Skip to main content

वाङ्मय का कुसुम अंसल विशेषांक

भानु चैहान अलीगढ़




हिन्दी में साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में वाङ्मय एक जाना-माना नाम है। सामान्य अंकों के साथ-साथ समय-समय पर निकाले जाने वाले विशेषांकों जैसे- हिन्दी के मुस्लिम कथाकार अंक कबीर अंक साक्षात्कार अंक नारी अंक राही मासूम रज़ा अंक बदीउज्ज़़माँ अंक नासिरा शर्मा अंक आदि ने पत्रिका को विशेष ख्याति दिलाई। इसी क्रम में वाडमय पत्रिका अपने नये अंक-कथाकार कुसुम अंसल विशेषांक लेकर उपस्थिति हुई।


कविता कहानी उपन्यास यात्रा वृतांत्त आत्मकथा नाटक निबंध अनुवाद आदि सभी विधाओं में अपनी कुशल रचनाधर्मिता का परिचय कुसुम जी ने दिया है किन्तु फिर भी यह दुखद है कि साहित्यिक जगत में वह स्थान नहीं मिला जिसकी वह अधिकारी हैं इसका कारण उनकी रचनाओं का उचित मूल्यांकन न होना भी हो सकता हैं इसी तथ्य को ध्यान में रखते हुए वाडमय पत्रिका ने कुसुम अंसल विशेषांक में उनके व्यक्तित्व व कृतित्त्व को विभिन्न कोणों से देखते-परखते हुए साहित्यिक जगत का ध्यान आकृष्ट करने और उसके मूल्यांकन का प्रयास किया गया है।

विस्तृत फलक पर फैले कुसुम जी के साहित्य को चार भागों - व्यक्तित्व व कृतित्त्व और कविताओं का मूल्यांकन उपन्यासों का मूल्यंकन कहानियों का मूल्यांकन आत्मकथा नाटक निबंध यात्रा एवं साक्षात्कार में बांटा गया हैं। उनके बहुमुखी व्यक्तित्व को निकट से जानने के प्रयास हेतु कमल सचदेव व प्रेमकुमार द्वारा लिए गये साक्षात्कार को भी शामिल किया गया है। अंत में परिशिष्ट के रूप में कुसुम जी के जीवन एवं रचनाओं से जुड़ी और महत्त्वपूर्ण जानकारी दी गई है।

भाग-एक, के पहले लेख में कुसुम जी के सम्पूर्ण व्यक्तित्व व कृतित्त्व पर गहराई से विचार किया गया हैं। प्रो प्रचण्डिया शम्भुनाथ राजेन्द्र परदेशी व इकरार अहमद के लेख क्रमशः कुसुम अंसल की कविताः मूल्य और मूल्यांकन अनुभव की तूलिका से परिवेशगत जीवन चित्र उकेरने का प्रयास सामाजिक सरोकार की कवयित्री कुसुम अंसल विभिन्न सामाजिक पक्षों का क्षितिजः भेंट एक पंख में विभिन्न सामाजिक मानवीय राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय नैतिक-अनैतिक पक्षों का मूल्यांकन किया गया है। कुसुम जी की कविता के सम्बंध में डा आदित्य कहते है कि-कुसुम अंसल की रचनावली खण्ड1-2 से गुजरते हुए लगता है कि उनकी कविता पूर्वाग्रह ईष्र्या या द्वेंष का भाव नहीं है बल्कि मानवीय सम्बंधों को गहरा तथा आत्मीय बनाने की काेिशश है भले ही उनकी कविताओं में राजनीति के कुचक्र न हो लेकिन मानवीय सम्बंधों का यथार्थ चित्र अवश्य हैं वह अपने समय के साथ हस्तक्षेप करते हुए समयातीत होकर शाश्वतता में एक नया आयाम जोड़ते हुए निषेधों की दीवार तोड़-फांद का मूल्यों की रचनात्मक जमीन पर अभिनव पौध उगाती है। वस्तुतः कुसुम अंसल की कविता ऐसी खिड़की है जिसमें से जीवन के प्रत्येक रंग देखने को मिलते है। रामकली सराफ का आलेख-खोए आत्म की तलाशः विरूपीकरण सिद्धेश्वर सिंह का आलेख-अपने होने के भीतर की यात्रा डा गुरुचरण सिंह का आलेख-विस्मृति स्व की तलाशः कुसुम अंसल की कविता व बृजेश कुमार का आलेख-आस्था और आस्था से तर्क करती कविताएं में कुसुम जी की कविताओं में नारी जीवन उसकी त्रासदी व समस्याओं और इन सबके बीच अपनी अस्मिता की तलाश का मूल्यांकन किया गया है। विभिन्न शास्त्रों व प्राचीन ग्रंथों में नारी की स्थिति पर विचार करते हुए कुसुम जी के कविता-संग्रह धुएं के सच में नारी मनोविज्ञान की परख की पड़ताल की है।

भाग-दो में कुसुम अंसल जी के उपन्यासों का मूल्यांकन किया गया है। नारी होने के कारण उनके उपन्यास नारी जीवन के जीवंत दस्तावेज कहे जा सकते है। सगीर अशरफ, गोरखनाथ, अवध बिहारी पाठक नगमा जावेद हरेराम पाठक आदि के लेखों में क्रमशः उदास आँखें नींव का पत्थर उस तक एक और पंचवटी रेखाकृति तापसी उपन्यासों का मूल्यांकन नारी जीवन को आधार बनाकर किया गया है। इन आलेखों में जहाँ नारी जीवन उसकी समस्याओं, विडम्बनाओं उतार चढ़ाव मुक्ति के सवालों के बीच अस्तित्व की तलाश व उसकी सम्भावनाओं के प्रयास के रूप में मूल्यांकन किया गया है। वही दूसरी ओर मूलचंद सोनकर हीरालाल नागर और शिवचंद प्रसाद ने अंसल जी के उपन्यासों में अस्मिता की तलाश की राह में भटकाव के दर्शन का वर्णन किया है। सोनकर जी कुसुम जी के उपन्यासों में स्त्री-विमर्श के विभिन्न मुद्दों का विश्लेषण करते हुए इस निष्कर्ष पर पहुँचते है कि उनके उपन्यासों में स्व की तलाश तो है किन्तु वह किसी मंज़िल पर पहुंँचने से पहले रास्ते में ही भटक जाती है। तापसी उपन्यास पर विचार करते हुए पाठक जी का कहना है कि अपनी गहरी मानवीय संवेदना के बावजूद यह उपन्यास प्रभावित नहीं कर पाता। शिवचंद अपनी-अपनी यात्रा उपन्यास पर विचार करते हुए सुरेखा की यात्रा को इधर-उधर मुंह मारने और तरह-तरह की गंध ढूढ़ने तक सीमित देखते हुए नारी चेतना के नाकारात्मक शून्यवादी अंत की ओर संकेत करते है। डा विजया ने इसी उपन्यास को दूसरे दृष्टिकोण से देखने का प्रयास किया है।

भाग-तीन में अंसल जी की कहानी-यात्रा का मूल्यांकन किया गया है। डा संजय ने धूप की छांव के संस्पर्श में कुलीन कथाबोधः कुसुम की कहानियां अमित भारती का आलेख-स्त्री जिजीविषा का दर्पण डा कौशल का आलेख-तप्त दोपहर में छांव की तलाश करती कहानियां व रमाकांत का आलेख-स्त्री जीवन की कहानीकार अंसल में पाश्चात्य संस्कृति व महानगरीय सभ्यता के बढ़ते प्रभाव में सम्बंधों की टूटन उससे उत्पन्न तनाव और अकेलापन पारिवारिक मूल्यहीनता नारी जीवन के विविध पक्ष और भटकती ज़ि़ंदगियों आदि को कुसुम जी कहानियों के मूल स्वर के रूप में देखा गया है। डा मेराज अहमद के आलेख में अंसल जी की कहानियों का परिचयात्मक फलक दिया गया है जो महत्त्वपूर्ण बन पड़ा हैं।

भाग-चार, में कुसुम जी के साहित्य का मूल्यांकन आत्मकथा नाटक, निबंध, यात्रा एवं साक्षात्कार विधाओं के भीतर की गयी है। दया दीक्षित और डा नीरू ने उनके जीवन के उतार-चढ़ाव के बीच अपने लिए नये जमीन-आसमान तलाशने के हौसले को आपसी आत्मकथा में देखा हैं। डा परमेश्वरी शर्मा अशोक कुमार क्षमा मिश्रा, आलोक कुमार ने क्रमशः अंसल जी के निबंध शोध आदि का मूल्यांकन किया हैं। कमलेश व प्रेमकुमार द्वारा लिए गए साक्षात्कार उनके व्यक्तित्व के अनछुए पहलुओं से रूबरू कराने की दृष्टि से अतयंत महत्त्वपूर्ण है।

अगर देखा जाए तो अपने सभी पिछले विशेषाकों की भांति वाड्मय का यह अंक कुसुम अंसल के व्यक्तित्व एवं कृतित्त्व के समग्र मूल्यांकन की दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण बन पड़ा है। जिसके लिए सम्पादक मंडल बधाई का पात्र है।

भानु चैहान अलीगढ़



इस अंक का मूल्य-100- पृ 376

बी-4 लिबर्टी होम्स अब्दुल्लाह कालेज रोड अलीगढ़ 202002



Comments

Anonymous said…
buy phentermine buy phentermine online from uk - phentermine 30 mg en espanol
Anonymous said…
Your own aгtіcle offers proven neceѕsаry to myѕelf.
It’ѕ extremely educational аnd you're naturally quite knowledgeable in this field. You get opened up my face in order to different thoughts about this particular subject matter using intriquing, notable and solid content material.
Visit my site - davsirsa.com
fakhruddin said…
sir contect no dijye mujhe ye chahiye plz

Popular posts from this blog

साक्षात्कार

प्रो. रमेश जैन
साक्षात्कार जनसंचार का अनिवार्य अंग है। प्रत्येक जनसंचारकर्मी को समाचार से संबद्ध व्यक्तियों का साक्षात्कार लेना आना चाहिए, चाहे वह टेलीविजन-रेडियो का प्रतिनिधि हो, किसी पत्र-पत्रिका का संपादक, उपसंपादक, संवाददाता। साक्षात्कार लेना एक कला है। इस विधा को जनसंचारकर्मियों के अतिरिक्त साहित्यकारों ने भी अपनाया है। विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, हर भाषा में साक्षात्कार लिए जाते हैं। पत्र-पत्रिका, आकाशवाणी, दूरदर्शन, टेलीविजन के अन्य चैनलों में साक्षात्कार देखे जा सकते हैं। फोन, ई-मेल, इंटरनेट और फैक्स के माध्यम से विश्व के किसी भी स्थान से साक्षात्कार लिया जा सकता है। अंतरिक्ष में संपर्क स्थापित कर सकते हैं। पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री कैप्टन राकेश शर्मा से संवाद किया था, जिसे दूरदर्शन ने प्रसारित किया था। इस विधा का दिन पर दिन प्रचलन बढ़ता जा रहा है।
मनुष्य में दो प्रकार की प्रवृत्तियाँ होती हैं। एक तो यह कि वह दूसरों के विषय में सब कुछ जान लेना चाहता है और दूसरी यह कि वह अपने विषय में या अपने विचार दूसरों को बता देना चाहता है। अपने अनुभ…

समकालीन साहित्य में स्त्री विमर्श

जया सिंह


औरतों की चुप्पी सदियों और युगों से चली आ रही है। इसलिए जब भी औरत बोलती है तो शास्त्र, अनुशासन व समाज उस पर आक्रमण करके उसे खामोश कर देते है। अगर हम स्त्री-पुरुष की तुलना करें तो बचपन से ही समाज में पुरुष का महत्त्व स्त्री से ज्यादा होता है। हमारा समाज स्त्री-पुरुष में भेद करता है।
स्त्री विमर्श जिसे आज देह विमर्श का पर्याय मान लिया गया है। ऐसा लगता है कि स्त्री की सामाजिक स्थिति के केन्द्र में उसकी दैहिक संरचना ही है। उसकी दैहिकता को शील, चरित्रा और नैतिकता के साथ जोड़ा गया किन्तु यह नैतिकता एक पक्षीय है। नैतिकता की यह परिभाषा स्त्रिायों के लिए है पुरुषों के लिए नहीं। एंगिल्स की पुस्तक ÷÷द ओरिजन ऑव फेमिली प्राइवेट प्रापर्टी' के अनुसार दृष्टि के प्रारम्भ से ही पुरुष सत्ता स्त्राी की चेतना और उसकी गति को बाधित करती रही है। दरअसल सारा विधान ही इसी से निमित्त बनाया गया है, इतिहास गवाह है सारे विश्व में पुरुषतंत्रा, स्त्राी अस्मिता और उसकी स्वायत्तता को नृशंसता पूर्वक कुचलता आया है। उसकी शारीरिक सबलता के साथ-साथ न्याय, धर्म, समाज जैसी संस्थायें पुरुष के निजी हितों की रक्षा करती …

स्त्री-विमर्श के दर्पण में स्त्री का चेहरा

- मूलचन्द सोनकर

4
अब हम इस बात की चर्चा करेंगे कि स्त्रियाँ अपनी इस निर्मित या आरोपित छवि के बारे में क्या राय रखती हैं। इसको जानने के लिए हम उन्हीं ग्रन्थों का परीक्षण करेंगे जिनकी चर्चा हम पीछे कर आये हैं। लेख के दूसरे भाग में वि.का. राजवाडे की पुस्तक ‘भारतीय विवाह संस्था का इतिहास' के पृष्ठ १२८ से उद्धृत वाक्य को आपने देखा। इसी वाक्य के तारतम्य में ही आगे लिखा है, ‘‘यह नाटक होने के बाद रानी कहती है - महिलाओं, मुझसे कोई भी संभोग नहीं करता। अतएव यह घोड़ा मेरे पास सोता है।....घोड़ा मुझसे संभोग करता है, इसका कारण इतना ही है अन्य कोई भी मुझसे संभोग नहीं करता।....मुझसे कोई पुरुष संभोग नहीं कर रहा है इसलिए मैं घोड़े के पास जाती हूँ।'' इस पर एक तीसरी कहती है - ‘‘तू यह अपना नसीब मान कि तुझे घोड़ा तो मिल गया। तेरी माँ को तो वह भी नहीं मिला।''
ऐसा है संभोग-इच्छा के संताप में जलती एक स्त्री का उद्गार, जिसे राज-पत्नी के मुँह से कहलवाया गया है। इसी पुस्तक के पृष्ठ १२६ पर अंकित यह वाक्य स्त्रियों की कामुक मनोदशा का कितना स्पष्ट विश्लेषण …