Skip to main content

मेरी स्मृति के कमलेश्वर

वीरेन्द्र जैन
मैंने कमलेश्वर को कहानीकार की तरह जानने से पहले एक सम्पादक के रूप में जाना।सारिका में उनके सम्पादकीय पढने से पहले मैं उन्हें मोहन राकेश,राजेन्द्रयादव कमलेश्वर नामक त्रिशूल के एक सदस्य के रूप में ही जानता था।और जब मैंने उन्हें जाना तब तक उनका कहानीकार तो पीछे छूट चुका था और रह गया था एक सामाजिक कार्यकर्ता, एक फिल्मकथा-पटकथा लेखक,एक सम्पादक,एक लेखकसंगठन का नेतृत्वकारी साथी दूरदर्शन का महानिदेशक विभिन्न अवसरों पर आंखेंदेखा हाल सुनाने वाला उद्घोषक, डाकूमेंटरी फिल्म निर्माता,स्तंभलेखक, धर्मनिरपेक्षता का सिपहसालार आदि। सच तो यह है कि कमलेश्वर के ये रूप मुझे उनके कहानीकार से भी अधिक आर्कषक लगते थे।एक अकेले आदमी में इतने आयाम देख कर मुझे हैरत होती थी।बामपंथी विचारधारा और साहित्य में कुछ करने का सपना मुझे विरासत में मिला था, इसलिये तार्किक ढंग से अपनी बात कहने वाले बामपंथी विचारक व साहित्यकार मुझे स्वाभाविक रूप से अच्छे लगते थे।

विसंगति यह हुयी कि साहित्य में मुझे जिन लोगों ने प्रारम्भ में स्थान दिया वे बामविरोधी संस्थान थे व इतने चर्चित और उच्चस्तरीय थे कि उनमें स्थान पा लेने पर अच्छा लगना सहज स्वाभाविक था।यह उन्नीस सौ इकहत्तर का वर्ष था जब मुझे किसी बड़ी मानी जाने वाली पत्रिका में पहली बार स्थान मिला था और तब से ही मैं हिन्दी की सभी लोकप्रिय पत्रिकाओं का पाठक हो गया था जिनमें सारिका भी एक थी।किसी व्यावसायिक संस्थान की पत्रिका में आम आदमी की पक्षधरता के तेवर मुझे खूब भाने लगे। मुझे लगता था कि काश मैं भी इस पत्रिका में प्रकाशित होने लायक कुछ लिख सकूं। पर निरन्तर प्रकाशित होते रहने की वासना के वषीभूत मैं गैरबामपंथी पत्रिकाओं मैं प्रकाशित रचनाओं में से ही अपने मानदण्ड खोजता रहा।दूसरी ओर प्रयास के बाद भी मुझे प्रगतिशील जनवादी पत्रिकाओं में वांछित स्थान नहीं मिल सका।भारत भूषण केशशब्द उधार लेकर कहूं तो -बांह में है और कोई चाह में है और कोई- वाला मामला था।फिर इसी बीच गुजरात का छात्र आन्दोलन,जयप्रकाशजी का सम्पूर्णक्रान्ति का नारा,रेल हड़ताल आदि जैसी घटनाएं घटीं तथा श्रीमती इन्दिरा गांधी के खिलाफ हाईकोर्ट के फैसले के बाद तो इमरजैंसी ही लगा दी गयी।इमरजैंसी के साथ सैंसरशिप लागू होते ही धर्मयुग का एक अंक तो रद्द ही कर दिया गया और सारिका की अनेक कहानियों पर कालिख पोत दी गयी। सारिका सम्पादक कमलेश्वर ने अंक को स्थगित करना पसंद नहीं किया था। वे चाहते तो कालिख पोतने की जगह उन अंशों को हटा भी सकते थे, पर उन्होंने कालिख पोत कर एक सन्देश देना अधिक उचित समझा। कमलेश्वर जी का यह ढंग मुझे बहुत भाया।इसी दौरान उनके समांतर कथा आंदोलन से सामने आयी कहानियों व दुष्यंत कुमार की गजलों को सारिका में छाप कर उन्होंने मुझे ही नहीं अपितु देष के असंख्य पाठकों को अपना मुरीद बना लिया था।
इमरजैंसी हटने के बाद लोक सभा के चुनाव हुये व श्रीमती इन्दिरागांधी को हार का सामना करना पड़ा। जो नई सरकार सत्ता में आयी उसमें संघ से जनित जनसंघ भी अपने को विलीन करने का दिखावा करते हुये घुस गयी थी।यद्यपि बुद्धिजीवी और राजनीतिक विश्लेशक यह मान रहे थे कि कि संघ कभी भी जनसंघ को अपना अस्तित्व समाप्त नहीं करने देगा तथा यह संघ की एक चाल मात्र है।केन्द्रीय सरकार में अमेरिका परस्त संघ के होने से सारे बामपंथी, व मजदूर आन्दोलन से जुड़े लोग सषंकित थे क्योंकि अमेरिका ने शीतयुद्ध के दौर में सदैव ही भारत के साथ शत्रुतापूर्ण व्यवहार किया था।सभी देशभक्त चाहते थे कि संघ की इस चाल को जनता के सामने उजागर किया जाये।हिन्दीभाषी क्षेत्र में इस काम को करने का बीड़ा जिन लोगों ने उठाया उनमें हरिषंकर परसाई, कमलेश्वर, डा. राही मासूम रजा समेत बामपंथी विचारों से जुड़े अनेक पत्रकार थे।सारिका के माध्यम से कमलेश्वर जी अपनी सम्पादकीय टिप्पणियों में सरकार और सरकार में शामिल दलों की भरपूर खबर ले रहे थे।वे बड़े अखबारों के उन सम्पादकों को भी नहीं छोड़ रहे थे जिन्होंने इमरजैंसी में तत्कालीन सरकार की पक्षधरता की और इस समय भी नई सरकार को नई आजादी का जनक बतला रहे थे। ऐसे सम्पादकों के खिलाफ वे जो कायर थे वे कायर ही रहैंगे' शीर्षक से लिख रहे थे तथा सम्पादकीय न लिखने वाले सम्पादकों को अवसरवादी सिद्ध कर रहे थे।जनतापार्टी सरकार ने कई जांच कमीशन बैठाये थे और इन्हें दूसरी आजादी का जांच कमीशन' बताया जा रहा था।कमलेश्वर जी ने उसी समय तीसरी आजादी का जांच कमीशन' नाम से लिखना प्रारम्भ किया जिसका सार यह था कि इस सरकार के बाद जो सरकार आयेगी वह इनके खिलाफ तीसरी आजादी का जांच कमीशन बैठायेगी क्योंकि ये भी लगभग सब कुछ वही कर रहे हैं जो पिछली सरकार ने किया था,दूसरे इनके साथ एक जानामाना साम्प्रदायिक संगठन धोखा भी कर रहा है।उनका सन्देश यह था कि लोकतंत्र में सरकारें तो बदलती ही रहती हैं पर ऐसे प्रत्येक परिवर्तन को आजादी की लड़ाई बतलाना हमारे स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का अपमान है।

Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …