लक्ष्मण के सिवा ऊँची जाति का एक आदमी भी नहीं है । इन दोनों भाइयों के सिवा राम की सेना में केवल बंदर हैं – नीची जाति के लोग । यानी ऊँची जाति के लोगों से मायूस होकर तुलसीदास ने अछूतों या नीची जाति के हिंदुओं को धर्म की रक्षा के लिए आवाज़ दी ।

लड़ाई हुई । रावण हार गया । सीता मिल गई परंतु नतीजा क्या हुआ ? तुलसी ने देखा कि यह सीता वह नहीं है । इसलिए तुलसी की बसाई हुई अयोध्या ने उस सीता को कुबूल नहीं किया – अग्निपरीक्षा के बाद बी कुबूल नहीं किया, परंतु उसी सीता के बच्चों ने यज्ञ के घोड़े की लगाम पर हाथ डाल दिया । बात फिर बच्चों ही तक आई।

यों हम यह देखते हैं कि धार्मिक साहित्य भी एक सामाजिक आधार होता है ।

f

Friday, October 10, 2008

उर्दू साहित्य की भारतीय आत्मा

राही मासूम रज़ा


यह ग्यारवीं या बारहवीं सदी की बात है कि अमीर खुसरू ने लाहौरी से मिलती-जुलती एक भाषा को दिल्ली में पहचाना और उसे हिंदवी का नाम दिया। उन्नीसवीं सदी के आरंभ तक यही हिंदवी देहलवी, हिंदी, उर्दू-ए-मु्अल्ला और उर्दू कहीं गई । अब लिपि का झगड़ा खड़ा नहीं हुआ था, क्योंकि यह तो वह ज़माना था कि जायसी अपनी अवधी फ़ारसी लिपि में लिखते थे और तुलसी अपनी अवधी नागरी लिपि में । लिपि का झगड़ा तो अँग्रेज़ी की देन है । मैं चूँकि लिपि को भाषा का अंग नहीं मानता हूँ, इसलिए की ऐसी बातें, जो आले अहमद सुरूर और उन्हीं की तरह के दूसरे पेशेवर उर्दूवालों को बुरी लगती हैं, मुझे बिल्कुल बुरी नहीं लगतीं। भाषा का नाम तो हिंदी ही है, जाहे वह किसी लिपि में लिखी जाए। इसलिए मेरा जी चाहता है कि कोई सिरफिरा उठे और सारे हिन्दी साहित्य को पढ़कर कोई राय कायम करे। अगर मुसहफी उर्दू के तमाम कवियों को हिंदी का कवि कहते हैं (उनकी किताब का नाम तजकरए-हिंदी का कवि कहते हुए शरमाएँ मैं उर्दू लिपि का प्रयोग करता हूँ, परंतु मैं हिन्दी कवि हूँ। और यदि मैं हिंदी का कवि हूँ तो मेरे काव्य की आत्मा सूर, तुलसी, जायसी के काव्य की आत्मा से अलग कैसे हो सकती है यह वह जगह है, जहाँ न मेर साथ उर्दूकाले हैं और न शायद हिंदीवाले। और इसीलिए मैं अपने बहुत अकेला-अकेला पाता हूँ ? परंतु क्या मैं केवल इस डर से अपने दिल की बात न कहूँ कि मैं अकेला हूँ । ऐसे ही मौक़ों पर मज़रूह सुलतानपुरी का एक शेर याद आता है :

मैं अकेला ही चला था जानिवे-मंज़िल मगर।
लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया ।।

और इसीलिए मैं हिम्मत नहीं हारता ! और इसीलिए बीच बज़ार में खड़ा आवाज़ दे रहा हूँ कि
मेरे पुरखों ग़ालिब और मीर के साथ सूर, तुलसी और कबीर के नाम भी आते हैं। लिपि के झगड़े में मैं अपनी विरासत और अपनी आत्मा को कैसे भूल जाऊँ न मैं एक लिपि की तलवार से अपने पुरखों का गला काटने को तैयार हूँ और न मैं किसी को य हक देता हूँ कि वह दूसरी लिपि की तलवार से मीर, ग़ालिब और अनीस के गर्दन काटे । आप खुद ही देख सकते हैं कि दोनों तलवारों के नीचे गले हैं मेरे ही बुजुर्गों के। हमारे देश का आलम तो यह है किकनिष्ट की शेरवानी को मुसलमानों के सर मार के हम हिंदू और मुसलमान पहनावों की बातें करने लगते हैं घाघरे में कलियाँ लग जाती हैं तो हम घाघरों को पहचानने से इंकार कर देते हैं और मुगलों-वुगलों की बातें करने लगते हैं, परंतु कलमी आम खाते वक़्त हम कुछ नहीं सोचते ऐसे वातावरण में दिल की बात कहने से जी अवश्य डरता है, परंतु किसी-न-किसी को तो ये बातें कहनी ही पड़ेगी।

बात यह है कि हम लोग हर चीज़ को मज़हब की ऐनक लगाकर देखते हैं। किसी प्रयोगशाला का उद्घाटन करना होता है, तब भी हम या मिलाद करते हैं या नारियल फोड़ते हैं तो भाषा इस ठप्पे से कैसे बचती और साहित्य पर यह रंग चढ़ाने की कोशिश क्यों न की जाती चुनांचे उन्नीसवीं सदी के आखिर में या बीसवीं सदी के आरंभ में हिंदी, हिंदू हिंदुस्तान का नारा लगाया गया। इस नारे में जिन तीन शब्दों का प्रयोग हुआ है, वे तीनों ही फ़ारसी के हैं हिंदी कहते हैं, हिंदुस्तानी को, हिंदू काले को। और हिंदुस्तान हिंदुओ के देश को। यानी हिंदू शब्द किसी धर्म से ताल्लुक नहीं रखता। ईरान और अरब के लोग हिंदुस्तानी मुसलमानों को भी हिंदू कहते हैं यानी हिंदू नाम है हिंदुस्तानी क्रीम का। मैंने अपने थीसिस में यही बात लीखी थी तो उर्दू के एक मशहूँर विद्वान् ने यह बात काट दी थई। परंतु मैं भी यह बात फिर कहाना चाता हूँ कि हिंदुस्तान के तमाम लोग धार्मिक मतभेद के बावजूद हिंदू है। हमारे देश का नाम हिंदुस्तान है। हमारे क़ौम का नाम हिंदू और इसलिए हमारी भाषा का नाम हिन्दी । हिंदुस्तान की सीमा हिन्दी की सीमा है। यानी मैं भी हिंदी, हिंदू, हिंदुस्तान का नारा लगाता हूँ, परंतु मैं यह नारा उस तरह नहीं लगाता, जिस तरह वह लगाया जा रहा है। मैं एक मुसलमान हिंदू हूँ । कोई विक्टर ईसाई हिंदू होगा और मातादीन वैष्णव या आर्यसमाजी हिंदू ! इस देश में कई धर्म समा सकते हैं, परंतु एक देश में कई क़ौमें नहीं समा करतीं ! परंतु यह सीधी-सी बात भी अब तक बहुत से हिंदुओं (हिंदुस्तानियों) की समझ में नहीं आ सकी है। हमें धर्म की यह ऐनक उतारनी पड़ेगी। इस ऐनक का नंबर गलत हो गया है् और अपना देश हमें धुँधला-धुँधला दिखाई दे रहा है।

हम हर चीज़ को शक की निगाह से देखन लगे हैं। ग़ालिब गुलोहुलुल का प्रयोग करता है और कोयल की कूक नहीं सूनता, इसलिए वह ईरान या पाकिस्तान का जासूस है ? हम आत्मा को नहीं देखते । वस्त्र में उलझकर रह जाते हैं। वे तमाम शब्द जो हमारी जबानों पर चढ़े हुए हैं, हमारे हैं। हमारे हैं। एक मिसाल लीजिए। ‘डाक’ अँग्रेज़ी का शब्द है। ‘खाना’ फारसी का। परंतु हम ‘डाकखाना’ बोलते हैं। यह ‘डाकखाना’ हिंदी का शब्द है। इस ‘डाकघर’ या कुछ और कहने की क्या ज़रूरत ? अरब की लैला काली थी। परंतु उर्दू गज़ल की लैला का रंग अच्छा-खासा साफ़ है। तो इस गोरी लैला को हम अरबी क्यों मानें ? लैला और मजनूँ या शीरीं और फरहाद का कोई महत्त्व नहीं है। महत्त्व है उस कहानी का, जो इन प्रतीकों के जरिए हमें सुनाई जा रही है। परंतु हम तो शब्दों में उलझ कर रह गए हैं। हमने कहानियों पर विचार करने का कष्ट ही नहीं उठाया है। मैं आपकों वही कहानियाँ सुनाना चाहता हूँ ।

मैं आपको और मौलाना नदवी आले अहमद सुरूर और डॉक्टर फ़रीदी को यह दिखालाना चाहता हूँ कि मीर, सौदा, ग़ालिब और अनीस, सुर, तुलसी और कबीर ही के सिलसिले की कड़ियाँ हैं। फ़ारदी के उन शब्दों को कैसे देश निकाल दे दिया जाय, जिनका प्रयोग मीरा, तुलसी और सूर ने किया है ? ये शब्द हमारे साहित्य में छपे हुए हैं। एक ईंट सरकाई गई, तो साहित्य की पूरी इमारत गिर पड़ेगी।

मैं शब्दों की बात नहीं कर रहा हूँ। साहित्य की बात कर रहा हूँ। यह देखने का कष्ट उठाइए कि कबीर ने जब मीर बनकर जन्म लिया तो वे क्या बोल और जब तुलसी ने अनीस के रूप मे जन्म लिया तो उस रूप में उन्होंने कैसा रामचरित लिखा।

Thursday, October 9, 2008

इन्टरनेट पर गम्भीर पाठकों की कमी

इन्टरनेट पर गम्भीर पाठकों की कमी विषय पर चर्चा के लिये आप सभी लोग आमंत्रित है . आप अपने विचार भेजें. इसको ब्लाग पर पोस्ट किया जायेगा.

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते

राही मासूम रज़ा

अजनबी शहर के/में अजनबी रास्ते , मेरी तन्हाईयों पे मुस्कुराते रहे ।
मैं बहुत देर तक यूं ही चलता रहा, तुम बहुत देर तक याद आते रहे ।।

ज़ख्म मिलता रहा, ज़हर पीते रहे, रोज़ मरते रहे रोज़ जीते रहे,
जिंदगी भी हमें आज़माती रही, और हम भी उसे आज़माते रहे ।।

ज़ख्म जब भी कोई ज़हनो दिल पे लगा, तो जिंदगी की तरफ़ एक दरीचा खुला
हम भी किसी साज़ की तरह हैं, चोट खाते रहे और गुनगुनाते रहे ।।

कल कुछ ऐसा हुआ मैं बहुत थक गया, इसलिये सुन के भी अनसुनी कर गया,
इतनी यादों के भटके हुए कारवां, दिल के जख्मों के दर खटखटाते रहे ।।

सख्त हालात के तेज़ तूफानों, गिर गया था हमारा जुनूने वफ़ा
हम चिराग़े-तमन्ना़ जलाते रहे, वो चिराग़े-तमन्ना बुझाते रहे ।।

हंगरी में संस्कृत कार्यशाला

कोजेग-हंगरी

पाँचवे इंटरनेशनल इंटेंसिव समर रिट्रीट (एफ.आई.एस.एस.आर.) का आयोजन 21 जुलाई 2008 से 26 जुलाई 2008 तक कोज़ेग हंगरी में किया गया। इसका आयोजन इन्डोयूरोपियन स्टडीज़ भारोपीय अध्ययन विभाग, ओत्वोश लोरेन्ड विश्विद्यालय बुडापेस्ट (हंगरी) ने किया। कार्यक्रम के प्रमुख संयोजक ऐल्ते विश्विद्यालय के संस्कृत वरिष्ठ प्राध्यापक श्री चाबा और हिंदी की विभागाध्यक्ष सुश्री मारिया नैज्येशी थीं। इस रिट्रीट में भाग लेने के लिए यूरोप के विभिन्न देशों से लगभग 20 युवा संस्कृत विद्वान एवं विद्यार्थी आए। कार्यशाला में संस्कृत की तीन पुस्तकों का पठन-पाठन के लिए चयन किया गया, जिनका अध्ययन तीन अलग-अलग सत्रों में किया जाता था। प्रथम सत्र की पुस्तक थी कुट्टनीमतम् (दामोदर गुप्त)। सत्र के संचालक डेज्सो चाबा और डोमिनिक गुडौल। दूसरे सत्र की पुस्तक थी परमोक्षनिरासकारिका वृत्तिः (भट्ट रामकंठ)। सत्र के संचालक थे एलेक्स वाटसन और डोमिनिक गुडौल। तीसरे सत्र की पुस्तक थी वाराणसीमहात्म्य इस सत्र के संचालक थे पीटर बिशप।
ऐल्ते विशविद्यालय ने सन् 2002 में पहले इंटरनेशनल इंटेंसिव समर रिट्रीट (आई.एस.एस.आर.) का आयोजन रोमानिया में किया था। दूसरे समर रिट्रीट का आयोजन फ्रेंच स्कूल ऑफ एशियन स्टडीज़ (ई.एफ.ई.ओ.) ने पॉडिचेरी में, तीसरे का आयोजन पोलिश भारतविद्याविदों द्वारा पोलेंड में 2004 में और चौथा एक बार फिर 2007 में पॉंडिचेरी में किया गया।
इन संस्कृत समर रिट्रीट्स का उद्देश्य संस्कृत के काव्य, शास्त्र, पुराण एवं तंत्र साहित्य में से कुछ पुस्तकों का चयन करके उनका सामूहिक पठन-पाठन करना रहा है जिससे भारतीय साहित्य, दर्शन एवं धर्म संबंधी ज्ञान का प्रथम दृष्ट्या अनुभव प्राप्त किया जा सके। इसका संचालन भी परंपरागत् विश्वविद्यालयी शैली में न होकर नए रूप में होता है। प्रत्येक पुस्तकीय सत्र का संचालक एक ऐसा संस्कृत विद्वान (विद्यार्थी) होता है जो उस पुस्तक पर शोधरत है। हर एक प्रतिभागी निर्धारित पुस्तक से कुछ अंश पढ़ता है और उसपर अपने विचार व्यक्त करता है। सभी प्रतिभागी बराबर से अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं व शंकाएँ उठा सकते हैं।
इस आयोजन का एक बड़ा वैशिष्ट्य यह भी था कि यह बिना किसी सरकारी अनुदान के ही किया गया था। सभी प्रतिभागियों ने अपने संपूर्ण खर्च का वहन स्वयं ही किया था, जो उनके संस्कृत प्रेम और निष्ठा का परिचायक है।

मेरे दिल में तू ही तू है

कैफ़ी आज़मी

मेरे दिल में तू ही तू है दिल की दवा क्या करूँ
दिल भी तू है जाँ भी तू है तुझपे फ़िदा क्या करूँ

ख़ुद को खोकर तुझको पा कर क्या क्या मिला क्या कहूँ
तेरा होके जीने में क्या क्या आया मज़ा क्या कहूँ
कैसे दिन हैं कैसी रातें कैसी फ़िज़ा क्या कहूँ
मेरी होके तूने मुझको क्या क्या दिया क्या कहूँ
मेरी पहलू में जब तू है फिर मैं दुआ क्या करूँ
दिल भी तू है जाँ भी तू है तुझपे फ़िदा क्या करूँ
है ये दुनिया दिल की दुनिया, मिलके रहेंगे यहाँ

लूटेंगे हम ख़ुशियाँ हर पल, दुख न सहेंगे यहाँ
अरमानों के चंचल धारे ऐसे बहेंगे यहाँ
ये तो सपनों की जन्नत है सब ही कहेंगे यहाँ
ये दुनिया मेरे दिल में बसी है दिल से जुदा क्या करूँ
दिल भी तू है जाँ भी तू है तुझपे फ़िदा क्या करूँ

Wednesday, October 8, 2008

पीर मेरी, प्यार बन जा

गोपालदास "नीरज"

पीर मेरी, प्यार बन जा !
लुट गया सर्वस्व, जीवन,
है बना बस पाप- सा धन,
रे हृदय, मधु-कोष अक्षय, अब अनल-अंगार बन जा !
पीर मेरी, प्यार बन जा !

अस्थि-पंजर से लिपट कर,
क्यों तड़पता आह भर भर,
चिरविधुर मेरे विकल उर, जल अरे जल, छार बन जा
पीर मेरी, प्यार बन जा !

क्यों जलाती व्यर्थ मुझको
क्यों रुलाती व्यर्थ मुझको
क्यों चलाती व्यर्थ मुझको
री अमर मरु-प्यास, मेरी मृत्यु ही साकार बन जा
पीर मेरी, प्यार बन जा !

Tuesday, October 7, 2008

ख़्वाब का दर बंद है

शहरयार


मेरे लिए रात ने
आज फ़राहम किया
एक नया मर्हला
नींदों ने ख़ाली किया
अश्कों से फ़िर भर दिया
कासा मेरी आँख का
और कहा कान में
मैंने हर एक जुर्म से
तुमको बरी कर दिया
मैंने सदा के लिए
तुमको रिहा कर दिया
जाओ जिधर चाहो तुम
जागो कि सो जाओ तुम
ख़्वाब का दर बंद है

ऐसे हिज्र के मौसम अब कब आते हैं

शहरयार

ऐसे हिज्र के मौसम अब कब आते हैं
तेरे अलावा याद हमें सब आते हैं

जज़्ब करे क्यों रेत हमारे अश्कों को
तेरा दामन तर करने अब आते हैं

अब वो सफ़र की ताब नहीं बाक़ी वरना
हम को बुलावे दश्त से जब तब आते हैं

जागती आँखों से भी देखो दुनिया को
ख़्वाबों का क्या है वो हर शब आते हैं

काग़ज़ की कश्ती में दरिया पार किया
देखो हम को क्या क्या करतब आते हैं

Monday, October 6, 2008

"इंतज़ार"

सीमा गुप्ता


"तुझको है इंतज़ार लफ्जों का,
हम तेरा इंतज़ार करते हैं
दिल पे एक बोझ सा हमारे है,
कह के कुछ अश्कबार करते हैं
लफ्ज़ पूरे कहाँ हैं कहने को,
हम तुझे इतना प्यार करते हैं
अब तखय्युल मैं तुम ही बसते हो,
हम जो बातें हज़ार करते हैं
तेरे होटों को है सलाम उनका,
हम तेरे लिए दुआ बेशुमार करते हैं
एक "मुलाकात " ही तो है बाकी,
हम बहुत इंतज़ार करते हैं "

Sunday, October 5, 2008

"तेरी याद में"

SEEMA GUPTA

तेरी ग़ज़लों को पढ़ रहा हूँ मैं ,
और तेरी याद में शिद्दत है बहुत
जैसे तुझसे ही मिल रहा हूँ मैं,
और तेरे प्यार में राहत है बहुत
वो तेरे वस्ल का दिन याद आया,
मुझ पे अल्लाह की रहमत है बहुत
तुझसे मिलाने को तरसता हूँ मैं,
मेरी जान तुझ से मुहब्बत है बहुत
तेरे अंदाज़ में ख़ुद को देखा,
हाँ तुझे मेरी ही चाहत है बहुत

'दो फूल'

Seema gupta
मेरी कब्र पे दो फूल रोज आकर चढाते हैं वो,
हाय , इस कदर क्यों मुझे तडपाते हैं वो.
मेरे हाथों को छुना भी मुनासिब न समझा,
आज मेरी मजार से लिपट के आंसू बहाते हैं वो.
हाले यार समझ ना सके अब तलक जिनका,
मेरे दिल पे सर रख कर हाले दिल सुनाते हैं वो.
जिक्र चलता है जब जब मोहब्बत का जमाने मे,
मेरा नाम अपने लब पर लाकर बुदबुदाते हैं वो.
मुझसे मिलने मे बदनामी का डर था जिनको,
छोड़ कर हया मेरी कब्र पे दौडे चले आतें हैं वो.
उनके गम का सबब कोई जो पूछे उनसे ,
दुनिया को मुझे अपना आशिक बतातें हैं वो,
कहे जो उनसे कोई पहने शादी का जोडा वो,
मेरी मिट्टी से मांग अपनी सजाते है वो.
मेरी कब्र पे दो फूल रोज आकर चढाते हैं वो,
हाय , इस कदर क्यों मुझे तडपते हैं वो

"सवाल"

सीमा गुप्ता
जवाब न बना , रहा एक उलझा सा सवाल बनके ,
बहता रहा मुझमे वो हर लम्हा दर्द-ऐ-ख्याल बनके,
आने से पहले ही जो गुजर जाए बिन कुछ कहे,
वो रहा ऐसे गुजरे वक्त की एक मिसाल बनके