Skip to main content

संवेदनायें मील का पत्थर हैं

प्रत्यक्षा सिंहा

नासिरा शर्मा की ‘संगसार कहनी-संग्रह’, ईरान की पृष्ठभूमि में 1980 से 1992 के दरम्यान लिखी वो कहानियां हैं जिसके पात्रा और जिनकी स्थितियाँ किसी विदेशी ज़मीन के बावजूद हमारे ही इर्द- गिर्द से उपजी पनपी कहानियाँ लगती हैं। उनकी आकाँक्षायें, उनके सुख और उनके दुख -सब ऐसे हैं जो हमारे आसपास के देखे हुए महसूसे हुये हैं। इंसान की संवेदनाओं और इच्छाओं का ऐसा व्यापक फ़लक जो आसमान के फैलाव लिये होने के साथ ही फिर सिमटकर छाती के भारीपन और आँख के गर्म आंसू में सिमट जाये, ऐसी कहानियांँ है ‘‘संगसार’’ में।

ये कहानियाँ जगह, समय, धर्म के परे उन जज़्बातों की कहानियाँ हैं जो सदियों से आजतक विभिन्न रूपों और शक्लों में बार-बार दोहराई जा रही है। प्रेम की, बलिदान की, बुनियादी इंसानी ज़रूरतों की, छोटे-छोटे सहज भोले आकाँक्षाओं की, खुली हवा में फेफड़ा भर सांस लेने की नैसर्गिक चाहत की पिरोयी मालायें है। उन सभी एहसासों का दस्तावेज़ है जिनके अक्षर पढ़ मानव सभ्यता का विकास हुआ।

विदेशी सरोकारों वाली इन कहानियों के पीछे एक लेखक की तमाम वो संवेदनायें हैं जो देश काल के दायरे को तोड़ता हुआ उनको आमजन से जोड़ता है। किसी यात्रा संस्मरण की सीमा तोड़ती, इन कहानियों का स्वरूप दिल और दिमाग़ के उन तंतुआंे से एक तार कर देता है जो हरेक एहसास को वृहत मानव समाज से जोड़ता हुआ उसे इतना व्यापक बनाता है कि अंतः ये किसी देश, किसी काल, किसी स्थिति से बहुत ऊपर उठकर इंसानी आवेगों का ऐसा महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ बन जाती है जो ‘सच’ हैं किसी भी सभ्यता के लिए और इन्हीं वजहों से ये कहानियाँ होने के साथ-साथ एक व्यापक, वैश्विक स्तर की कहानियाँ बनते हुये बहुत ऊपर उठ जाती है ।

नासिरा जी ने पुस्तक के प्रारम्भ में ‘दो शब्द’ में कहा है, ‘कब्र में सोए उन कर्मठ, निष्ठावानों को जो आज भी दिलों के चिराग़ बन गरमी और रौशनी देते है।’

ये दो पंक्तियाँ बता देती हैं कि इन कहानियों का वास्तविक काल कौन-सा था। ये उन वक़्त की कहानियाँ है जब ईरान अपनी निष्ठा और बलिदान के चरम पर था। जब ऐसी स्थिति थी जिसमें लोग एक दूसरे को भय से, शक से, नफ़रत से देख रहे थे, चाहे इसकी वजह शाह हो, इस्लाम हो या साम्यवाद हो। ये उस समय की देन थी जब तानाशाही के विरोध में लोग उठ रहे थे जब ऐसे भी लोग थे जो तानाशाही बरक़रार रख उसमें अपना स्वार्थ तलाश रहे थे। ये ऐसे समय के तोड़-फोड़ वाली दुनिया, विध्वंस वाली दुनिया में कोमल राग तलाशने की जिजीविषा वाली कहानियाँ हैं, खूँख़ार समय में, टूटी इमारतों के अवशेेषों के किसी कोपल के सहसा उग आने का जीवन राग हैं।

कहानी ‘ख़लिश’ सोहराब की कहानी है जो हिन्दुस्तान जाना चाहता है आगे की पढ़ाई के लिये लेकिन साथियों के सोहबत में अपने भविष्य को अंधे कूँए में डाल आता है। बहाइयों के घर छापे में उसके साथी उनकी मजहबी किताबों को आग लगा देते हैं और सोहराब का दिल धुँआ- धुँआ हो जाता है। इसके साथ ही सोहराब के अब्बा उसकी पढ़ाई के पैसों का इंतज़ाम करने किसी बेेेसहारा बुढ़िया के मौत केे कारण बनते हैं और ये ग़लत काम उनको घुटन और उदासी में ठेल देता है। ‘ख़लिश’ के सोहराब और अब्बा हर उस जगह पाये जाते हैं जहाँ नेकनियति अब भी हज़ार दुश्वारियों के कायम है। यही आशा की किरण है।

इन कहानियों में कई ऐसी कहानियाँ हैं जो स्त्राी के बुनियादी अस्मिता की दास्तान हैं। इन भयानक उठापठक के समय में जो ख़ास संगदिली का सामना उनको करना पड़ता है उसका विस्तृत बयान है। स्त्रिायों की अधीनस्थ स्थिति वैसे ही उन्हंे दयनीय बनाती और बुरे कठिन वक़्तों में ये मार उन पर दोहरी पड़ती है। पर बावजूद कि इन कठिन हालातों का विस्तार से वर्णन है। एक बात जो हर कहानी में उभर कर आती है इन स्त्रिायों के अंदर, उनके बाहरी कोमल स्वरूप के भीतर एक ऐसा मज़बूत कोर है, जो उन्हंे हर तकलीफ़देह समय में अपना सर पानी के ऊपर उठाये रखने में कारगर साबित करता है। इन कहानियों की ‘आखि़री पहर’ की ज़ाहेदा हो या ‘संगसार’ की आसिया या ‘गूँगा आसमान’ की मेहरअंगीज़ या फिर ‘नमक का घर’ की शहरबानों, ये औरतें अपने वजूद की लड़ाइयाँ लड़ती हैं। शहरबानांे अपने खोये घर और गुमशुदा परिवार की त्रासदी झेलती औरत है जिसका तार अपने जड़ों से टूट गया है, इस खोये की तलाश में बेचैन परिन्दा है और इस मुग़ालते को जिलाये रखना उसकी ज़रूरत है, ‘‘ताकि मैं जीने के क़ाबिल अपने को बना सकूश्ं, वरना मुझे हर पल लगता है, मैं मर रही हूँ...’’

आसिया प्रेम की पवित्राता का सच्चा नमूना है। पति के साथ बेवफ़ाई के बावजूद उसके विवाहेतर प्रेम संबंध में बेपनाह जुदाई है, ऐसी सच्चाई है जो इस दोहरे मानदंड वाले पारंपरिक समाज में भी उसके मौत का फ़रमान जारी होने पर ये सच्चाई बयान करती है, ‘‘उस रात औरतों ने चूल्हे नहीं जलाये, मर्दांे ने खाना नहीं खाया, सब एक दूसरे से आँख चुराते है। यदि आसिया गुनाहगार थीं तो फिर उसके संगसार होने पर यह दर्द, यह कसक उनके दिलों को क्यों मथ रही थी।’’.............................................शेष भाग पढ़ने के लिए पत्रिका देखिए



















Comments

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …