Thursday, August 28, 2008

काश

सीमा गुप्ता

तेरे साथ गुजरे,
" लम्हों"
की कसक,
आज भी
दिल मे बाकी है,
"काश "
वो मौसम
वो समा
फ़िर से बंधे

No comments: