Sunday, September 27, 2009

दलित विमर्श और हम

पुस्तक प्रकाशित






दलित विमर्श और हम
स. फीरोज/शगुफ्ता



अनुक्रम


दो शब्द


शिव कुमार मिश्र - दलित साहित्यःअंतर्विरोध के बीच और उनके बावजूद ०९


माता प्रसाद - दलित साहित्य, सामाजिक समता का साहित्य है १८


शुकदेव सिंह - दलित-विमर्श, दलित-उत्कर्ष और दलित-संघर्ष २१


धर्मवीर - डॉ० शुकदेव सिंह : पालकी कहारों ने लूटी २९


रामदेव शुक्ल - कौन है दलितों का सगा? ३६


मूलचन्द सोनकर - रंगभूमि के आईने में सूरदास के नायकत्व की पड़ताल ४४


सुरेश पंडित - दलित साहित्य : सीमाएं और सम्भावनाएँ ६१


रामकली सराफ - दलित विमर्श से जुड़े कुछ मुद्दे ६७


कमल किशोर श्रमिक - अम्बेडकर की दलित चेतना एवं मार्क्स ७५


ईश कुमार गंगानिया- दलित आईने में मीडिया ८०


सूरजपाल चौहान - दलित साहित्य का महत्त्व एवं उसकी उपयोगिता ८७


अनिता भारती - दलिताएँ खुद लिखेंगी अपना इतिहास ९०


हरेराम पाठक - दलित लेखन : साहित्य में जातीय सम्प्रदायवाद का संक्रमण ९८


तारा परमार - दलित महिलाएं एवं उनका सशक्तिकरण १०४


तारिक असलम - दलित मुसलमानों की सामाजिक त्रासदी ११०


मानवेन्द्र पाठक - साठोत्तरी हिन्दी कविता में दलित-चेतना ११९


जगत सिंह बिष्ट - शैलेश मटियानी के कहानी साहित्य में दलित संदर्भ १२४


जसराम हरनोटिया-निजीकरण और दलित १३४


आदित्य प्रचण्डिया-दलित साहित्य-चिन्तन के दस्तावेज १४०


फीरोज खान - दलित साहित्य की अवधारणा एवं दलित साहित्यः एक विमर्श १४४


इकरार अहमद - दलित विरोध का यथार्थ १४९


साक्षात्कार


- डॉ० जय प्रकाश कर्दम से डॉ० पूरन सिंह की अन्तरंग बातचीत १५६


- तीन आम दलित व्यक्तियों से डॉ० मेराज अहमद की बातचीत १६१


- रमणिका गुप्ता से डॉ० शगुफ्ता नियाज की अन्तरंग बातचीत १७२


- डॉ० श्योराज सिंह बेचैन से मिर्जा गौहर हयात की बातचीत १८०


No comments: