Sunday, August 31, 2008

तेरा वजूद

सीमा गुप्ता

मेरी बोजिल आहें,
मेरी तड़पती बाहें,
मेरी बिख्लती ऑंखें,
और मेरी डूबती सांसें

No comments: