Sunday, August 31, 2008

रात

सीमा गुप्ता

"क्या हुआ जो ये रात,
"कुछ"
शिकवो शिकायतों के साथ गुजरी ,
क्या हुआ जो अगर ये रात,
आंसुओ के सैलाब से बह कर गुजरी ,
"गौर -ऐ -तलब" है के ये रात,
आप के ख्यालात के साथ गुजरी

No comments: